हिल्सा से 275 और भारतीय तीर्थयात्रियों को सुरक्षित निकाला 

Samachar Jagat | Thursday, 05 Jul 2018 08:24:57 PM
Hilsa secures 275 Indian pilgrims safely

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

काठमांडो। तिब्बत में कैलाश मानसरोवर यात्रा से लौटने के दौरान खराब मौसम के कारण नेपाल के पहाड़ी इलाके हिल्सा में फंसे करीब 275 और भारतीयों को गुरुवार को निकाल लिया गया। हेलीकॉप्टर लगातर फंसे हुए श्रद्धालुओं को निकालने के लिए चक्कर लगा रहे हैं।

भारतीय दूतावास ने यहां बताया कि हिल्सा से गुरुवार को 275 लोगों को निकाला गया। बीते तीन दिनों में 675 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। हिल्सा में आधारभूत सुविधाएं नहीं है जबकि सिमीकोट में यात्रियों को उतारने, संचार और चिकित्सा सुविधाएं मौजूद हैं।

दूतावास ने कहा कि पिछले तीन दिन में, करीब 675 लोगों को हिल्सा से सिमिकोट पहुंचाया गया है, इस दौरान 53 उड़ानों का संचालन किया गया और सेना और एमआई 16 के हेलीकॉप्टर समेत हेलीकॉप्टरों ने 142 फेरे लगाए।

दूतावास ने एक बयान में बताया कि मिशन ने हिल्सा और सिमिकोट के बीच 55 उड़ानों का संचालन किया और हिल्सा से 275 श्रद्धालुओं को निकाला। हिल्सा और सिमिकोट के बीच उड़ानें जारी हैं।

उसने कहा कि मिशन में एक फेरे में अतिरिक्त 20-25 श्रद्धालुओं को निकालने के लिए निजी एमआई-16 हेलीकॉप्टर भी सेवा में लगाया है। हेलीकॉप्टर दो-तीन $फेरे लगा सकते हैं ।

 सिमिकोट और सुरखेत में मिशन का अस्थायी दफ्तर पूरी तरह से काम कर रहा है।  दूतावास ने कहा कि पिछले तीन दिनों में फंसे हुए 883 तीर्थयात्रियों को सिमिकोट से नेपालगंज और सुरखेत पहुंचाया गया है।

तीर्थयात्रियों को सुरखेत से नेपालगंज ले जाने के लिए बस सेवा मुहैया कराई गई है।  मौसम में सुधार के साथ ही, दोपहर को दूतावास ने 26 उड़ानों का संचालन किया और नेपाली सेना के हेलीकॉप्टर ने एक फेरा लगाया और 389 श्रद्धालुओं को सुरखेत और नेपालगंज पहुंचाया।

दूतावास सभी श्रद्धालुओं को सडक़ रास्ते से सुरखेत से नेपालगंज पहुंचाने के लिए सात बसें चला रहा है। खराब मौसम के कारण सोमवार तक जिले में विमानों का आवागमन बाधित हो गया था।

वहां विमानों का इंतजार कर रहे लोगों के लिए अत्यधिक ऊंचाई पर ऑक्सीजन का कम दबाव होना बड़ी चिंता है। इस साल ऑक्सीजन की कमी के कारण पहले ही आठ श्रद्धालुओं की मौत हो चुकी है। भारतीय दूतावास के अधिकारी ने स्पष्ट किया कि पिछले करीब छह दिन में फंसे होने के कारण सिर्फ एक मौत हुई है। 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...


Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.