दलितों के खिलाफ अपराध के मामले में भी नहीं होगी 'नियमित’ गिरफ्तारी: न्यायालय

Samachar Jagat | Wednesday, 12 Sep 2018 11:58:59 AM
'Regular' arrest will not be in case of crime against Dalits: court

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

लखनऊ। इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने मंगलवार को पुलिस से कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट के 2014 के एक आदेश द्वारा समर्थित सीआरपीसी के प्रावधानों का पालन किए बगैर एक दलित महिला और उसकी बेटी पर हमले के आरोपी चार लोगों को गिरफ्तार नहीं कर सकती। 

2019 चुनाव: महाराष्‍ट्र में BJP और शिवसेना को हराने के लिए ये है कांग्रेस की रणनीति 

यह मामला आईपीसी के साथ-साथ अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (उत्पीड़न निरोधक) कानून के तहत दर्ज हुआ था, लेकिन न्यायालय ने पुलिस को तत्काल ''नियमित’’ (रूटीन) गिरफ्तारी करने से रोक दिया। 

विधानसभा चुनाव: AIMI ने प्रत्याशियों की पहली सूची की जारी, गठबंधन पर बातचीत के लिए कांग्रेस ने बनाई समिति 

उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ में न्यायमूर्ति अजय लांबा और न्यायमूर्ति संजय हरकौली की खंडपीठ ने यह आदेश पारित किया। साल 2014 में उच्चतम न्यायालय ने अर्णेश कुमार के मामले में आरोपी की गिरफ्तारी पर दिशानिर्देशों का समर्थन किया था।

बढ़ेगी आशाकर्मियों और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की मानदेय एवं प्रोत्साहन राशि, PM मोदी ने की घोषणा 

सीआरपीसी की धारा 41 और 41-ए कहती है कि सात साल तक की जेल की सजा का सामना कर रहे किसी आरोपी को तब तक गिरफ्तार नहीं किया जाएगा जब तक पुलिस रिकॉर्ड में उसकी गिरफ्तारी के पर्याप्त कारणों को स्पष्ट नहीं किया जाता।

सही सूचना, कर्मचारियों के प्रयासों से ट्रेनों के समय पालन में सुधार: गोयल 

उच्च न्यायालय का आदेश ऐसे समय पर आया है जब अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (उत्पीड़न निरोधक) कानून का दुरूपयोग रोकने के लिए उच्चतम न्यायालय की ओर से पारित आदेश को पलटने की मंशा से हाल में संसद ने इस कानून में संशोधन के लिए एक विधेयक पारित किया है।

आखिरी टेस्ट मैच में हारने के बाद विराट कोहली ने दिया ये बड़ा बयान, कहा- हारने का मतलब...! 

शमी विकेट के साथ ही जेम्स एंडरसन ने बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड, ग्लेन मैक्ग्रा को पीछे छोड़ा

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.