आरपीएफ की बड़ी कार्रवाई: 205 शहरों में 387 दलालों को किया गिरफ्तार

Samachar Jagat | Saturday, 15 Jun 2019 09:23:08 AM
Major action of RPF: 387 brokers arrested in 205 cities

नई दिल्ली। रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) ने ‘ई टिकट’ और ‘तत्काल सेवा’ सुविधा के दुरूपयोग को रोकने के लिए देश भर में 205 शहरों से करीब 400 दलालों को गिरफ्तार किया है। इसके अलावा 22,253 टिकटें भी जब्त किेये हैं। एक वरिष्ठ अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। 

Rawat Public School

इनमें से ज्यादातर लोग पश्चिम बंगाल से गिरफ्तार किए गए हैं। अधिकारी ने बताया कि आरपीएफ ने रेलवे के आईटी प्रकोष्ठ के साथ बृहस्पतिवार को ‘ऑपरेशन थंडर’ नाम का एक अभियान चलाया। उस दौरान संदिग्धों की पहचान की गई और 338 स्थानों पर एक ही समय पर छापा मारा गया। 

आरपीएफ के महानिदेशक अरूण कुमार ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘रेलवे के लिए यह काफी व्यस्त समय है। उत्तर भारत में शादियों का मौसम रहने के चलते यात्रियों की संख्या अधिक है। हमें पता चला कि कि असमाजिक तत्व हमारी सुविधाओं का दुरूपयोग कर रहे हैं और कहीं अधिक कीमत पर टिकटें बेच रहे हैं।’’

उन्होंने बताया कि आरपीएफ ने 22,253 टिकट जब्त किये, जो 36,91,580 रूपये के हैं। इन टिकटों पर यात्रा की जानी थी। कुमार ने बताया कि शुरूआती जांच में यह पता चला कि इन दलालों ने टिकटों की इस तरह की अवैध बिक्री कर 3,79,02,803 रूपये का कारोबार किया है। 

उन्होंने बताया कि कोलकाता से 51 दलाल गिरफ्तार किए गए। वहीं, छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में इस तरह के 41 मामले मिले। कुमार ने बताया कि राजस्थान के कोटा से ‘एएनएमएस/रेड मिर्ची’ नाम का एक अवैध सॉफ्टवेयर जब्त किया किया गया। इसका इस्तेमाल आईआरसीटीसी की तत्काल टिकट बुकिंग प्रणाली को हैक करने में किया जाता था। 

उन्होंने बताया कि ये टिकटें अक्सर जिन 387 यूजर आईडी से बुक की गई थी उन्हें काली सूची में डाल दिया गया है और टिकटों को अमान्य कर दिया है। उन्होंने कहा, ‘‘हमने इन दलालों पर दबाव बढ़ाने के लिए इस तरह की छापेमारी जारी रखने का भी निर्देश दिया है। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं आम लोगों से दलालों के जरिए अवैध तरीके से टिकटों की बुकिंग नहीं कराने की अपील करता हूं। ’’



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.