पाकिस्तान की किताबों में बच्चों को पढ़ाया जाता है गलत इतिहास, जानिए

Samachar Jagat | Thursday, 04 Apr 2019 03:29:15 PM
Books in Pakistan are taught to children, Wrong history, know

नई दिल्ली। भारत और पाकिस्तान ने करीब 200 साल तक अंग्रेजों की गुलामी सही है। दोनों देश एक साथ 71 साल पहले आजाद हुआ था। लेकिन तभी से ही दोनों देशों के बीच ताल्लुकात सहीं नहीं रहे है। आजादी से पहले दोनों देश एक ही थे। तो इससे स्पष्ट है कि आजादी से पूर्व दोनों का इतिहास भी समान ही होगा। ले​किन चौकाने वाली बात यह है कि भले ही दोनों देशों का इतिहास समान रहा हो, लेकिन दोनों देशों के बच्चे अलग—अलग इतिहास पढ़ते है। आइए जानते है कि आखिर विभाजन, स्वतंत्रता आंदोलन, भारत-पाक के बीच हुए युद्ध के बारे में पाकिस्तान में क्या पढ़ाया जाता है...

भारत और पाकिस्तान के बीच जिस बात को लेकर सबसे ज्यादा तनाव है वह कश्मीर मामला है। कश्मीर के मुद्दे पर दोनों देशों में अलग जानकारी दी जाती है। इस मसले पर भारत की किताबों में पढ़ाया जाता है कि कश्मीर के राजा हरि सिंह पहले किसी भी देश के साथ नहीं रहना चाहते थे। वे अपना अलग से राज्य चाहते थे। लेकिन बाद में जब घुसपैठियों ने कश्मीर पर हमला बोला तो राजा हरि सिंह ने भारत में शामिल होने का फैसाल लिया। लेकिन पाकिस्तान की किताबों में इस मसले को लेकर पढ़ाया जाता है कि हरि सिंह ने कश्मीर में मुस्लिमों के साथ गलत व्यवहार किया था। इसके बाद कुछ लडाकों ने कश्मीर के एक बडे हिस्से को आजाद करवा लिया। इस कारण से हरि सिंह ने भारत में शामिल होने का निर्णय लिया था। 


इसके अलावा दोनों देशों के विभाजन को लेकर पाकिस्तान की कक्षा 12वीं की एक किताब में पढाया जाता है कि अंग्रेजों से आजादी मिलने के बाद मुसलमान चाहते थे कि एक ऐसी सरकार का गठन हो जो कि पूरी तरह से इस्लाम के नियमों पर आधारित हो। हालांकि वे इस बात को जानते थे कि भारत में हिंदूओं की संख्य ज्यादा है, इसलिए वहां पर हिंदू कानून बनाएंगे और इन कानूनों में मुस्लिमों को एक अछूत की तरह देखा जाएगा। इसके साथ ही मुसलमानों को इस बात का भी डर था कि कहीं मुस्लिम हिंदुओं के गुलाम न बन जाएं।  

विभाजन को लेकर पाकिस्तान में पंजाब प्रांत की कक्षा 4 की किताबों में बताया गया है कि विभाजन हिंदुओं की गलती के कारण हुआ है। किताब में लिखा है ​कि विभाजन के समय जब पाकिस्तान के मुसलमान पाक को छोडकर भारत जा रहे थे, तो यहां के मुस्लिम उनकी मदद कर रहे थे। लेकिन भारत से पाकिस्तान आने वाले मुस्लिमों को लूटा जा रहा था और उन पर अत्याचार किया जा रहा था। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.