मोदी पर अय्यर की टिप्पणी से आया राजनीतिक भूचाल

Samachar Jagat | Friday, 08 Dec 2017 11:06:17 AM
Aiyar remarks came from political storm

नई दिल्ली। गुजरात विधानसभा चुनाव के प्रथम चरण के लिए प्रचार के अंतिम दिन कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को ‘नीच’ और ‘असभ्य’ बताने वाली टिप्पणी ने राजनीतिक घमासान मचा दिया। मोदी के जवाबी हमले से कांग्रेस बैकफुट पर आ गई और पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी के पल्ला झाड़ लेने के बाद अय्यर को माफी मांगने के लिए विवश होना पड़ा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जाएंगे फिलीस्तीन

राजधानी के जनपथ पर डॉ. अंबेडकर अंतरराष्ट्रीय केन्द्र के उद्घाटन के मौके पर प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कांग्रेस और नेहरु-गांधी परिवार का नाम लिये बगैर आरोप लगाया कि ‘एक परिवार’ को आगे बढ़ाने के लिए संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अम्बेडकर का नाम और काम मिटाने का प्रयास किया गया और अब उन्हें बाबा साहेब की जगह ‘बाबा भोले’ याद आ रहे हैं। इस पर कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने मोदी पर बेहद आपत्तिजनक टिप्पणी करते हुए उन्हे ‘असभ्य’ और ‘नीच’ तक कह डाला।

उन्होंने कहा कि ये (मोदी) बहुत नीच आदमी है। इसमें कोई सभ्यता नहीं है और ऐसे मौके पर इस किस्म की गंदी राजनीति करने की क्या आवश्यकता है। अय्यर के इस बयान के बाद देश में राजनीतिक भूचाल आ गया। राजधानी में कार्यक्रम के बाद चुनाव प्रचार के लिए गुजरात के सूरत पहुंचने पर मोदी ने तुरंत ही कांग्रेस को निशाने पर ले लिया और इस टिप्पणी को कांग्रेस की हताशा और‘सल्तनती और मुगली’मानसिकता का परिचायक बताते हुए लोगों से सामान्य तौर अथवा ट्विटर या अन्य सोशल मीडिया पर उन पर अपशब्दयुक्त जवाबी हमले नहीं करने की अपील की, पर प्रधानमंत्री और गुजरात के बेटे (स्वयं) के खिलाफ ऐसी अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल करने का बदला चुनाव के जरिए लेने को कहा।

उन्होंने एक ट्वीट भी किया, जिसमें लिखा, कांग्रेस के ‘बुद्धिमान’ नेता ने मुझे ‘नीच’ कहा है, जिसपर मुझे कुछ नहीं कहना है। यह कांग्रेस की सोच है। उनके पास उनकी भाषा है और हमारे पास हमारा काम है। लोग उन्हें वोट के जरिये जवाब दे देंगे। मोदी के जवाबी हमले से चुनावी नुकसान को भांपते हुए गांधी को स्वयं सामने आना पड़ा।

गांधी ने ट्वीट कर कहा कि वह अय्यर की भाषा और लहजे को सही नहीं मानते। उन्होंने कहा, कांग्रेस की अपनी अलग संस्कृति और विरासत है। इसलिए मैं अय्यर द्वारा प्रधानमंत्री के खिलाफ इस्तेमाल की गई भाषा और लहजे को स्वीकार नहीं करता। मैं और कांग्रेस पार्टी दोनों उम्मीद करते हैं कि वह इसके लिए माफी मांगेंगे।

NGT ने आर्ट ऑफ लिविंग को ठहराया जिम्मेदार

इसके बाद अय्यर ने बचाव की मुद्रा अख़्तियार कर ली। उन्होंने सफाई देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने बाबा साहेब अम्बेडकर के नाम पर बने केन्द्र के उद्घाटन के अवसर पर कांग्रेस और गांधी पर तीखी टिप्पणियां क्यों की? उन्होंने कहा कि मैं फ्रीलांस कांग्रेसी हूं, पार्टी में मैं किसी पद पर नहीं हूं, पार्टी का प्रवक्ता नहीं हूं, इसलिए प्रधानमंत्री को मैं उनकी भाषा में जवाब दे सकता हूं। इस ओर ध्यान दिलाए जाने पर कि गांधी ने उनसे माफी मांगने के लिए कहा है, अय्यर ने कहा कि वह गांधी से मिलेंगे और जो निर्देश मिलेगा उसका पालन करेगें।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह हिंदी भाषी नहीं है और अंग्रेजी के शब्द का मन में अनुवाद कर हिंदी बोलते हैं। उन्होंने नीच शब्द अंग्रेजी के‘लो’शब्द के लिए किया। यदि उनके द्वारा इस्तेमाल शब्द का कोई और अर्थ निकलता है तो वह इसके लिए ‘माजरत‘(माफी मांगते) करते हैं। बाद में भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह, वित्त मंत्री अरुण जेटली, कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी अय्यर की टिप्पणी को लेकर कांग्रेस को घेर लिया। 

जेटली ने कहा कि उन्हें लगता है कि प्रधानमंत्री के खिलाफ गंदी भाषा का इस्तेमाल करना और गलत सूचनाएं फैलाना कांग्रेस की सोची समझी रणनीति है। जब लोग इससे आहत होते हैं तो वे माफी मांग लेते हैं। उन्होंने कहा कि यह केवल खराब भाषा का नहीं, अपितु कांग्रेस की अभिजात मानसिकता का मामला है जो कहती है कि सिर्फ एक परिवार ही देश पर राज कर सकता है।

कोई पिछड़े तबके से प्रधानमंत्री बन जाता है तो वे उसे‘चायवाला’और ‘नीच’ कहते हैं। गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान शनिवार को होना है और गुरुवार शाम पांच बजे प्रचार समाप्त हो गया। दूसरे एवं अंतिम चरण का मतदान 14 दिसंबर को होना है तथा मतगणना 18 दिसंबर को होगी। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2017 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.