मोदी सरकार के इरादे अच्छे नहीं 

Samachar Jagat | Tuesday, 10 Jul 2018 07:03:32 PM
Modi government's intention is not good

नई दिल्ली। कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘एक राष्ट्र, एक चुनाव‘ के प्रस्ताव को मंगलवार को  ‘संवैधानिक ढांचे के विरुद्ध‘ एवं ‘जुमला‘ करार दिया और आरोप लगाया कि ऐसा लगता है कि केंद्र की मोदी सरकार के इरादे अच्छे नहीं हैं ।

पार्टी प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने बताया कि एक राष्ट्र एक चुनावमें कोई दम नहीं है। यह सिर्फ जुमला है। इसका मकसद लोगों को बरगलाना और मूर्ख बनाना है।

उन्होंने कहा कि एक साथ चुनाव की बात सुनने में अच्छी लगती है। लेकिन क्या यह संवैधानिक ढांचे को बरकरार रखते हुए व्यावहारिक रूप से संभव हैं।

सिंघवी ने दावा किया कि इस विचार के पीछे इरादा अच्छा नहीं है। यह प्रस्ताव लोकतंत्र की बुनियाद पर कुठाराघात हैं। यह जनता की इच्छा के विरुद्ध है। इसके पीछे अधिनायकवादी रवैया है।

भारी बारिश की वजह से मुंबई में हुआ पानी-पानी, जनजीवन प्रभावित

उन्होंने सवाल किया कि क्या यह हमारे संघीय ढांचे का आदर करता है? क्या मतदाता के वोट के अधिकार का आदर करता है? क्या यह अविश्वास प्रस्ताव की व्यवस्था का आदर करता है? क्या किसी राज्य में सरकार जाने की स्थिति में लंबे समय तक राष्ट्रपति शासन रहेगा? हमारे विवेकशील संविधान निर्माताओं ने एक साथ चुनाव को अनिवार्य और बाध्यकारी क्यों नहीं बनाया?

सिंघवी ने कहा कि खर्च को लेकर कुछ लोग ‘घडिय़ाली आंसू ‘ बहा रहे हैं जिनके चुनाव पर खर्च के बारे में सबको पता है।
उल्लेख है कि प्रधानमंत्री मोदी ‘एक राष्ट्र, एक चुनाव‘ की कई मौकों पर वकालत कर चुके हैं।

शोपियां में जैश-ए-मोहम्मद के दो आतंकी ढेर, एक युवक की भी मृत्यु

साथ ही विधि आयोग ने बीते दो दिनों के सत्र में देश के विभिन्न राजनीतिक दलों के साथ राय ले रहा है। इसमें 13 दलों ने अपनी बात रखी है। एक साथ चुनाव कराए जाने के पक्ष में ये समाजवादी पार्टी , शिरोमणि अकाली दल, अन्नाद्रमुक और तेलंगाना राष्ट्र समिति उतर आई है। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.