गंगा को अविरल और निर्मल बनाने के लिए FRI ने तैयार किए 32 मॉडल

Samachar Jagat | Sunday, 12 Aug 2018 11:31:59 AM
FRI prepared 32 models to make Ganga uninterrupted and clean

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

देहरादून। देहरादून स्थित प्रतिष्ठित वन अनुसंधान संस्थान ने गंगा को अविरल और निर्मल बनाने के लिए 'फारेस्ट्री इंटरवेंशन फॉर गंगा' परियोजना की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) में इसके तट पर स्थित पांचों राज्यों में उनके प्राकृतिक परिदृश्य के आधार पर 32 विभिन्न मॉडल तैयार किए हैं। 

श्रीनगर में सेना और आतंकवादियों की मुठभेड़, पुलिस का जवान शहीद 

केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी 'नमामि गंगे' योजना के अन्तर्गत वानिकी हस्तक्षेप हेतु बनाई गई इस डीपीआर में संस्थान ने 2525 किलोमीटर लंबी गंगा पर बढ़ रहे जैविक दबाव को कम करने के लिए उसके उदगम स्थल उत्तराखंड से पश्चिम बंगाल तक हर जगह के स्थानीय प्राकृतिक परिदृश्य के हिसाब से अलग- अलग मॉडल तैयार किये हैं जिनमें मृदा संरक्षण, जल संरक्षण, खर- पतवार नियंत्रण, वृक्षारोपण और पारिस्थितिकीय पुनर्जीवन जैसे महत्वपूर्ण पहलुओं को भी शामिल किया गया है। 

उत्तराखंड के गोमुख से निकलने वाली गंगा उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड से गुजरते हुए पश्चिम बंगाल में प्रवेश करती है और बंगाल की खाड़ी में जाकर विलीन हो जाती है। वानिकी हस्तक्षेप की 2293 करोड़ की इस परियोजना की डीपीआर से जुडे वैज्ञानिकों का दावा है कि इस तरह के मॉडल लागू किए जाने से इन राज्यों की कृषि उत्पादकता भी बढ़ेगी। 

विश्व की सौ सबसे प्रभावी डिजिटल हस्तियों में शामिल हुईं सीएम वसुंधरा राजे 

इस डीपीआर में गंगा के किनारे बसे राज्यों में रिवरफ्रंट बनाये जाने पर भी जोर दिया गया है। डीपीआर में कानपुर तथा अन्य औद्योगिक शहरों में लगे उद्योगों को भी अपने यहां खास प्रजाति के पेड़ लगाने को कहा गया है ताकि उनके जरिये गंगा में होने वाले प्रदूषण पर अंकुश लग सके। इस डीपीआर में नदी तट वन्यजीव प्रबंधन पर भी जोर दिया गया है जिसके तहत लगातार कम होते जा रहे डॉल्फिन जैसे जीवों के संरक्षण पर भी ध्यान दिया जा सके। 

इस डीपीआर को लागू करने के लिए मुख्य कार्यदायी संस्था उन राज्यों के वन विभागों को बनाया गया है जिन से होकर गंगा बहती है। इस परियोजना की निगरानी भी इन्हीं राज्यों के वन विभाग करेंगे। हालांकि, संस्थान का कहना है कि किसी भी राज्य द्बारा इस संबंध में मदद मांगे जाने पर संस्थान हर तरह से तैयार है। 

भाजपा पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के खिलाफ मानहानि का मामला करेगी दर्ज 

इस 2293 करोड़ रुपए की परियोजना में पांच राज्यों में से, सबसे ज्यादा 885.91 करोड रुपए उत्तराखंड में खर्च होंगे जिसमें 54855.43 हेक्टेअर क्षेत्र आच्छादित होगा। दूसरा सबसे बडा क्षेत्र पश्चिम बंगाल का है जहां 35432 हेक्टेअर क्षेत्र के लिए 547.55 करोड रू खर्च किए जायेंगे।  वर्ष 2016 की शुरूआत में आरंभ हो चुकी यह परियोजना पांच राज्यों में 110 वन प्रभागों में लागू की जायेगी। वैसे सभी पांच राज्यों में मुख्य काम शुरू होने बाकी हैं।

इस डीपीआर को बनाने के लिए संस्थान ने नदी तट पर स्थित पांच राज्यों में विस्तृत बातचीत प्रक्रिया को अपनाने के अलावा मल्टी डिसिप्लिनेरी एक्सपर्टाइज (विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों) की सहायता भी ली। इसके लिए रिमोट सेंसिंग और जीआईएस तकनीक का भी प्रयोग किया गया ताकि हर जगह की जरूरत के हिसाब से सटीक वृक्षारोपण मॉडल बनाए जाएं। 

इस संबंध में संस्थान की निदेशक डा सविता ने कहा कि डीपीआर के लागू होने से वृक्षारोपण की प्रक्रिया को एक नया आयाम मिलेगा जिससे स्थानीय समुदाय के हित भी सुरक्षित होंगे। उनका मानना है कि इस परियोजना से मिलने वाली सफलता अन्य नदियों के पुनर्जीवन के लिए भी मॉडल का काम करेगी। 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...


Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.