चुनाव आयोग के गठन के लिए बने कॉलेजियम : माकपा

Samachar Jagat | Tuesday, 11 Jun 2019 10:32:20 AM
Colleges made for the formation of Election Commission: CPI (M)

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने चुनावी बांड को .खत्म करने की मांग की है और कहा है कि देश में निष्पक्ष एवं स्वतंत्र चुनाव सुनिश्चित करने के लिए मुख्य चुनाव आयुक्त एवं आयोग के अन्य सदस्यों की नियुक्ति की खातिर राष्ट्रपति की अध्यक्षता में एक कॉलेजियम गठित किया जाना चाहिए।

माकपा की केंद्रीय समिति की तीन दिवसीय बैठक में 17वीं लोकसभा के चुनाव में पार्टी की हार के कारणों की समीक्षा की गई जिसमें चुनावी बांड समाप्त करने के साथ साथ कॉलेजियम के गठन पर सहमति व्यक्त की गई। 

पार्टी महासचिव सीताराम येचुरी ने बैठक में हुए विचार विमर्श की जानकारी देते पत्रकारों को बताया कि हाल के चुनाव के अनुभव को देखते हुए यह महसूस किया गया कि चुनाव सुधारों को लागू करने के लिए तुरंत कदम उठाने की जरूरत है और चुनाव आयोग के गठन की प्रक्रिया बदलने की भी आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि चुनावी बांड तुरंत .खत्म किया जाना चाहिए क्योंकि इससे चुनाव में भ्रष्ट्राचार को कानूनी जामा पहना दिया गया है। इसके अलावा चुनाव खर्च सरकार को वहन करना चाहिए। सरकार द्वारा चुनाव खर्च वहन करने का अर्थ यह नही है कि सरकार राजनीतिक दलों को धन दे बल्कि चुनाव में पार्टियों को विभिन्न सुविधाएं उपलब्ध कराये। उन्होंने कहा कि माकपा सभी राजनीतिक दलों को इस बात के लिए एक जुट करेगी कि चुनाव आयोग का गठन सरकार न करे बल्कि इसके लिए राष्ट्रपति की अध्यक्षता में कॉलेजियम गठित किया जाय। 

चुनाव में ईवीएम मशीन में गड़बड़ी संबंधी शिकायतों के बारे में उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी ऐसी रिपोर्टों का अध्ययन करेगी और विभिन्न राजनीतिक दलों के साथ मिलकर भविष्य की कारवाई तय करेगी। 

श्री येचुरी ने कहा कि पार्टी को मजबूत करने के बारे में 2015 में कोलकाता में पार्टी के सम्पूर्ण अधिवेशन में लिए गये फैसलों के क्रियान्वयन की समीक्षा राज्य इकाइयां करेंगी और उसकी रिपोर्ट अगस्त तक पेश करेंगी जिसके आधार पर भविष्य की कारवाई तय की जायेगी।।

यह पूछे जाने पर कि क्या लोकसभा चुनाव में पार्टी की हार के लिए पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष सूर्य कान्त मिश्र इस्तीफा देंगे, उन्होंने कहा कि माकपा में कोई एक व्यक्ति हार के लिए जिम्मेदार नहीं होता क्योंकि पार्टी में सामूहिक जिम्मेदारी होती है। श्री येचुरी ने कहा ‘‘चुनाव के नतीजे आने पर मैंने खुद कहा था कि नैतिक रूप से हार की व्यक्तिगत जिम्मेदारी लेता हूँ।’’ -(एजेंसी)



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.