पंचकोशी यात्रा की तैयारी अंतिम दौर पर, सोमवार से शुरू होगी यात्रा

Samachar Jagat | Sunday, 28 Apr 2019 02:24:05 PM
 Pankhoshi Yatra will start on Monday

उज्जैन। मध्यप्रदेश के उज्जैन में 118 किलोमीटर की पैदल पंचकोशी यात्रा की तैयारियो को अंतिम रुप दे दिया। यह यात्रा कल प्रारंभ होगी और तीन मई को समाप्त होगी। भीषण गर्मी के बावजूद इस यात्रा में प्रतिवर्ष दूर-दराज से बड़ी संख्या में श्रद्धालु भाग लेने पहुंचते हैं। पंचकोशी यात्रा प्रतिवर्षानुसार परंपरागत वैशाख मास के कृष्ण पक्ष की दशमी से प्रारंभ होकर वैशाख मास की अमावस को समाप्त होती है। कलेक्टर ने यात्रा के पड़ाव एवं उप पड़ाव स्थलों पर सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को यात्रियों की सुविधाओं के लिये व्यापक व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि यात्रा मार्ग में नागचन्द्रेश्वर से पिगलेश्वर पड़ाव स्थल की दूरी 12 किलो मीटर, पिगलेश्वर से कायावरोहणेश्वर पड़ाव स्थल की दूरी 23 किलो मीटर, कायावरोहणेश्वर से नलवा उप पड़ाव की दूरी 21 किलो मीटर, नलवा उप पड़ाव से बिल्केश्वर अंबोदिया पड़ाव स्थल की दूरी 6 किलो मीटर, अंबोदिया पड़ाव स्थल से कालियादेह उप पड़ाव स्थल की दूरी 21 किलो मीटर, कालियादेह से जैथल दुर्देश्वर पड़ाव स्थल की दूरी 7 किलो मीटर, दुर्देश्वर पड़ाव स्थल से उंडासा की दूरी 16 किलो मीटर और उंडासा उप पड़ाव से शिप्रा घाट की दूरी 12 किलो मीटर इस प्रकार इस यात्रा का मार्ग कुल 118 किलोमीटर लम्बा है।

प्राचीन मान्यता अनुसार भारत के प्रमुख द्बारदश ज्योतिर्लिंग में यहां भगवान महाकालेश्वर विराजित हैं और तीर्थ के मध्य में स्थित हैं। ये यहां चारों दिशाओं में क्षेत्र की रक्षा के लिए भगवान महादेव ने चार द्बारपाल शिव रूप में स्थापित किए, जो धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष प्रदाता हैं। इन्हीं चार द्बारपाल की कथा, पूजा और परिक्रमा का विशेष महत्व है। यात्रा में शिव के पूजन, अभिषेक, उपवास, दान, दर्शन की ही प्रधानता धार्मिक ग्रंथों में मिलती है।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.