अब इस बात के लिए राजी हुए भारत और पाकिस्तान

Samachar Jagat | Saturday, 01 Sep 2018 09:57:43 AM
Indo-Pak agreed to tour on both sides of Indus Valley

लाहौर/नई दिल्ली। भारत और पाकिस्तान सिंधु जल संधि के प्रावधानों के तहत अपने-अपने आयुक्तों के सिंधु घाटी का दोनों तरफ दौरा कराने की बात पर सहमत हुए हैं। यह निर्णय जम्मू कश्मीर में पाकल दुल और निचली कलनाई समेत विभिन्न पनी-बिजली परियोजनाओं से जुड़े मुद्दों को हल करने के लिए लिया गया है। नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि सिंधु जल संधि के बारे में दो दिनों की उच्च स्तरीय बैठक में 1960 की इस संधि के तहत आने वाले मुद्दों पर सिंधु नदी स्थायी आयोग की भूमिका मजबूत करने पर चर्चा हुई।

अमेरिका और कनाडा में नाफ्टा पर नहीं बन पायी सहमति

यह 18 अगस्त को इमरान खान के पाकिस्तान का प्रधानमंत्री बनने बाद दोनों देशों के बीच यह पहली आधिकारिक बैठक थी। मंत्रालय ने कहा कि दोनों देश संधि के तहत दोनों तरफ पडऩे वाले सिंधु थाला क्षेत्र का दौरा आयोजित कराने पर सहमत हुए हैं। इस बात पर भी सहमति जताई गई है कि आपसी सहमति से तय तिथि को अगली बैठक भारत में की जाएगी।

बिमार पिता का बहाना कर काम से ले गया नाबालिग लडक़ी को और फिर...

पाकिस्तान की मीडिया खबरों के अनुसार, भारत ने पाकिस्तान की आपत्तियों को दूर करने के लिए उसके विशेषज्ञों को चिनाब नदी पर बन रही पाकलदुल (1000 मेगा वाट) और निचली कलनाई जलविद्युत परियोजना (48 मेवा) इलाके का दौरा करने का निमंत्रण दिया है। हालांकि भारत ने पानी-बिजली परियोजनाओं के निर्माण को लेकर पाकिस्तान की आपत्तियों को खारिज कर दिया। एक अधिकारी ने कहा है कि भारत ने दोनों पानी-बिजली परियोजनाओं पर काम जारी रखने का संकेत दिया है।

घर में इस हालत में मिला डॉक्टर, देखकर पुलिस के भी खड़े हो गए रौंगटे

पाकिस्तान के जल संसाधन सचिव एस अहमद ख्वाजा ने समाचार पत्र डान से कहा कि लाहौर में दो दिन की बातचीत की यह बड़ी सफलता है कि भारत ने परियोजना स्थलों पर हमारे विशेषज्ञों को आने की अनुमति दी है। इसीलिए हमारे विशेषज्ञ अगले महीने के अंत तक भारत की यात्रा करेंगे। उन्होंने कहा कि हमारे विशेषज्ञ परियोजना स्थल का निरीक्षण करेंगे और यह देखेंगे कि सिंधु जल संधि (आईडब्ल्यूटी) के तहत निर्माण हो रहा है कि नहीं।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.