केरल में पटरी पर लौट रही है जिंदगी, लोगों के पुनर्वास पर ध्यान केंद्रित

Samachar Jagat | Friday, 24 Aug 2018 12:59:16 PM
Kerala flood latest news

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

तिरुवनंतपुरम। भयानक बाढ़ और भूस्खलन के बाद केरल में जिंदगी सामान्य पटरी पर वापस लौटने लगी है, लेकिन राज्य में अब भी राहत शिविरों में 10.40 लाख लोग रह रहे हैं। बाढ़ की वजह से बेघर हुए लोगों के पुनर्वास पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है।

देश-विदेश से लोग राज्य की मदद करने के लिए सूबे को नकद राशि और जरूरी सामानो की मदद दे रहे हैं। इसके अलावा लोग सीधे मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष (सीएमडीआरएफ) में भी नकद राशि जमा कर रहे हैं। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि कल रात तक कुल 5&9 करोड़ की राशि जमा हो चुकी है।

अनंतनाग में सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, 2 आतंकवादी ढेर

राहत शिविरों में रह रहे लोग अपने घरों में वापस लौटने लगे हैं लेकिन राज्य के 2,770 शिविरों में अब भी 10.40 लाख लोग रह रहे हैं। बाढ़ का पानी कम होने के बाद अब तक गत कुछ दिनों में करीब 5 लाख लोग अपने घर जा चुके हैं।

हर जिले में एक मेडिकल कालेज, एक अस्पताल और आरोग्य केंद्र बनेगा : मोदी

मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने कल राज्य के विभिन्न राहत शिविरों का दौरा किया और बताया कि राज्य सरकार अब प्रभावित लोगों के पुनर्वास और प्रदेश के दोबारा निर्माण पर ध्यान केंद्रित की हुई है। राज्य में सफाई प्रक्रिया के बारे में उन्होंने कहा कि सफाई अभियान पहले से ही शुरू हैं और अब तक 37,000 से ज्यादा कुएं और 60,000 से ज्यादा घर साफ किए जा चुके हैं।

असम के आंगनबाड़ी केंद्रों में फर्जीवाड़ा, 14 लाख बच्चों का नहीं है अता- पता

उन्होंने कहा कि बाढ़ प्रभावित लोगों की मदद करके हम ओनम त्योहार का उत्सव मनाएंगे। उन्होंने लोगों को मदद का आश्वासन देते हुए कहा कि ऐसी योजनाएं बनाई जा रही हैं कि लोगों को बाढ़ से क्षति पहुंचे घरों के पुननिर्माण के लिए ब्याज मुक्त ऋण दिया जाए। 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.