निर्भया केस: सुप्रीम कोर्ट आज सुना सकता है अहम फैसला, 3 दोषियों की पुनर्विचार याचिका पर होगी सुनवाई

Samachar Jagat | Monday, 09 Jul 2018 10:16:02 AM
Nirvaya case: Supreme Court can hear today's important decision

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के निर्भया सामूहिक बलात्कार एवं हत्या मामले में 4 दोषियों में से तीन की पुनर्विचार याचिका पर सोमवार को अपना फैसला सुनाने की संभावना है। प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा , न्यायमूर्ति आर भानुमति और न्यायमूर्ति अशोक भूषण की पीठ के मुकेश (29), पवन गुप्ता (22) और विनय शर्मा की याचिकाओं पर सोमवार को अपना फैसला सुनाने की उम्मीद है।

देश में एक साथ चुनाव के विरोध में खड़ी हुए नौ पार्टियां, बीजेपी और कांग्रेस ने साधी चुप्पी

4 दोषियों में शामिल अक्षय कुमार सिह (31) ने शीर्ष कोर्ट के पांच मई 2017 के फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दायर नहीं की है। अक्षय कुमार सिह के वकील ए पी सिह ने कहा कि अक्षय ने अब तक पुनर्विचार याचिका दायर नहीं की है। हम इसे दाखिल करेंगे। शीर्ष कोर्ट ने अपने 2017 के फैसले में दिल्ली उच्च न्यायालय और निचली अदालत द्बारा 23 वर्षीय पैरामेडिक छात्रा से 16 दिसंबर 2012 को सामूहिक बलात्कार और हत्या के मामले में उन्हें सुनाई गई मौत की सजा को बरकरार रखा था।

अपने वादे निभाने के लिए मोदी सरकार को और 5 साल के वक्त की जरूरत : सुब्रमण्यम स्वामी

उससे दक्षिणी दिल्ली में चलती बस में 6 लोगों ने सामूहिक बलात्कार किया था और गंभीर चोट पहुंचाने के बाद सडक़ पर फेंक दिया था। सिगापुर के माउन्ट एलिजाबेथ अस्पताल में 29 दिसंबर 2012 को इलाज के दौरान उसकी मृत्यु हो गई थी। आरोपियों में से एक राम सिह ने तिहाड़ जेल में कथित तौर पर आत्महत्या कर ली थी। आरोपियों में एक किशोर भी शामिल था। उसे किशोर न्याय बोर्ड ने दोषी ठहराया। उसे 3 साल सुधार गृह में रखे जाने के बाद रिहा कर दिया गया।

सफलता मिलते ही इस बॉलीवुड अभिनेत्री के बड़े भाव, जल्द बढ़ा सकती है अपनी फीस

फार्महाउस में अवैध निर्माण को लेकर सलमान और परिवार के सदस्यों को वन विभाग का नोटिस



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.