परस्पर समायोजन एवं सम्मान लोकतंत्र को मदद पहुंचाते हैं : मोदी

Samachar Jagat | Friday, 06 Jul 2018 07:26:20 AM
Reciprocity Adjustment and Honor Help Democracy: Modi

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि वैश्विक विमर्श में एशियाई लोकतंत्रों का योगदान उनका आर्थिक एवं राजनीतिक दर्ज़ा बढ़ने के साथ बढ़ना जरुरी है और उन्होंने इस बात पर बल दिया कि लोकतांत्रिक मूल्यों की जड़ें हिदू और बौद्ध सभ्यताओं में समायी हुई हैं।

हिल्सा से 275 और भारतीय तीर्थयात्रियों को सुरक्षित निकाला 

मोदी ने तोक्यो में 'एशिया में साझे मूल्य एवं लोकतंत्र’ विषय पर 'संवाद’ नामक संगोष्ठी के मौके पर एक वीडियो संदेश में यह टिप्पणी की जिसे उन्होंने ट्विटर पर डाला। जापान के प्रधानमंत्री शिजो आबे ने इस कार्यक्रम में अपना विचार व्यक्त किया। यह संवाद का चौथा संस्करण है।

आदेश ना मानने वाले नौकरशाहों पर कानूनी कार्रवाई पर विचार कर रही है दिल्ली सरकार

मोदी ने ट्वीट किया, हठधर्मिता नहीं बल्कि खुलापन, विचारधारा नहीं बल्कि दर्शन पर परस्पर संवाद लोकतांत्रिक भावना के हमारे साझे धरोहर के अंतर्गत आते हैं। एशिया के दो सबसे पुराने धर्मों - हिदुत्व और बौद्धधर्म में संवाद की यह दार्शनिक एवं सांस्कृतिक धरोहर हमें बेहतर समझ को बढ़ावा देने में मदद करती है।

कैलाश मानसरोवर : अब भी मदद का इंतजार कर रहे हैं कम से कम 1,000 भारतीय

उन्होंने कहा कि परस्पर समायोजन एवं सम्मान से लोकतंत्र को मदद मिलती है। दूसरों के लिए सहृदयता, आत्मसंयम, परस्पर सम्मान समेत एशिया के मूलभूत मूल्यों की ऐतिहासिक जड़ें 2300 साल पहले की सम्राट अशोक की राजाज्ञाओं में मिलती हैं। इन मूल्यों ने एशिया में लोकतंत्र की संस्कृति का संपोषण किया है।

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि दसवीं सदी में राजा चोल के शासन के दौरान के तमिलनाडु के ऐतिहासिक सबूत बताते हैं कि मैग्ना कार्टा से भी पहले ही मतदान एवं चुनाव की एक विस्तृत प्रणाली चलन में थी। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र बस मतदान की एक प्रणालीभर नहीं है बल्कि आत्मसंयम और परस्पर सम्मान के उसके मूलभूत मूल्य उसे सभी के लाभ के लायक बनाते हैं।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.