महात्मा गांधी से 6 मास बड़ी थी कस्तूरबा गांधी, जानिए उनके बारे में कुछ ओर रोचक तथ्य 

Samachar Jagat | Thursday, 11 Apr 2019 02:06:22 PM
Kasturba Gandhi life story in hindi

इंटरनेट डेस्क। आज कस्तूरबा गांधी की जयंती है। उनका जन्म 11 अप्रैल 1869 को हुआ था, वहीं देहांत 22 फ़रवरी 1944 को हो गया था। कस्तूरबा गाँधी का जन्म महात्मा गाँधी की तरह काठियावाड़ के पोरबंदर नगर में हुआ था। इस प्रकार कस्तूरबा गाँधी आयु में गांधी जी से 6 मास बड़ी थीं। कस्तूरबा के पिता 'गोकुलदास मकनजी' साधारण स्थिति के व्यापारी थे। 

गोकुलदास मकनजी की कस्तूरबा तीसरी संतान थीं। उस वक्त में कोई भी इंसान बेटियों को नहीं पढ़ाता था, साथ ही शादी भी छोटी उम्र में कर दी जाती थी। इसी वजह से कस्तूरबा ने भी बचपन में पढाई नहीं की। वहीं 7 वर्ष की उम्र में 6 वर्ष के मोहनदास के साथ उनकी सगाई कर दी गई। 13 वर्ष की आयु में उन दोनों की शादी हो गई थी। शादी के बाद से कस्तूरबा को कई समस्याओं का सामना करना पडा।

अगर खबरों की माने तो बापू ने उन पर आरंभ से ही अंकुश रखने का प्रयास किया और चाहा कि कस्तूरबा बिना उनसे अनुमति लिए कहीं न जाएं, किंतु वह उन्हें जितना दबाते उतना ही वह आज़ादी लेती और जहां चाहतीं वहां पर चली जातीं। विवाह के कुछ शुरूआती वर्ष तक दोनों पारिवारिक बंधनों में बंधे। लेकिन महात्मा गांधी लम्बे वक्त के लिए अपने काम के चलते बाहर रहते थे जबकि कस्तूरबा अपने चार बच्चों की देखभाल के लिए घर पर रहती थीं। 

उन्हें औपचारिक शिक्षा तो नहीं मिली लेकिन वह अपने पूरे जीवन में सीखने के लिए लालायित रहीं। जैसा कि अपर्णा बसु ने अपनी किताब कस्तूरबा गांधी में लिखा कि गांधी ने एक बार कस्तूरबा से कहा था कि वह उन्हें तब तक कोई नोटबुक नहीं देंगे जब तक कि वे अपनी बच्चों जैसी हैण्डराइटिंग अच्छी नहीं कर लेतीं। अपनी आत्मकथा में गांधी उनके लचीलेपन का सम्मान करते हैं और स्वीकार करते हैं कि उन्होंने अक्सर उनकी इच्छाओं को नजरंदाज करते हुए अपनी ही इच्छाओं को बल दिया।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.