अयोध्या मामले में न्यायालय पर अशोभनीय टिप्पणी करने वालो पर हो सख्त कार्रवाई : आजम

Samachar Jagat | Monday, 07 Jan 2019 04:16:59 PM
Ayodhya verdict on the indefensible comments on the court, be strict action: Azam

वाराणसी। उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री एवं समाजवादी पार्टी (सपा) के वरिष्ठ नेता आजम खां ने अयोध्या में राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद ममाले में कथित तौर पर एकतरफा फैसले के लिए उच्चतम न्यायालय पर दबाव बनाने एवं अशोभनीय टिप्पणियां कर देश का माहौल बिगाने वालों पर सख्त कानूनी कार्रवाई करने मांग न्यायालय से की है।

खां ने रविवार को यहां कहा कि शीर्ष न्यायालय द्वारा अयोध्या विवाद की सुनवायी के लिए सिर्फ तारीख मुकर्रर करने भर की बात पर 24 घंटे में कई व्यक्तियों, संगठनों, मजबी दावेदारों एवं धर्माबलंबियों की ओर से धमकी,अपशब्द और अशेभनीय टिप्पणियां की गईं। इन अशोभनीय बयानों के सहारे सर्वोच्च अदालत को डराने के प्रयास कर देश के संविधान पर एक तरह का हमला किया गया। इसलिए इस मामले में उच्चतम न्यायालय को स्वत: संज्ञान लेकर ऐसे लोगों पर तत्काल कानूनी कार्रवाई की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि ये प्रयास अयोध्या विवाद पर सिर्फ एकतरफा फैसले के लिए किये जा रहे हैं, जिससे देश का माहौल बिगड़ सकता है। 

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं देश पर हूकूमत करने वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को सलाह देते हुए कहा कि उन्हें जिम्मेवारी लेनी चाहिए कि फैसला किसी के हक में आए तो उसे ढता से लागू करवायेगी। खां ने आरोप लगाते हुए कहा कि यह पहला मौका नहीं कि अदालती फैसलों को लेकर अशोभनीय टिप्पनियां की गईं। इससे पहले सत्ताधारी पार्टी के कई नेताओं ने कुछ धार्मिक मामलों में अपरोक्ष रुप से अदालत पर ऐसी टिप्पिनियां कीं, जिसे किसी भी तरह से उचित नहीं माना जा सकता है। 

उन्होंने एक सवाल पर कहा कि अयोध्या में 1949 से ही राम मंदिर है और वहां रामलला विराजमान हैं। उन्होंने तंज भरे लहजे में कहा कि वर्ष 1992 में शिवसेना ने बाबरी मस्जिद ढ़हा दी, लेकिन उसका लाभ भाजपा उठा रही है। भाजपा ने कभी नहीं चाहा कि अयोध्या में राम मंदिर बने, वह तो ‘जख्मों’ को भजदा रखकर जनता का वोट हासिल करना चाहती रही है।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.