एनजीटी ने सीपीसीबी से डेयरियों से होने वाले प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए मानदंड तय करने को कहा

Samachar Jagat | Thursday, 11 Jul 2019 11:00:41 AM
NGT asked CPCB to set norms for controlling pollution from Dairy

नई दिल्ली। राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) को देश भर में डेयरियों के कारण होने वाले प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए अध्ययन कराकर दिशा-निर्देश बनाने का आदेश दिया है।

Rawat Public School

एनजीटी अध्यक्ष न्यायमूॢत आदर्श कुमार गोयल की अध्यक्षता वाली पीठ ने इस बात को रेखांकित करते हुए कि मीथेन गैस के उत्सर्जन का सबसे बड़ा स्रोत मवेशी हैं, प्रदूषण नियामक निकाय से इस मुद्दे पर 20 सितंबर से पूर्व ईमेल के जरिये रिपोर्ट भेजने को कहा। 

पीठ ने कहा कि सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के स्थानीय निकाय अपने-अपने अधिकार क्षेत्र की डेयरियों के बारे में राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को रिपोर्ट सौंपें ताकि वे सीपीसीबी को सौंपने के लिए रिपोर्ट तैयार कर सकें।

एनजीटी ने कहा कि दुनियाभर में मवेशी ही मनुष्यों से जुड़े करीब 65 फीसदी नाइट्रस आक्साइड का उत्सर्जन करते हैं जिसमें कार्बन डाई आक्साइड के मुकाबले 296 गुना अधिक वैश्विक उष्मण (ग्लोब वार्मिंग) की क्षमता है। इसमें से ज्यादातर हिस्सा गोबर से आता है।

एनजीटी ने मामले की अगली सुनवाई के लिए 20 सितंबर की तारीख तय की है।-(एजेंसी)



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.