नोटबंदी : अमित शाह और ममता ने एक-दूसरे पर साधा निशाना

Samachar Jagat | Wednesday, 30 Nov 2016 08:55:05 AM
नोटबंदी : अमित शाह और ममता ने एक-दूसरे पर साधा निशाना

लखनऊ। भाजपा और उसके प्रतिद्वंद्वियों ने नोटबंदी को लेकर मंगलवार को एक-दूसरे पर निशाना साधा। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने दावा किया कि वे विपक्षी नेता ही कदम का विरोध कर रहे हैं जिनका ‘लूट’ का पैसा रद्दी में तब्दील हो गया है, वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री की तुलना ‘हिटलर’ से की जिसने लोगों के अधिकारों का उल्लंघन किया।

प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भाजपा के सांसदों एवं विधायकों को दिये उनके उस निर्देश के लिए निशाना साधा कि वे आठ नवम्बर जिस दिन नोटबंदी की घोषणा हुई थी से 31 दिसम्बर तक की अवधि के अपने बैंक खातों लेन-देन की जानकारी शाह को मुहैया करायें।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने मांग की कि मोदी भाजपा सांसदों एवं विधायकों के बैंक खातों के लेन-देन की जानकारी 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट चलन से बाहर करने की घोषणा से पहले की अवधि की भी मुहैया करायें।महाराष्ट्र एवं गुजरात में हाल के निकाय चुनाव और कुछ लोकसभा एवं विधानसभा उपचुनाव में पार्टी की जीत से उत्साहित शाह ने कहा कि यह मोदी के नोटबंदी के कदम के प्रति लोगों के समर्थन को दिखाता है।

उन्होंने दावा किया कि कुछ विपक्षी नेता इसलिए परेशान हैं क्योंकि घोटालों की उनकी ‘लूट’ की राशि रद्दी में तब्दील हो गई है।उन्होंने उत्तर प्रदेश के महाराजगंज में पार्टी की एक रैली में कहा, ‘सपा, बसपा, कांग्रेस, ममता (बनर्जी), (अरविंद) केजरीवाल सभी आज नरेंद्र मोदी से नाराज हैं। आपको पता है ऐसा क्यों है लूट से जो जमा हुआ था, उसे मोदीजी द्वारा आठ नवम्बर को रद्दी में तब्दील कर दिया गया।शाह ने कहा, ‘विपक्ष जहां सभी जगह भारत बंद और आक्रोश दिवस मना रहा था, भाजपा ने अभूतपूर्व जीत दर्ज की। लोग नोटबंदी पर सरकार के निर्णय के साथ हैं।’ उन्होंने कहा, ‘गरीब के पास कालाधन नहीं है। राहुल बाबा, अखिलेश बाबू, बहन मायावती..यह वह था जो आपके पास पड़ा था जो खत्म हो गया।

अब क्या होगा कालेधन के साथ पकड़े गए लोग 50 प्रतिशत गंवा देंगे और इस राशि को देश के खजाने में रख दिया जाएगा।ममता बनर्जी नोटबंदी के खिलाफ अपनी लड़ाई उत्तर प्रदेश लेकर गईं जहां विधानसभा चुनाव होने हैं। उन्होंने निशाना साधते हुए मोदी की तुलना जर्मन तानाशाह एडोल्फ हिटलर और दिल्ली के शासक मोहम्मद बिन तुगलक से की।

उन्होंने नोटबंदी के खिलाफ सत्ताधारी सपा के साथ यहां आयोजित एक रैली में कहा, ‘मोदीजी ने (मोहम्मद बिन) तुगलक और हिटलर को पीछे छोड़ दिया है। उन्होंने आम आदमी के संवैधानिक अधिकारों का उल्लंघन किया है।’ ममता ने कहा, ‘नोटबंदी के खिलाफ लड़ाई तब तक जारी रहेगी जब तक इसे वापस नहीं लिया जाता क्योंकि नोटबंदी ने दुकानों, बाजारों और कृषि कार्य को बंद कर दिया है।

उन्होंने प्रधानमंत्री को चुनौती दी कि वह पहले अपने और शाह के बैंक खातों की जानकारी घोषित करें।ममता ने कहा, ‘नोटबंदी से ठीक पहले भाजपा और उसके अध्यक्ष के नाम बड़ी संख्या में सम्पत्तियां खरीदी गईं।’ उन्होंने नोटबंदी को एक ‘बड़ा घोटाला’ बताया।

सिब्बल ने मोदी द्वारा भाजपा सांसदों, मंत्रियों और विधायकों को आठ नवंबर और 31 दिसंबर के बीच के अपने बैंक खाते से लेन देन का ब्योरा भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को सौंपने के निर्देश का उल्लेख करते हुए कहा, ‘प्रधानमंत्री के कदम से मैं प्रभावित हुआ क्योंकि वह जानते हैं कि यदि उन्होंने आठ नवंबर से पहले का वित्तीय ब्योरा मांगा तो यह एक समस्या होगी। यही कारण है कि उन्होंने आठ नवंबर के बाद का वित्तीय ब्योरा मांगा है।

उन्होंने कहा, ‘पहले हमें बताइए, शाखाओं को किस चेक से भुगतान किया गया? हमें बताइए कि सांसदों और पार्टी ने आठ नवंबर से पहले कितना पैसा जमा किया? हमें बताया जाए कि पश्चिम बंगाल और बिहार में क्या हुआ? यदि उन्होंने हमें ये सब बताया, तो मुझे लगेगा कि प्रधानमंत्री वास्तव में इस मुद्दे पर गंभीर हैं।

’ आम आदमी पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से भाजपा के सांसदों एवं विधायकों को आठ नवंबर से 31 दिसंबर तक के अपने बैंकिंग लेनेदेन का ब्यौरा पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को सौंपने को लेकर दिये गये निर्देश को ‘पाखंड’ करार दिया और कहा कि खुलासे सार्वजनिक किये जाने चाहिए और नोटबंदी से छह महीने पहले के लेनदेन की जांच करने की जरूरत है।

पार्टी नेता आशुतोष ने दिल्ली में संवाददाताओं से बातचीत में इस संदर्भ में अमित शाह के प्राधिकार पर सवाल किया और कहा कि यह पूरा ब्यौरा भाजपा अध्यक्ष की बजाय आयकर विभाग को दिया जाना चाहिए।उन्होंने कहा, ‘अमित शाह का क्या प्राधिकार है? आयकर विभाग को ब्यौरा दिया जाना चाहिए।

यह खुलासा सार्वजनिक किया जाना चाहिए।’ केंद्रीय मंत्री किरण रिजिजू ने कहा कि चूंकि लोग नोटबंदी पर मोदी के साथ हैं, कल विपक्ष की ओर से आहूत विरोध प्रदर्शन ‘असफल’ रहा। वहीं, एक अन्य केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी ने विपक्षी दलों पर नोटबंदी के मुद्दे को लेकर हमला किया और कहा कि वे ‘सदमे की स्थिति में हैं।भाषा

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर
ज्योतिष

Copyright @ 2016 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.