तीन तलाक पर कानून को दिल्ली उच्च न्यायालय में चुनौती

Samachar Jagat | Saturday, 03 Aug 2019 09:26:16 AM
Law on triple talaq challenged in Delhi High Court

नई दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय में मुस्लिमों में ‘तीन तलाक’ के जरिए फौरी तलाक देने की प्रथा को अपराध के दायरे में लाने वाले नये कानून को चुनौती देने वाली याचिका शुक्रवार को दायर की गई।


मुस्लिम महिलाओं (शादी पर अधिकारों की रक्षा), कानून 2019 को चुनौती देने वाली याचिका एक वकील के जरिए दायर की गई। वकील शाहिद अली द्वारा दायर याचिका पर अगले सप्ताह सुनवाई होने की संभावना है।

‘तीन तलाक’ कहने को गैर जमानती अपराध घोषित करने वाले कानून के प्रावधानों का जिक्र करते हुए याचिका में कहा गया है कि यह पति और पत्नी के बीच समझौता करने की सभी गुंजाइशों को खत्म कर देगा। इस कानून में तीन साल की सजा का प्रावधान है।

याचिकाकर्ता ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार की मंशा संविधान के साथ-साथ उच्चतम न्यायालय के फौरी तलाक को गैरकानूनी घोषित करने के फैसले के प्रति ‘‘दुर्भावनापूर्ण और अधिकारातीत’’ है।

याचिका में दावा किया गया है कि ‘तीन तलाक’ को अपराध के दायरे में लाने का दुरुपयोग हो सकता है क्योंकि कानून में ऐसा कोई तंत्र उपलब्ध नहीं कराया गया है जिससे आरोपों की सच्चाई का पता चल सके।

इसमें कहा गया है कि तीन तलाक को अपराध बनाना स्वाभाविक न्याय के सिद्धांतों और नागरिकों के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन करता है। -(एजेंसी)



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.