एनसीआर रेपिड रेल: व्यापारियों के लिए अच्छी खबर, 60 मिनट में यूपी-हरियाणा और  राजस्थान पहुंचेगा सामान

Samachar Jagat | Wednesday, 18 Sep 2019 03:20:20 PM
NCR Rapid Rail: Good news for traders, goods will reach UP-Haryana and Rajasthan in 60 minutes

इंटरनेट डेस्क। वर्ष 2023 तक रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम का पहला चरण पूरा हो जाएगा। इसकी उपयोगिता पर विभिन्न विचारों के बीच यह विचार भी उभर रहा है कि यह उद्योगों के लिए माल ढुलाई के लिए भी बेहतर माध्यम के रूप में उभर सकता है। दिल्ली-एनसीआर में वाहनों की भीड़ और प्रदूषण को ध्यान में रखते हुए एनसीआर परिवहन निगम रैपिड रेल कॉरिडोर पर माल ढुलाई सुविधाएं देने पर भी विचार कर रहा है।

इन संभावनाओं के मद्देनजर निगम ने मंगलवार को माल ढुलाई क्षेत्र की कंपनियों के साथ विभिन्न पहलुओं पर चर्चा। कार्यक्रम में विभिन्न कंपनियों और संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने भाग लिया और अपने सुझाव दिए। निगम के प्रबंध निदेशक विनय कुमार सिंह ने कहा कि यात्रियों के आवागमन के लिए बन रहे रैपिड रेल कॉरिडोर में व्यस्त और गैर व्यस्त घंटों में माल ढुलाई की सुविधा देने पर विचार किया जा रहा है। दिल्ली में प्रवेश करने वाले व्यावसायिक ट्रकों से निकलने वाला खतरनाक उत्सर्जन शहर के पर्यावरण संकट को और गंभीर बना रहा है। इसे देखते हुए ट्रकों के प्रवेश के समय पर प्रतिबंध और व्यावसायिक वाहनों पर ग्रीन सेस लगाने जैसे विभिन्न उपाय पहले ही लागू हो चुके हैं और भविष्य में इन्हें और सख्त किए जाने की संभावना है।

इसके अलावा मौजूदा माल ढुलाई प्रणाली में प्रवेश प्रतिबंधों के कारण समय का नुकसान, माल की हानि, कोल्ड चेन सुविधाओं की कमी जैसी कई समस्याएं है। अगर ऐसा हुआ तो एनसीआर की का सामान मसलन, सब्जियां, फल, दूध व दुग्ध उत्पाद दिल्ली में उपलब्ध हो सकेगा और यहां से अन्य सामान मेरठ, अलवर व पानीपत जा भी सकेगा। एनसीआरटीसी ने इसकी संभावना पर विचार करने के लिए कारोबारियों के साथ बैठक की। इसमें अमेजन, फ्लिपकार्ट, बिग बास्केट, देल्हिवरी व कॉन्कोर समेत दिल्ली-एनसीआर के अन्य कारोबारी शामिल हुए।

रैपिड रेल से माल ढुलाई होने से फल-फूल, सब्जियां, दूध व दुग्ध उत्पादों के खराब होने की आशंका नहीं है। एनसीआर से एक घंटे के भीतर सामान दिल्ली के बाजारों में पहुंच जाएगा। किसानों को भी इससे अपने सामान की देखरेख करने की दिक्कत नहीं होगी। ट्रकों से लाने में लगने वाला समय भी बचेगा। एनसीआरटीसी का मानना है कि अगर सप्लाई ज्यादा हुई तो कारपोरेशन कोल्ड स्टोरेज की सुविधा मुहैया करा सकता है।
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.