कानून व्यवस्था से किसी तरह का समझौता नहीं, गुंडों-माफियाओं पर तुरंत हो कडी कार्रवाई : योगी

Samachar Jagat | Thursday, 13 Jun 2019 01:38:19 PM
No compromise with law and order, urgent action on goons-mafia: Yogi

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कहा कि शांति एवं कानून-व्यवस्था से किसी तरह का समझौता नहीं किया जा सकता। योगी ने कहा कि जिलों में जिलाधिकारी एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक या पुलिस अधीक्षक कानून एवं शांति व्यवस्था के लिए सीधे जिम्मेदार हैं।

उन्होंने कहा कि माफियाओं, गुण्डों व अपराधियों के विरूद्ध कड़ी और प्रभावी कार्रवाई तत्परता के साथ की जाए। जघन्य अपराधों में दर्ज नामजद एफआईआर में तत्काल दबिश देकर गिरफ्तारी करायी जाए, जिससे जनमानस पर इसका असर पड़े।

मुख्यमंत्री ने विभिन्न विभागों के अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव, प्रमुख सचिव (गृह), पुलिस महानिदेशक, समस्त जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एवं पुलिस अधीक्षकों के साथ बैठक के दौरान उक्त बातें कहीं।

बैठक के बाद मुख्य सचिव अनूप चंद्र पाण्डेय ने बैठक में चर्चा किये गये विषयों और योगी के निर्देशों से संवाददाताओं को अवगत कराते हुए एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘मुख्यमंत्री ने प्रदेश के अधिकारियों को कानून-व्यवस्था एवं विकास कार्यों के कार्यान्वयन के सम्बन्ध में निर्देश दिए।‘‘

मुख्य सचिव ने बताया कि अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव एवं सचिवों सहित वरिष्ठ अधिकारी 15 से 20 जून के बीच सभी जिलों में निरीक्षण करेंगे, जिला अस्पतालों और तहसीलों में जाएंगे । गांवों में जाकर भौतिक सत्यापन करेंगे और 20 जून तक रिपोर्ट हर हालत में मुख्यमंत्री को सौंपी जाएगी ।

उन्होंने बताया कि 45 अधिकारी अलग-अलग जिलों में जाएंगे। उनकी रिपोर्ट का विश्लेषण करने के बाद ... कौन सी योजनाओं का कार्यान्वयन कैसे चल रहा है, कहाँ दिक्कतें हैं, क्या-क्या लंबित है ... इसका विस्तृत विश्लेषण होगा।

पाण्डेय ने बताया कि उसके बाद मुख्यमंत्री खुद सभी मंडलों में जाकर निरीक्षण करेंगे। मुख्यमंत्री ने कल चिकित्सा विभाग के सभी सीएमओ को बुलाया है। परसों शिक्षा विभाग में सभी बीएसए और डीआईओएस के साथ समीक्षा होगी। उसके बाद मंडलों का भ्रमण प्रारंभ होगा।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि वे जनता से बेहतर संवाद कायम
 करें । संवादहीनता या संवेदनहीनता की स्थिति ना आये। पाण्डेय के मुताबिक बैठक में बाराबंकी शराब कांड, महिलाओं के उत्पीडऩ की हाल की घटनाओं, टप्पल, हमीरपुर और जालौन सहित विभिन्न घटनाओं पर चर्चा हुई। सख्त से सख्त कार्रवाई की अपेक्षा की गयी है। इसमें कोई लापरवाही ना हो, ये कहा गया है। जहाँ संभव हो, कोई अपनी व्यक्ति बात कहना चाह रहा है तो बातचीत के जरिए ही समस्या का समाधान हो।

मुख्यमंत्री योगी ने निर्देश दिया कि एक घंटा रोज अनिवार्य रूप से सभी जिलाधिकारी एवं पुलिस कप्तान जनता से मिलना सुनिश्चित करें। जो अधिकारी जहाँ तैनात है, वहाँ ‘नाइट हाल्ट‘ करें, चाहे एसडीएम हों, तहसीलदार हों या बीडीओ हों, एसओ हों या सीओ हों।

उन्होंने कहा कि अगर वहाँ आवास नहीं है तो किराये के भवन में रहें। ये निर्देश दिया गया है कि अधिकारी फील्ड में तैनाती की जगह पर रहें। पाण्डेय ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कानून-व्यवस्था के सम्बन्ध में जिलाधिकारियों तथा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों—पुलिस अधीक्षकों को निर्देशित किया कि शान्ति एवं कानून-व्यवस्था से किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जा सकता।

योगी ने कहा, ‘‘जनपदों में जिलाधिकारी एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक—पुलिस अधीक्षक कानून व शान्ति व्यवस्था के लिए सीधे जिम्मेदार हैं इसलिए उन्हें सख्ती, निर्भीकता तथा निष्पक्षता से कार्य करने की आवश्यकता है।‘‘ उन्होंने कहा, ‘‘असामाजिक तत्वों पर पैनी नजर रखने के साथ त्वरित व प्रभावी निरोधात्मक कार्रवाई प्रत्येक स्तर पर की जाए।‘‘

योगी ने कहा कि जिलाधिकारियों एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक—पुलिस अधीक्षकों द्वारा एंटी रोमियो स्क्वायड की समीक्षा कर महिला अपराध की घटनाओं को रोका जाए। प्रदेश सरकार द्वारा महिलाओं के सम्मान, सशक्तिकरण एवं कल्याण के लिए उठाए गए कदमों के बारे में जनता को जागरूक किया जाए । पीडि़त महिलाओं को तत्काल मुआवजा दिलाया जाए ।

योगी ने कहा कि भूमि विवाद तथा आपसी रंजिशों के मामले चिन्हित करते हुए राजस्व तथा पुलिस विभाग द्वारा संयुक्त रूप से निस्तारित किये जाएं । ग्राम समाज व शासकीय भूमि को अवैध कब्जों से मुक्त कराया जाए । मुख्यमंत्री ने कहा कि अवैध मदिरा की बिक्री के संदिग्ध स्थानों पर छापेमारी की जाए । जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक द्वारा जनमानस में यह प्रचार-प्रसार कराया जाए कि अवैध अड्डों से बिकने वाली शराब जहरीली हो सकती है ।

उन्होंने कहा कि जिलाधिकारी एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक—पुलिस अधीक्षक द्वारा समय-समय पर कारागारों का आकस्मिक निरीक्षण सुनिश्चित किया जाए ताकि अपराधी जेल से आपराधिक गतिविधियां संचालित न कर सकें । योगी ने कहा कि भ्रष्टाचार एवं कानून-व्यवस्था में लापरवाही पर जीरो टॉलरेंस सुनिश्चित कराया जाए ।

पाण्डेय ने बताया कि बैठक में केन्द्र और प्रदेश सरकार की विभिन्न योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की गयी। मुख्यमंत्री ने सभी योजनाओं के कार्यान्वयन में और तेजी लाने के निर्देश दिये। प्रेस कॉन्फ्रेंस को प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओ पी सिंह ने भी संबोधित किया । -(एजेंसी)



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.