कैलाश यात्रियों की 10वें और 11वें दल की यात्रा प्रभावित

Samachar Jagat | Saturday, 18 Aug 2018 07:37:38 PM
Kailash passengers affected by 10th, 11th party visit

नैनीताल। खराब मौसम और विदेश मंत्रालय की गलत नीति के चलते कैलाश यात्री इस बार कई दुश्वारियों से गुजर रहे हैं। इस बार की यात्रा के दौरान लगातार अनिश्चितता बनी हुई है जबकि ग्यारहवें दल के यात्रियों को बीजा खत्म होने का दंड भी भुगतना पड़ रहा है। दल अपने तय कार्यक्रम से एक हफ्ते की देरी से चल रहा है। कैलाश यात्रा पर अभी तक चैदह दल निकले हैं।

मौसम की खराबी के चलते सबसे अधिक परेशानी दसवें दल को भुगतनी पड़ी है। ये दल हेलीकाप्टर नहीं उड़ान न भर पाने की वजह से 2 सप्ताह तक पिथौरागढ़ में फंसा रहा। इसके बाद दल के दो हिस्से हो गए। दल के 25 यात्री गूंजी पहुंच गए, जबकि 19 यात्री पिथौरागढ़ में ही फंसे रहे।

इन्हें बाद में विदेश मंत्रालय ने ग्यारहवें दल में शामिल कर तिब्बत स्थित कैलाश की यात्रा पर भेजने का निर्णय लिया। इसके बाद भी इनकी परेशानी दूर नहीं हुई। ग्यारहवें दल के साथ ये 19 यात्री गूंजी तो पहुंच गये लेकिन यहां इनको अलग प्रकार की दुश्वारी से गुजरना पड़ा।

इस दौरान इनकी बीजा की अवधि खत्म हो गयी। ऐसे में इनके कैलाश जाने की राह में रोड़ा अटक गया। कुमाऊं मंडल विकास निगम के सूत्रों के मुताबिक इसके बाद दल के एक एसएलओ को गूंजी से दिल्ली वापस आना पड़ा और विदेश विभाग से बीजा की अवधि बढ़वानी पड़ी।

इस पूरी प्रक्रिया में एक सप्ताह का समय लग गया। तब तक दसवें और ग्यारहवें दल के 60 यात्रियों को गूंजी में ही इंतजार करना पड़ा। निगम के सूत्रों ने बताया कि दसवें दल के 25 यात्री कैलाश के दर्शन कर वापस दिल्ली लौट गए हैं।

जबकि 12वां दल चीन से वापस लौटने वाला है। इसके अलावा अन्य दल भी देरी सेे चल रहे हैं। 13वां दल कालापानी पहुंच गया है जबकि चैदहवां दल आज नाभि गांव पहुंच गया है। यह दल परसों यहां से आगे की यात्रा करेगा।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.