विपक्ष का बंद विफल, खीज मिटाने के लिए विपक्ष हिंसा पर उतार: बीजेपी

Samachar Jagat | Monday, 10 Sep 2018 02:44:06 PM
Opposition fails to get rid of anger: Opposition slams on violence: BJP

नई दिल्ली। बीजेपी ने पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों में लगातार वृद्धि और बढती महंगाई के विरोध में कांग्रेस एवं कुछ विपक्षी दलों द्बारा आहूत बंद को विफल करार देते हुए सोमवार को कहा कि जनता का साथ नहीं मिलने से गुस्से एवं खीज में आकर विपक्ष हिसा पर उतारू हो गया है और देश में खौफ का माहौल बना रहा है।

बीजेपी के वरिष्ठ नेता एवं केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि लोकतंत्र में  विरोध का अधिकार सबके पास होता है लेकिन ये विरोध हिसा से किया जा रहा है। देशभर में पेट्रोल पंप जलाए जा रहे हैं। बसें और कारें तोड़ी जा रही हैं।

बिहार के जहानाबाद में बंद समर्थकों की भीड़ द्बारा एम्बुलेंस रोके जाने के कारण एक मासूम बच्ची की मौत हो गई है। उन्होंने पूछा कि आखिर इस हिसा और उस बच्ची की मौत का कौन जिम्मेदार है। प्रसाद ने कहा कि जनता बंद के साथ नहीं खड़ी है। इससे कांग्रेस और विपक्ष के लोग गुस्से में खीज कर हिसा कर रह हैं।

देश में खौफ का माहौल बनाया जा रहा है। जनता का समर्थन नहीं मिलने पर उग्रता से बंद कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार इस समस्या का समाधान निकालने का प्रयास कर रही है। जनता को पता है कि इस समस्या के लिए सरकार जिम्मेदार नहीं है।

वेनेजुएला में राजनीतिक अस्थिरता, ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंध और अमेरिका में शेल गैस का उत्पादन नहीं होने के अलावा दुनिया में तेल उत्पादन में कमी आना और उससे उपलब्धता की कमी मूलत: इस संकट का कारण है। यह एक ऐसी समस्या है जिसका निराकरण हमारे हाथ में नहीं है।

उन्होंने कहा कि सरकार ने महंगाई पर काबू किया है। 2014 में  मुद्रास्फीति 10.4 प्रतिशत थी जो आज 4.7 प्रतिशत है। सरकार ने आयकर सहित विभिन्न करों में रियायत दी है और ग्रामीण सड़कों, ग्रामीण विद्युतीकरण, मनरेगा, खाद्य सब्सिडी आदि में खूब व्यय किया है। आयुष्मान भारत में दस करोड़ परिवारों को 5 लाख रुपए प्रतिवर्ष का स्वास्थ्य बीमा दिया जाना है।

मोदी सरकार ने 5 करोड़ अति गरीबों का जीवन स्तर सुधारा है। उन्होंने कहा कि इस बारे में सार्थक बहस होनी चाहिए। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रसाद ने उन्हें चुनौती देते हुए कहा कि एक महान अर्थशास्त्री डॉ. सिंह को विनम्र प्रस्ताव देते हैं कि इस बार संसद में वे आर्थिक विषय पर उन जैसे बीजेपी के मामूली कार्यकर्ता से तथ्यों के आधार पर बहस कर लें।

उन्होंने कहा कि हिसा से साबित हो गया है कि बंद विफल रहा है। पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क घटाने, राज्यों में वैट कम करने और पेट्रोलियम पदार्थों को वस्तु एवं सेवा कर में लाने के बारे में सवालों के जवाब में प्रसाद ने कहा कि सरकार ने अक्टूबर 2017 में उत्पाद शुल्क में कटौती की थी। वैट कम करना राज्यों का विवेकाधिकार है तथा जीएसटी परिषद एक स्वतंत्र निकाय है जिसमें सभी राज्य सर्वानुमति से फैसला लेते हैं। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.