दफ्तर तक आने-जाने में रोजाना 340 किलोमीटर यात्रा करते हैं कर्नाटक के मंत्री

Samachar Jagat | Friday, 06 Jul 2018 11:35:05 AM
Minister of Karnataka, travels 340 kilometers daily in coming days

बेंगलूरू। कर्नाटक के लोक निर्माण विभाग मंत्री एच डी रेवन्ना अपने गृहनगर से बेंगलूरू तक आने और वापस जाने में हर रोज 340 किलोमीटर की यात्रा करते हैं , हालांकि वह कहते हैं कि इसका ज्योतिष या वास्तु से कोई लेना-देना नहीं है। मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के बड़े भाई ने इस थकाने वाली यात्रा के लिए सरकारी बंगला उपलब्ध नहीं होने की वजह बताई।

बुराड़ी मामले में एक और बड़ा खुलासा, बाहरी प्रभाव का पता लगाने में जुटी पुलिस

खबरों में बताया गया है कि रेवन्ना वास्तु वाला घर नहीं होने के कारण से हर रोज होलेनेरासीपुरा से बेंगलूरू तक 170 किलोमीटर का सफर अपनी कार से करते हैं और इतनी ही दूरी वापसी में भी तय करते हैं। वह ऐसा करते हुए अपने पिता और पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा की सलाह की भी अनदेखी करते हैं।

हालांकि रेवन्ना ने इन खबरों को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि मैं स्वाति नक्षत्र में जन्मा हूं। इस नक्षत्र में जन्मे लोगों पर वास्तु जैसी चीजों का कोई असर नहीं होता। काला जादू और टोना भी हम पर कोई असर नहीं करते। इस नक्षत्र में जन्मे लोगों पर काला जादू करने वालों पर इसका उलटा असर पड़ता है। मंत्री ने कहा कि उन्हें हर रोज इतनी लंबी दूरी तय करनी पड़ती है क्योंकि सरकार ने उन्हें आवास आवंटित नहीं किया है।

आज एलजी से मिलेंगे केजरीवाल, आदेश नहीं मानने वाले अधिकारियों को परिणाम भुगतने की चेतावनी

उन्होंने पीटीआई से कहा कि अगर सरकार मुझे घर दे देती तो मैं निश्चित रूप से यहीं रहता। उन्होंने मुझे विधायक आवास तक में घर नहीं दिया। वे जहां चाहें , मैं रहने को तैयार हूं। उन्होंने मुझे घर नहीं दिया , इसलिए हर रोज 340 किलोमीटर सफर कर रहा हूं। मंत्री ने कहा कि पहले उन्हें विधायक आवास में दिया गया घर बंद कर दिया गया है और जो बंगला दिया गया था , उसमें अब भी पूर्व पीडल्ब्यूडी मंत्री एच सी महादेवप्पा रह रहे हैं। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.