बढ़ती युवा आबादी को बेहतर रोजगार के अवसर दिलाना नई सरकार की सबसे बड़ी प्राथमिकता होनी चाहिए

Samachar Jagat | Sunday, 26 May 2019 01:49:22 PM
Increasing employment opportunities for the growing young population should be the biggest priority of the new government

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। आम चुनावों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) को अप्रत्याशित सफलता मिली है। मोदी की अगुवाई में राजग एक बार फिर केन्द्र में सत्ता संभालने जा रहा है। केन्द्र की नई सरकार के समक्ष क्या होगी सबसे बड़ी चुनौती, उसका समाधान क्या हो सकता है ? पेश हैं इस बारे में देश के सबसे पुराने उद्योग मंडलों में से एक पीएचडी वाणिज्य एवं उद्योग मंडल के मुख्य अर्थशास्त्री डॉ. सत्यप्रकाश शर्मा से भाषा के सवाल और उनके जवाब : 

सवाल : आम चुनाव हो चुके हैं। नई सरकार के समक्ष सबसे बड़ी चुनौती क्या होगी ?

जवाब : केन्द्र में सत्ता संभालने वाली नई सरकार के समक्ष आज सबसे बड़ी चुनौती बढ़ती युवा आबादी को उपयुक्त रोजगार उपलब्ध कराना है। देश की आबादी में आज युवाओं की संख्या बहुत बड़ी है। इस बढ़ती युवा आबादी को बेहतर रोजगार के अवसर दिलाना सरकार की सबसे बड़ी प्राथमिकता होनी चाहिए। 

मोदी के शपथग्रहण में विश्व नेताओं को निमंत्रण पर अभी कोई निर्णय नहीं

सवाल : देश में वर्तमान में रोजगार की स्थिति क्या है? कैसे बढ़ सकते हैं रोजगार?

जवाब : रोजगार तेजी से बढ़ रहे हैं अथवा कम बढ़ रहे हैं इसके बारे में फिलहाल कोई पुख्ता आंकड़े हमारे सामने नहीं हैं। लेकिन इतना अवश्य कहा जा सकता है कि जिस तेजी से रोजगार चाहने वालों की संख्या बढ़ रही है उस तेजी से रोजगार पैदा नहीं हो रहे हैं। पिछले कुछ सालों से देश लगातार 7 से 8 प्रतिशत की आर्थिक वृद्धि दर हासिल कर रहा है। आर्थिक वृद्धि के साथ साथ रोजगार के अवसर भी बढ़े होंगे। लेकिन इस गति को और तेज करने की आवश्यकता है। आने वाले सालों में आर्थिक वृद्धि की गति को बढ़ाकर 9 से 10 प्रतिशत पर ले जाने की आवश्यकता है तभी रोजगार के अवसरों में भी तेजी आएगी। 

राहुल गांधी ही कांग्रेस को सही दिशा दे सकते हैं: अविनाश पांडे

सवाल : आर्थिक वृद्धि की गति बढ़ाने के लिए क्या कदम उठाए जाने चाहिए?

जवाब : इस दिशा में सबसे पहला कदम यह हो सकता है कि हम अपने सूक्ष्म, लघु और मझोले उद्योगों (एमएसएमई) को प्रोत्साहन दें। देश में कुल मिलाकर छह करोड़ से अधिक एमएसएमई विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत हैं। इनमें एक- दो और लोगों को भी रोजगार मिलेगा तो रोजगार के कई अवसर पैदा हो जाएंगे। इन उद्योगों को कारोबार बढ़ाने के लिए अनुकूल माहौल उपलब्ध कराने की जरूरत है। श्रम कानूनों की जटिलता दूर होनी चाहिए। दूसरा, इन उद्योगों के लिए त्वरित और सस्ती वित्तीय सुविधा उपलब्ध कराई जानी चाहिए। सरकार को चाहिए कि छोटे उद्योगों को भी मुद्रा योजना के साथ जोड़ दिया जाए ताकि उन्हें भी बिना गारंटी के वित्त सुविधा उपलब्ध हो सके।

सवाल : और कौन से क्षेत्र हैं जहां रोजगार के अवसर बढ़ सकते हैं?

जवाब : पर्यटन क्षेत्र में तुरंत सुधार लाकर रोजगार के अवसर बढ़ाए जा सकते हैं। -एजेंसी
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.