अरूणाचल और असम में 200 से ज्यादा लोगों को बचाया गया, मेघालय में  बाढ़ की चेतावनी

Samachar Jagat | Saturday, 01 Sep 2018 01:10:29 PM
Over 200 people rescued in Arunachal and Assam, flood warnings in Meghalaya

ईटानगर/गुवाहाटी/शिलांग। अरूणाचल प्रदेश के बाढ प्रभावित एक द्बीप में   फंसे 19 लोगों को शुक्रवार को वायुसेना ने हवाई मार्ग से सुरक्षित बाहर निकाल लिया जबकि असम के धेमाजी जिले से 200 से अधिक लोगों को बचाया गया। अधिकारियों ने बताया कि भारी बारिश की वजह से धेमाजी में सियांग नदी उफान पर है। सियांग नदी चीन से निकलती है।

मेघालय के तीन जिलों में भी बाढ़ की चेतावनी जारी की गई है। सियांग नदी मूल रूप से तिब्बत से निकलती है और चीन में इसे त्संगपो के रूप में जाना जाता है। ये लोहित और दिबांग नदी के साथ मिलकर असम में ब्रहमपुत्र नदी में तब्दील हो जाती है।

पूर्वी सियांग के जिला आयुक्त तामियो तताक ने बताया कि अरूणाचल के पूर्वी सियांग जिले में पिछले 24 घंटों से फंसे 19 लोगों को बचाया गया। जिला प्रशासन के अनुरोध पर वायुसेना ने बचाव अभियान चलाया। उन्होंने बताया कि अरूणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने ईटानगर से व्यक्तिगत तौर पर बचाव अभियान पर नजर रखी।

उन्होंने बताया कि लोकसभा सांसद निनोंग इरिग और पासीघाट पश्चिम से विधायक तातुंग जमोह के साथ पुलिस और स्थानीय लोगों ने पशुओं को बचाने में मदद की। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) और राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) के जवानों द्बारा बचाये गए 200 अन्य लोग पूर्वी सियांग के निकट धेमाजी में खेती के लिए चले गए थे।

सियांग में पानी का स्तर बढ़ने के बाद पूर्वी सियांग और असम में सीमावर्ती धेमाजी, लखीमपुर और डिब्रूगढ़ जिलों में कल अलर्ट जारी किया गया था। अरुणचाल के विधायक लोंबो तेयांग ने कहा कि पूर्वी सियांग के मेबो क्षेत्र में नदी के किनारे रह रहे करीब 1000 परिवार प्रभावित हुए हैं।

तेयांग ने भरोसा दिया कि सभी पुनर्निमाण के लिए एक-एक लाख रुपये दिए जाएंगे। एक अधिकारी ने बताया कि मेघालय में पश्चमी गारो हिल्स, उत्तरी गारो हिल्स और दक्षिण गारो हिल्स के उपायकुत को सतर्कता बरतने के लिए कहा गया है।

साथ ही अगले 24 घंटों में किसी आपात स्थिति से निपटने के लिए आपदा प्रबंधन टीमों को तैयार रहने को कहा गया है। राजस्व और आपदा प्रबंधन के एक अधिकारी ने तीनों जिलों के उपायुक्तों को भेजे गए एक जरूरी संदेश में कहा है कि चीन सरकार की ओर से अधिक पानी छोड़े जाने के कारण ब्रह्मपुत्र के जलस्तर अभूतपूर्व वृद्धि हो सकती है। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.