गड्ढों की वजह से मौत अस्वीकार्य, शायद सीमा पर मौत से अधिक है यह आंकड़ा : न्यायालय

Samachar Jagat | Thursday, 06 Dec 2018 02:52:04 PM
Death due to pits is unacceptable, probably above the death on the border This figure:court

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नयी दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने सडक़ों पर गड्ढों की वजह से पिछले पांच साल के दौरान हुई दुर्घटनाओं में 14,926 लोगों की मौत पर बृहस्पतिवार को चिंता  व्यक्त करते हुये इसे ‘अस्वीकार्य’ बताया। न्यायमूर्ति मदन बी. लोकूर, न्यायमूर्ति  दीपक गुप्ता और न्यायमूर्ति हेमंत गुप्ता की पीठ ने कहा कि सडक़ों पर गड्ढों के कारण होने वाली मौतों का आंकड़ा ‘‘संभवत: सीमा पर या आतंकवादियों द्वारा की गई हत्याओं से ज्यादा है।


पीठ ने कहा कि 2013 से 2017 के बीच सडक़ों पर गड्ढों के कारण हुई मौतों का आंकड़ा यही दिखाता है कि संबंधित प्राधिकारी सडक़ों का रखरखाव सही तरीके से नहीं कर रहे हैं। न्यायालय ने भारत में सडक़ों के गड्ढों के कारण होने वाली मौतों के मामले में शीर्ष अदालत के पूर्व न्यायाधीश के. एस. राधाकृष्णन की अध्यक्षता वाली उच्चतम न्यायालय की सडक़ सुरक्षा समिति की रिपोर्ट पर केन्द्र से जवाब मांगा है। न्यायालय ने इस मामले को जनवरी में सुनवाई के लिये सूचीबद्ध किया है।

शीर्ष अदालत ने 20 जुलाई को इस तरह की मौतों पर चिंता व्यक्त करते हुये टिप्पणी की थी ऐसी दुर्घटनाओं में होने वाली मृत्यु के आंकड़े आतंकी हमलों में मारे गये लोगों की संख्या से अधिक हैं। पीठ ने इस स्थिति को भयावह बताते हुये शीर्ष अदालत की समिति से इस मामले में सडक़ सुरक्षा के बारे में गौर करने का अनुरोध किया था।

न्यायालय ने कहा था कि यह सर्वविदित है कि इस तरह के हादसों में बड़ी संख्या में लोगों की मृत्यु होती है और वे प्राधिकारी, अपना काम ठीक तरह से नहीं कर रहे हैं जिनकी जिम्मेदारी सडक़ों के रखरखाव की है। देश में सडक़ सुरक्षा से संबंधित एक याचिका पर सुनवाई के दौरान सडक़ों पर गड्ढों का मुद्दा उठा था। एजेंसी

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.