इलाहाबाद में गंगा खतरे के निशान की ओर

Samachar Jagat | Saturday, 04 Aug 2018 03:34:41 PM
Ganga towards danger mark in Allahabad

इलाहाबाद। तीर्थराज प्रयाग में गंगा और यमुना में लगातार बढ़ रहा जलस्तर धीरे धीरे खतरे के निशान की ओर बढ़ रहा है। बाढ़ नियंत्रण कक्ष द्वारा प्राप्त आंकड़ों के अनुसार पहाड़ी क्षेत्रों में हो रही लगातार बरसात से गंगा और मध्यप्रदेश बरसात से केन और बेतवा नदी का जलस्तर में उफान आने चंबल के रास्ते यमुना में पहुंचने से धीरे-धीरे बाढ की ओर बढ रही है। 

पिछले मंगलवार की तुलना में फाफामऊ में गंगा का जलस्तर शनिवार को 91 सेंटीमीटर, छतनाग में 26 सेंटीमीटर और नैनी में 15 सेंटीमीटर ऊपर दर्ज किया गया है। गंगा का खतरे का निशान 84.734 रेखांकित किया गया है।

शनिवार को फाफामऊ में गंगा का जलस्तर 79.31, छतनाग में 77.34 और नैनी में 77.97 मीटर दर्ज किया गया है। पिछले मंगलवार को फाफामऊ में 78.40, छतनाग में 77.08 और नैनी में 77.82 मीटर दर्ज किया गया था। गंगा का बहाव प्रति घंटा आधा सेंटीमीटर बढ़ रहा है। गंगा और यमुना में फिलहाल बाढ़ के खतरे के मद्देनजर नाव संचालन पर रोक लगा दी गयी है। 

घूरपुर क्षेत्र में यमुना की बाढ़ को रोकने के लिए जीभ की आकृति की चट्टान उभरी हुई है जिसे लोग जिभिया चट्टान कहते हैं। क्षेत्रीय लोगों का कहना है कि यदि जीभ की आकार का चट्टान नहीं होती तो बाढ़ का पानी उत्तर दिशा में न/न जाकर पूरब की दिशा में बहता जिससे सौ से अधिक गांव बाढ में डूब जाते। एजेंसी 
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.