जानिए, पहले इस दिन मनाया जाता था बाल दिवस

Samachar Jagat | Tuesday, 14 Nov 2017 09:18:50 AM
Know, this day was celebrated on Children's Day

इंटरनेट डेस्क। देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु का आज ही के दिन यानी 14 नवम्बर,1889 को जन्म हुआ था। बच्चों से प्यार करने के कारण इस दिन को देश में बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है, लेकिन आप को यह जानकर आश्चर्य होगा कि पहले यह दिवस भारत में भी 20 नवम्बर को मनाया जाता था। 

जानिए आखिर आज ही क्‍यों मनाया जाता है, बाल दिवस

बाल दिवस विशेषhttps://www.youtube.com/watch?v=GJ1W_-nmT1Q

आजाद भारत में हमेशा से बाल दिवस 14 नवंबर को नहीं मनाया जाता था। संयुक्त राष्ट्र ने 20 नवम्बर को बाल दिवस के रूप में मनाने की परंपरा शुरू की थी। फिर इसी दिन से विश्व 20 नवम्बर को बाल दिन के रूप में मनाने लगा। 

प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू का 1964 में निधन हुआ था। इसके बाद से भारत में उनके जन्मदिन को बाल दिवस के तौर पर मनाने का फैसला किया गया। इस प्रकार भारत को पूरी दुनिया से अलग अपना एक बाल दिवस मिला। संयुक्त राष्ट्र की ओर से 1954 में शुरू किए गए बाल दिवस का मुख्य उद्देश्य विश्व भर में बच्चों की अच्छी परवरिश को बढ़ावा देना है।

Children’s Day 2017: नेहरूजी के कहने पर जब टाटा ने बनाया था लैक्मे ब्यूटी प्रोडक्ट......

भारत में नेहरूजी के जन्मदिन के दिन स्कूलों में तरह-तरह की मजेदार गतिविधियों का आयोजन होता है। जवाहर लाल नेहरू बच्चों से बेहद प्यार करते थे। वह अपना खाली समय बच्चों को साथ ही व्यतित करते थे। उन्होंने देश के प्रधानमंत्री के रूप में बच्चों की शिक्षा पर विशेष ध्यान दिया। नेहरूजी बच्चों को देश के भविष्य के रूप में देखते थे। 

Children’s Day 2017: गूगल भी अपने डूडल से सेलिब्रेट कर रहा है बाल दिवस

Children’s Day 2017: आजादी के बाद बच्चों की शिक्षा, प्रगति के लिए बहुत काम किया चाचा नेहरू ने.....

देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू अपनी जिंदगी को काफी शाही अंदाज में जीते थे। वे दिखने में काफी साधारण थे, लेकिन उनके रहने का अंदाज काफी निराला रहा है।  नेहरूजी के पिता मोतीलाल इलाहाबाद के जाने माने वकील थे। नेहरूजी का बाल्यकाल शानदार रहा है। कहा जाता है कि नेहरूजी के कपड़े लंदन में धुलने जाते थे।

नेहरूजी को कार चलाने का बहुत शौक था। बस उनकी इसी इच्छा को पूरी करने के लिए उनके पिता ने उनके लिए लंदन से कार मंगवा दी। यह इलाहबाद की सडक़ों पर आने वाली पहली कार थी। 
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2017 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.