पूर्व आरबीआई गवर्नर की NPA टिप्पणी के बाद कांग्रेस और BJP में वाकयुद्ध

Samachar Jagat | Wednesday, 12 Sep 2018 12:23:02 PM
After former RBI governor's NPA comment Congress and BJP waged a war

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। पूर्व आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन की बढ़ते एनपीए (गैर निष्पादित संपत्तियां) पर की गई टिप्पणी पर कांग्रेस और भाजपा के बीच वाकयुद्ध शुरू हो गया है। विपक्षी दल का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ''पलक झपकते’’ रिण देने की नीति को एनपीए में बढ़ोतरी का कारण बताया है। वहीं भाजपा का कहना है कि राजन की टिप्पणी कांग्रेस द्वारा किए भ्रष्टाचार का ढिढोरा पीटती है।

चुनाव आयोग की टीम ने तेलंगाना की राजनीतिक पार्टियों के साथ की चर्चा 

गौरतलब है कि भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन का कहना है कि बैंक अधिकारियों के अति उत्साह, सरकार की निर्णय लेने की प्रक्रिया में सुस्ती तथा आर्थिक वृद्धि दर में नरमी डूबे कर्ज के बढ़ने की प्रमुख वजह है। राजन ने एक संसदीय समिति को दिए नोट में यह राय व्यक्त की है।  

दलितों के खिलाफ अपराध के मामले में भी नहीं होगी 'नियमित’ गिरफ्तारी: न्यायालय

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा, ''यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक ऐसी सरकार का नेतृत्व किया, जिसने भारतीय बैंकिग प्रणाली के मूल पर हमला किया। रघुराम राजन ने कहा था कि 2006-2008 के बीच संप्रग कामकाज से भारतीय बैंकिंग संरचना में एनपीए में बढ़ोतरी हुई। ईरानी ने कहा कि राजन की टिप्पणी कांग्रेस द्वारा किए भ्रष्टाचारों का ढिढोरा पीटती है। 

2019 चुनाव: महाराष्‍ट्र में BJP और शिवसेना को हराने के लिए ये है कांग्रेस की रणनीति 

इससे पहले, कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने संवाददाताओं से कहा, ''रघुराम राजन ने कहा है कि 2016 में उन्होंने बकायदा एक 'फ्रॉड रिपोîटग और मॉनीटरिग अथॉरिटी’ बनाई थी।प्रधानमंत्री कार्यालय को सब भगोड़ों के नाम भेजे थे, पर प्रधानमंत्री कार्यालय ने कुछ नहीं किया।’’ उन्होंने कहा, ''प्रधानमंत्री कार्यालय बताए कि उन्होंने भगोडों के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की?’’ . 

सुप्रीम कोर्ट ने अरावली की पहाडिय़ों में अवैध निर्माण को गिराने के आदेश दिए 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.