मानवीय कृत्यों से जमीन बंजर होती जा रही है : जावड़ेकर

Samachar Jagat | Friday, 09 Aug 2019 04:00:22 PM
Land is becoming barren due to human acts: Javadekar

नई दिल्ली। दुनिया की आबादी बढऩे के साथ ज्यादा कृषि योग्य भूमि की जरूरत है लेकिन मानवीय कृत्यों से जमीन के कई हिस्से बंजर होते जा रहे हैं। यह बात शुक्रवार को केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कही।


यूनाईटेड नेशन्स कन्वेंशन टू कम्बैट डिसॢटफिकेशन (यूएनसीसीडी) के कॉन्फ्रेंस ऑफ पार्टीज (सीओपी-14) की सितम्बर में होने वाली बैठक से पहले इसके लिए वेबसाइट की शुरुआत करते हुए जावड़ेकर ने कहा कि भारत अच्छा मेजबान होगा।

मंत्री ने यहंा संवाददाताओं से कहा, ‘‘दो से 14 सितम्बर 2019 तक भारत यूएनसीसीडी के तहत सीओपी 14 का आयोजन कर रहा है ताकि जमीन के मरूस्थलीकरण को रोका जा सके। इसमें 150 से अधिक देश हिस्सा लेंगे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘दुनिया की आबादी बढ़ रही है। इसलिए हमें कृषि योग्य अधिक भूमि की जरूरत होगी लेकिन मानवीय कृत्यों के कारण भूमि के कई हिस्से बंजर हो गए हैं। 
 हमें इन्हें उपजाऊ बनाना है। कई देशों के नेता इस मुद्दे पर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘हमने सीओपी 14 पर वेबसाइट की शुरुआत की है। यह महत्वपूर्ण कदम होगा और भारत के प्रधानमंत्री कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। भारत अयोजन में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेगा।’’ सीओपी 14 ग्रेटर नोएडा में आयोजित किया जाएगा और पांच हजार से अधिक प्रतिनिधि इसमें हिस्सा लेंगे। -(एजेंसी)



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.