नोटबंदी की आलोचना करने वालों पर PM मोदी ने साधा निशाना

Samachar Jagat | Friday, 25 Nov 2016 01:10:17 PM
नोटबंदी की आलोचना करने वालों पर PM मोदी ने साधा निशाना

नई दिल्ली। नोटबंदी का विरोध करने वाले अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियोंऔर इसके विरोधियों पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि अगर इन्हें इस कदम की घोषणा से पहले समय दे दिया गया होता तब वे उनकी प्रशंसा करते। उन्होंने कहा कि वास्तव में ऐसे लोगों को इस बात की पीड़ा है कि उन्हें खुद किसी तरह की तैयारी का समय नहीं मिला।

प्रधानमंत्री ने कहा, कुछ लोग अब भी आलोचना कर रहे हैं कि सरकार ने पूरी तैयारी नहीं की। मेरा मानना है कि मुद्दा यह नहीं है कि सरकार ने पूरी तैयारी नहीं की थी बल्कि मुझे लगता है कि ऐसे लोगों को इस बात की पीड़ा है कि सरकार ने उन्हें किसी तैयारी का मौका नहीं दिया।

मोदी ने कहा, अगर इन लोगों को तैयारी करने के लिए 72 घंटे मिल जाते तो वे तारीफ करते कि मोदी जैसा कोई नहीं है। प्रधानमंत्री की यह टिप्पणियां कल राज्यसभा में नोटबंदी के मुद्दे पर विपक्ष के तीखे हमले की पृष्ठभूमि में आई हैं। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कल उच्च सदन में कहा था कि सरकार का यह कदम ‘संगठित और कानूनी लूट-खसोट’ है और यह प्रबंधन की विशाल विफलता को प्रदर्शित करता है। 

संसद भवन परिसर के ग्रंथालय में आज सुबह एक पुस्तक विमोचन समारोह को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि 500 और 1000 रूपए के पुराने नोटों को अमान्य करने के फैसले की बहुत कम आलोचना हुई है। प्रधानमंत्री ने कहा कि इन दिनों देश भ्रष्टाचार और कालेधन के खिलाफ बड़ी लड़ाई लड़ रहा है और इस लड़ाई में आम नागरिक एक ‘सैनिक’ है।

उन्होंने कहा कि पिछले 70 साल में कानूनों और संविधान का दुरपयोग करने वालों ने देश को भ्रष्टाचार में डुबो दिया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि वैश्विक भ्रष्टाचार सर्वेक्षणों में भारत का नाम प्रमुखता से आना गर्व करने का विषय नहीं हो सकता। उन्होंने कहा, देश का नाम उंचा करने के लिए कुछ फैसले लेने होंगे।

प्रधानमंत्री के मुताबिक, नोटबंदी के बाद नगर निगमों ने 13,000 करोड़ रूपए का कर एकत्रित किया है। उन्होंने कहा, मुझे कुछ शहरों के नगर निगमों के बारे में जानकारी मिली है। 

पहले वे 3000 से 3500 करोड़ रूपए कर वसूलते थे और आठ नवंबर के बाद उन्होंने 13,000 करोड़ रूपए की कर वसूली की है। इस राशि का इस्तेमाल सडक़ों के निर्माण और बिजली आपूर्ति जैसे विकास कार्यों के लिए किया जाएगा।

डिजिटल लेनदेन पर जोर देते हुए मोदी ने कहा,  सभी को अपने धन का इस्तेमाल करने का अधिकार है और कोई उन्हें नहीं रोकता। यह जरूरी नहीं है कि आपके पास नकदी हो क्योंकि डिजिटल तकनीक का इस्तेमाल करके भी लेनदेन किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि मोबाइल फोन से खरीदारी करना व्हाट्सएप संदेश भेजने की तरह ही आसान है।

मोदी ने कहा, हमें पारदर्शिता लाने के लिए ट्रांजेक्शन में प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल को बढ़ावा देना चाहिए। उन्होंने कहा कि करीब 500 शहर छोटी सी अवधि में यह काम कर सकते हैं।

मोदी दो पुस्तकों .... ‘अपडेटेड एडिशन ऑफ कांस्टीट्यूशन ऑफ इंडिया’ और ‘मेकिंग ऑफ द कांस्टीट्यूशन’ के विमोचन समारोह को संबोधित कर रहे थे। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि संविधान के अनेक अनुच्छेदों के बारे में केवल जानकारी रखने के बजाय ‘संविधान की भावना’ से जुड़े रहना महत्वपूर्ण है। उन्होंने युवा पीढ़ी के संविधान और उसके आदर्शों से जुड़ाव होने के महत्व पर भी जोर दिया।

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर
ज्योतिष

Copyright @ 2016 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.