PM मोदी 15 सितंबर से 'स्वच्छता ही सेवा आंदोलन' का करेंगे शुभारंभ

Samachar Jagat | Wednesday, 12 Sep 2018 01:26:29 PM
PM Modi launches 'Cleanliness Service Service Movement' from September 15

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 सितंबर से 'स्वच्छता ही सेवा आंदोलन' के शुभारंभ की बुधवार को घोषणा की तथा इस आंदोलन को दो अक्टूबर को महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि बताया। प्रधानमंत्री ने अपने वीडियो संदेश में सभी से 'स्वच्छता ही सेवा’ आंदोलन का हिस्सा बनने और 'स्वच्छ भारत' बनाने के प्रयासों को मजबूत करने का आग्रह किया। मोदी ने अपने ट्वीट में कहा, '' 15 सितम्बर को सुबह 9.30 बजे हम एक साथ आएंगे और 'स्वच्छता ही सेवा आंदोलन' की शुरुआत करेंगे। ’’

पूर्व आरबीआई गवर्नर की NPA टिप्पणी के बाद कांग्रेस और BJP में वाकयुद्ध 

उन्होंने कहा, ''मैं उन लोगों के साथ बातचीत करना चाहता हूं जिन्होंने स्वच्छ भारत मिशन को मजबूत करने के लिए जमीन पर दृढ़ता से काम किया है।’’  प्रधानमंत्री ने कहा कि इस बार दो अक्तूबर को पूज्य बापू की जयंती का महत्व इसलिये भी है क्योंकि यह उनकी 150वीं जयंती का अवसर होगा साथ ही स्वच्छ भारत अभियान को 2 अक्टूबर को पूरे चार साल हो जाएंगे। 

चुनाव आयोग की टीम ने तेलंगाना की राजनीतिक पार्टियों के साथ की चर्चा 

मोदी ने कहा कि चार साल पहले ही 2 अक्टूबर को गांधी जी की जयंती के अवसर पर स्वच्छ भारत अभियान की शुरूआत की गयी थी। उन्होंने कहा, '' स्वच्छ भारत मिशन ने स्वच्छ भारत के बापू के सपने को पूरा करने के उद्देश्य से एक ऐतिहासिक जन आंदोलन के 4 साल पूरे किए हैं। मैं उन सभी को सलाम करता हूं जिन्होंने स्वच्छ भारत के लिए काम किया। सवा सौ करोड़ देशवासियों ने मिलकर पूज्य बापू के सपने को पूरा करने के लिए एक जन आंदोलन प्रारंभ किया।’’

दलितों के खिलाफ अपराध के मामले में भी नहीं होगी 'नियमित’ गिरफ्तारी: न्यायालय 

प्रधानमंत्री ने कहा कि बापू का ही आशीर्वाद है कि बीते 4 साल में सभी भारतवासी स्वच्छ क्रांति के दूत बन चुके हैं। देश के हर कोने में समाज के हर वर्ग के लोगों ने स्वच्छ भारत के उनके सपने को पूरे करने के लिए जो भी कर सकते हैं वह सब किया। उन्होंने सबकी भागीदारी की भी प्रशंसा की और कहा कि देशभर में 8.5 करोड़ शौचालय बनकर तैयार हो गए हैं।

मोदी ने जोर दिया कि आज 90 फीसदी भारतीयों को शौचालय की सुविधा उपलब्ध है। इससे पहले केवल 40 फीसदी लोगों के पास ये सुविधा थी। आज भारत के सवा चार लाख से भी अधिक गांव, 430 जिले और 2800 नगर, शहर और कस्बे और 19 राज्य एवं केंद्र शासित प्रदेश खुले में शौच से मुक्त घोषित हो चुके हैं। 

2019 चुनाव: महाराष्‍ट्र में BJP और शिवसेना को हराने के लिए ये है कांग्रेस की रणनीति 

उन्होंने कहा कि विश्व स्वस्थ्य संगठन ने शौचालय के उपयोग से 3 लाख मासूमों का जीवन बचने की संभावना जताई है। मोदी ने कहा कि 15 सितंबर से 2 अक्टूबर तक बहुत ही विशाल स्तर पर 'स्वच्छता ही सेवा' कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।



 
loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.