सार्वजनिक परिवहन पर सरकार का जोर; कैब उपयोगकर्ताओं की संख्या एक करोड़ होने की उम्मीद: गडकरी

Samachar Jagat | Friday, 02 Nov 2018 11:23:00 AM
Government's emphasis on public transport; The number of cab users expected to be 10 million: Gadkari

नयी दिल्ली। सरकार सार्वजनिक परिवहन को बढ़ावा देने पर ध्यान दे रही है क्योंकि अगले दो-तीन सालों में प्रतिदिन कैब उपयोग करने वालों की संख्या बढक़र एक करोड़ तक पहुंच सकती है। वर्तमान में रोज 35 लाख लोग कैब सेवा का इस्तेमाल करते हैं। केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने बृहस्पतिवार को यह बात कही।

गडकरी ने कहा कि प्रदूषण के लगातार बढ़ते स्तर को देखते हुये सरकार चाहती है कि लोग निजी वाहन खरीदने और उसका प्रयोग करने से बचे।
उन्होंने कहा कि सरकार का एथनॉल और मेथनॉल जैसे वैकल्पिक ईंधनों से चलने वालों वाहनों को बढ़ाना देने पर ध्यान दे रही है। इसके लिये इलेक्ट्रिक वाहनों पर भी जोर दिया जा रहा है। पुणे, मुंबई, नवी मुंबई और गुवाहटी में मेथनॉल बसों के लिये चार पायलट परियोजनायें चल रही है।
ओला मोबिलिटी इंस्टीट्यूट की ‘ईज ऑफ मूविंग इंडेक्स इंडिया रिपोर्ट‘ पेश किये जाने के मौके पर केंद्रीय मंत्री ने कहा, ’’सार्वजनिक परिवहन प्रणाली लोकप्रिय होनी चाहिये ... वर्तमान में करीब 35 लाख लोग रोज कैब कंपनियों (कैब एग्रीगेटर्स) की सेवाएं लेते हैं। अगले दो-तीन साल में यह आंकड़ा बढक़र एक करोड़ पहुंच सकता है।

गडकरी ने कहा कि कंपनियों को एक यात्री के लिये बाइक सेवाएं भी शुरू करनी चाहिये। यह लोगों को रोजगार भी प्रदान करेगी। साथ ही इलाहाबाद में होने वाले कुंभ मेले को ध्यान में रखते हुये एरो बोट्स में भी निवेश पर विचार करना चाहिये। कैब कंपनियों द्वारा फ्लैक्सी किराये के संबंध में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कारोबार में कई सारी कैब कंपनियों होने के चलते कंपनियों को प्रतिस्पर्धी होना पड़ेगा और कीमतों को कम करना होगा। 

उन्होंने कहा कि अधिक प्रदूषण और वाहनों की संख्या में वृद्धि को देखते हुये सरकार चाहती है कि लोग निजी कारों का उपयोग करने से बचे और दिल्ली-जयपुर, दिल्ली-आगरा, दिल्ली-चंडीगढ़ जैसे लंबी दूरी की यात्राओं के लिये डबल डेकर बस पेश करने का सुझाव दिया है। इसके अलावा उन्होंने लोगों से साइकिल का उपयोग करने का भी आग्रह किया है। एजेंसी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.