वायु तूफान के 48 घंटे के बाद फिर लौटने के आसार

Samachar Jagat | Saturday, 15 Jun 2019 08:48:33 AM
After 48 hours, vayu storm, there is hope of returning

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

गांधीनगर। चक्रवाती तूफान वायु के 48 घंटे के बाद फिर से गुजरात वापस लौटने तथा 17 या 18 जून को राज्य के कच्छ तट से टकराने की ताजा चेतावनी जारी की गयी है। फिलहाल तूफान ने अपनी दिशा को बदलकर ओमान की ओर बढ़ चुका है। 
आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक चक्रवाती तूफान 17 या 18 जून को कच्छ तट से टकराएगा। 

राज्य के अतिरिक्त मुख्य सचिव (राजस्व) पंकज कुमार ने बताया कि यह अपेक्षाकृत कम तीव्रता वाला अथवा तीव्र दबाव के क्षेत्र के रूप में गुजरात तट से टकराएगा। उन्होंने कहा कि इसमें चिंता की कोई बात नहीं है और राज्य सरकार पुरी स्थिति पर नजर बनाए हुए है। 

इससे पहले गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने आज कहा कि अरब सागर में उठे चक्रवाती तूफान के दिशा बदल कर ओमान की ओर बढ़ जाने से अब राज्य से इसका खतरा पूरी तरह टल चुका है और इसके कारण 10 तटीय जिलों के निचले इलाकों से एहतियाती तौर पर स्थानांतरित किये गये करीब पौने तीन लाख लोगों को नियम के मुताबिक लगभग साढ़े पांच करोड़ रूपये की नकद सहायता दी जायेगी।

रूपाणी ने स्थिति की समीक्षा के लिए तडक़े यहां राज्य नियंत्रण कक्ष में आयोजित उच्च अधिकार प्राप्त समिति की बैठक में भाग लेने के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राज्य सरकार के कैंपों में स्थानांतरित किये गये प्रत्येक व्यस्क को 60 रूपये और बच्चे को 45 रूपये की दर से नकद सहायता यानी कैश डोल दिया जायेगा। इस पर कुल करीब साढ़े पांच करोड़ का खर्च आयेगा। ये आज से अपने घरों में लौट सकते हैं। एहतियाती तौर पर प्रभावित इलाकों में तैनात अधिकारी और मंत्री भी दोपहर बाद राजधानी अथवा अपने अपने कार्यक्षेत्र में लौट आयेंगे। 

सरकारी बस सेवा भी शाम तक पूरी तरह सुचारू हो जायेगी। सडक़ों आदि को हुए नुकसान का मरम्मत किया गया है और बाकी भी जल्द ही कर लिया जायेगा। कुल 2000 प्रभावित गांवों में से बाकी बचे 144 में बिजली आपूर्ति भी जल्द ही सुचारू हो जायेगी। तटीय इलाकों में तैनात एनडीआरएफ की टीमे एक दो दिनों तक वहीं रहेगी और उसके बाद अपने अपने आधार केंद्र पर लौट जायेंगी।
 
उन्होंने बताया कि तूफान के खतरे के बीच पिछले दो दिनों में तटीय क्षेत्र में 199 माताओं ने बच्चों को जन्म दिया है। रूपाणी ने बताया कि तूफान के खतरे से निपटने के लिए की गयी व्यापक तैयारी का दस्तावेज बनाया जायेगा जो भविष्य में तथा अन्य राज्यों में ऐसी परिस्थिति के दौरान सहायक साबित होगा।

गौरतलब है कि तूफान के गुजरात तट से दूर निकलने के बावजूद राज्य में कई स्थानों पर इसके असर से भारी वर्षा हुई है। इनमें से गिर सोमनाथ जिले के तलाला में साढ़े छह ईंच जबकि सूत्रापाड़ा में लगभग छह ईंच वर्षा दर्ज की गयी है। इसके अगले 48 घंटे के दौरान ओमान की ओर ही बढऩे की संभावना जताई गई है। एजेंसी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.