सडक़ सुरक्षा स्कूल पाठ्यक्रम का हिस्सा बने : गडकरी

Samachar Jagat | Tuesday, 14 Aug 2018 04:28:40 PM
Road safety school became part of the curriculum: Gadkari

नयी दिल्ली। सडक़ परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने बढती सडक़ दुर्घटनाओं पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि वाहन चलाते समय सभी नियमों का सम्मान करें यह भाव हर चालक में पैदा करने के लिए स्कूल पाठ्यक्रमों में सडक़ सुरक्षा को शामिल किया जाना चाहिए।

 गडकरी ने सडक़ सुरक्षा को लेकर मंत्रालय के ब्रांड एम्बसडर तथा मशहूर अभिनेता अक्षय कुमार पर फिल्मांकित तीन वीडियो जारी करने के अवसर पर मंगलवार को यहां आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि जिस देश और समाज के लोगों में वाहन चलाते समय यातायात के नियमों को लेकर डर और सम्मान का भाव नहीं हो वहां लोगों को समझाना कठिन है।

उन्होंने कहा कि इसी स्थिति से निपटने के लिए उन्होंने राज्यों के शिक्षा मंत्रियों को पत्र लिखकर उनसे अनुरोध किया है कि वे स्कूल पाठ्यक्रमों में सडक़ सुरक्षा को जोड़ें ताकि लोगों के जहन में बचपन से ही सडक़ सुरक्षा के नियमों के पालन को लेकर सम्मान का भाव पैदा किया जा सके। उन्होंने कहा कि सडक़ों पर कैसे सुरक्षित चलना है यह बच्चों को पढाया जाना चाहिए।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सडक़ों पर होने वाली दुर्घटनाओं को लेकर लोग अक्सर डरते हैं कि बाद में उनसे पूछताछ हो सकती है। उन्होंने कहा कि लोगों को डरने की कोई जरूरत नहीं है। उनसे किसी भी तरह की पूछताछ नहीं होगी इसलिए जहां भी सडक़ दुर्घटना दिखे लोगों को बचाव के लिए आगे आना चाहिए। उन्होंने कहा कि उनका मसद हर साल होने वाली पांच लाख सडक़ दुर्घटनाओं को रोकना है। 

इन दुर्घटनाओं में डेढ लाख लोग मारे जाते हैं जिनमें 65 प्रतिशत युवक होते हैं। उन्होंने स्पष्ट किया किया कि‘सडक़ किसी के बाप की नहीं’वीडियो का मकसद किसी को अपमानित करना नहीं है बल्कि संदेश देना है कि वहां गलत चलोगे और नियमों का पालन नहीं करोगे तो संकट पैदा हो जाएगा। यहां लोगों की जान बचाने के लिए यह हास्य नाटक किया गया है। एजेंसी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.