जेल में बंद मां से अलग हुए बच्चों को उनसे नियमित मिलने दिया जाए : मेनका

Samachar Jagat | Sunday, 16 Sep 2018 02:47:38 PM
Children separated from mother in prison should be allowed to meet them regularly: Maneka

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने सुझाव दिया है कि जेल में बंद मांओं से अलग किए गए बच्चों को हफ्ते में कम से कम तीन बार उनसे मिलने दिया जाए। बच्चों की तस्करी के मामले सामने आने के बीच यह सुझाव आया है। महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मंत्रालय ने गृह मंत्रालय को लिखा है कि जेल नियमावली में ऐसे प्रावधान को शामिल किया जाए जिसके तहत बच्चे जेल में बंद मां से हफ्ते में तीन बार मिल सकें जिससे महिला का बच्चों से संपर्क कम न हो। 

जोगी कोई फैक्टर नहीं, सामूहिक नेतृत्व में चुनाव लड़ेगी कांग्रेस: छत्तीसगढ़ प्रभारी पुनिया 

गांधी ने कहा, ''जब जेल में कोई बच्चा पैदा होता है तो मां पांच वर्ष की उसका पालन-पोषण वहां कर सकती है और पांच साल की उम्र के बाद अचानक बच्चे को मां से अलग कर दिया जाता है। हमनें पाया कि जिन मांओं से उनके बच्चे अलग हुए, उनमें से आधों को अपने बच्चों के बारे में कुछ पता नहीं रहता। उनमें से कई तस्करी हो जाते हैं।’’ 

माल्या प्रकरण में प्रधानमंत्री, वित्त मंत्री और सीबीआई की भूमिका की जांच हो: कांग्रेस 

उन्होंने कहा, ''हम जेल नियमावली के तहत एक प्रावधान की योजना बना रहे है कि अगर बच्चा अलग किया जाता है तो उसे हफ्ते में तीन बार अपनी मां से मिलने का मौका दिया जाए और बच्चे को जिले से बाहर ले जाने की इजाजत नहीं दी जाए।’’ मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि प्रस्ताव उन खबरों के बाद आया है जिनमें कहा गया है कि जेल से रिहा होने के बाद कई बार मां अपने बच्चों की तलाश नहीं कर पाती हैं।  

राजीव गांधी हत्याकांड के दोषियों की रिहाई का मामला केंद्र को संदर्भित नहीं किया: राज भवन 

पेट्रोल.डीजल की महंगाई और रुपए में गिरावट चिंता का विषय : शाह 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.