गत कुछ सालों में बढ़ी असहिष्णुता और भीड़ द्वारा हिंसा की घटनाएं: मनमोहन सिंह

Samachar Jagat | Monday, 20 Aug 2018 07:42:55 PM
Increased intolerance and incidents of violence by crowd in past few years: Manmohan Singh

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सोमवार को कहा कि देश में गत कुछ सालों के भीतर असहिष्णुता, सांप्रदायिक ध्रुवीकरण और भीड़ द्बारा हिसा की घटनाएं बढ़ी हैं और इस तरह के चलन को रोकने के लिए सभी को एकजुट होना होगा,क्योंकि इस तरह की घटनाओं से सिर्फ राष्ट्रीय हित को नुकसान पहुंचता है।

वॉलमार्ट-फ्लिपकार्ट सौदे के खिलाफ कैट का 28 सितंबर को भारत बंद का ऐलान

मनमोहन सिंह सोमवार को यहां 'राजीव गांधी राष्ट्रीय सद्भावना पुरस्कार’ के कार्यक्रम में बोल रहे थे। इस बार यह पुरस्कार पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपाल कृष्ण गांधी को दिया गया। सिंह ने कहा कि ये गंभीर चिता का कारण है कि हमारा देश गत कुछ सालों मेें परेशान करने वाले चलन का साक्षी बना है।

बढ़ती असहिष्णुता, सांप्रदायिक ध्रुवीकरण कुछ समूहों द्बारा बढाई जा रही घृणा एवं हिसा की बढ़ती घटनाएं तथा भीड़ का काननू अपने हाथ में लेने का यह चलन सिर्फ हमारे देश के राष्ट्रीय हित को नुकसान पहुंचा सकता है। उन्होंने कहा कि यह चलन शांति, राष्ट्रीय एकीकरण और सांप्रदायिक सौहार्द को बढ़ावा देने के संदर्भ में अभिशाप हैं।

अब शायद हमें ठहरने और सोचने की जरूरत है कि हम कैसे एकजुट हो कर इन चलन को रोक सकते हैं। पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि यह सौभाग्य की बात है कि आज के समय में गोपाल कृष्ण गांधी जैसे व्यक्ति हमारे बीच हैं। मुझे विश्वास है कि वह देश और लोगों की सेवा के अपने बेहतरीन रिकॉर्ड को जारी रखेंगे। उन्होंने कहा कि गोपाल कृष्ण गांधी का लंबा और उल्लेखनीय करियर रहा है।

सिटी ग्रुप ने हाउसिंग डॉट कॉम, प्रोप टाइगर, मकान डॉट कॉम में किया 3.5 कराड़ डॉलर निवेश

वह लंबे समय तक धर्मनिरपेक्षता, सहिष्णुता और विविधता के प्रति सम्मान की आवाज रहे हैं। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को याद करते हुए सिह ने कहा कि यह अपने प्रिय नेता राजीव गांधी को श्रद्धांजलि देने का मौका है। हम उन मूल्यों का अनुसरण करते हैं जिनको राजीव जी ने हमेशा जिया और उनके आधार पर काम किया।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.