रूपाणी और पटेल ने किए भगवान जगन्नाथ के दर्शन

Samachar Jagat | Saturday, 14 Jul 2018 10:42:34 AM
Rupani and Patel did Visions of Lord Jagannath

अहमदाबाद। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और उप मुख्यमंत्री नितिनभाई पटेल ने शुक्रवार को 141वीं जगन्नाथा रथयात्रा की पूर्वसंध्या पर अहमदाबाद के जगन्नाथजी मन्दिर में उनके दर्शन कर आरती की। रूपाणी ने इस अवसर पर कहा कि भगवान जगन्नाथजी सभी के देव हैं और सबका हालचाल जानने के लिए और  भक्तों को दर्शन देने के लिए वह स्वयं आषाढ़ी दूज को रथ में बिराजकर नगर यात्रा पर निकलते हैं।

यह हमारी परम्परा भी है और लोग भी इस यात्रा में उनके साथ शामिल होते हैं। उन्होंने कहा कि भगवान जगन्नाथजी की कृपा से राज्य में व्यापक वर्षा हो रही है। सर्व समाज और वर्गों के सुख-समृद्धि और विकास से गुजरात शक्तिशाली रहे, ऐसी प्रार्थना की है। सांस्कृतिक, धार्मिक और पारम्परिक उत्सव सामाजिक जीवन में सभी मिलकर मनाए जाने की परम्परा आज भी व्यापक तौर पर विस्तृत हुई है।

समग्र गुजरात में शहरों- नगरों में जगन्नाथजी की रथयात्रा जन उत्सव के रूप में शांति-सछ्वावना के मंत्र को आगे बढ़ाती हुए हर वर्ष निकलती है। मुख्यमंत्री ने कहा रथयात्रा का यह पर्व सभी साथ मिलकर मनाएं और गुजरात की विकास यात्रा को बन्धुत्व भावना से और आगे बढ़ाएं। मंदिर के न्यासी महेन्द्र झा ने बताया कि भगवान जगन्नाथ की 141वीं रथयात्रा की शुरुआत शनिवार आषाढी दूज की सुबह होगी।

दुनिया में कही भी इंडिया जैसी नदियों की दुर्दशा देखने को नहीं मिलती: अखिलेश

मुख्यमंत्री विजय रुपाणी और उपमुख्यमंत्री नितीनभाई पटेल एक साथ 2 सोने के झाडूओं से मार्ग साफ करने की पहिंद विधि कर रथ को खींच कर भगवान की इस रथयात्रा की शुरुआत करेंगे। गुजरात में अहमदाबाद के जगन्नाथ मंदिर, गांधीनगर में अडालज के जगन्नाथ मंदिर, कच्छ के गांधीधाम, जूनागढ, राजकोट, आणंद, वडोदरा सहित कई शहरों में शनिवार को आयोजित होने वाली भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा के दौरान जुटने वाली श्रद्धालुओं की भीड को देखते हुए श्रद्धालुओं की सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं।

गुजरात के सबसे बड़े शहर अहमदाबाद में हर साल लाखों लोगों की भीड़ के साथ निकलने वाली प्रसिद्ध जगन्नाथ रथ यात्रा की सुरक्षा के लिए हजारों सुरक्षाकर्मियों की तैनाती के साथ ही इस बार पहली बार इजरायल निर्मित ड्रोन गार्ड प्रणाली का भी उपयोग किया जाएगा। भगवान जगन्नाथ मंदिर के महंत दिलीपदासजी महाराज और ट्रस्टी महेन्द्रभाई झा ने यूनीवार्ता को बताया कि अहमदाबाद की भगवान जगन्नाथ रथयात्रा जगन्नाथपुरी की रथयात्रा की तर्ज पर ही निकलती है।

अहमदाबाद में भगवान के रथ परंपरागत मार्गों पर होकर रथ यात्रा कर शाम को मंदिर में वापस आ जाएंगे। यात्रा की शुरुआत सबसे पहले गजराज से होती है। इसलिए करीब 18 सजे हुए गजराज यात्रा में सबसे आगे रहेंगे। उसके बाद 101 प्रकार की झांकियां होंगी। इस दौरान कसरत के प्रयोग दिखाते हुए 30 अखांड़े, 18 भजन मंडली, तीन बैंडबाजे भी भगवान के रथ के साथ रहेंगे।

अगले 24 घंटे में पश्चिमी उत्तर प्रदेश में होगी झमाझम बरसात

करीब 2500 से अधिक साधु-संत हरिद्वार, अयोध्या, नासिक, उज्जैन, जगन्नाथपुरी और सौराष्ट्र से इस रथयात्रा में आएंगे। इस रथयात्रा के लिये प्रसाद के भी खास इंतजाम किए गए हैं। करीब 30 हजार किलोग्राम मूंग, 500 किलोग्राम जामुन, 300 किलोग्राम आम, 400 किलोग्राम ककड़ी, अनार और खिचड़ी का प्रसाद रथयात्रा के दौरान बांटा जाएगा। रथयात्रा के दौरान शहर में सुरक्षा के खास इंतजाम किए गए हैं।

सीआरपीएफ, एसआरपी की टीम के साथ-साथ गुजरात पुलिस के सुरक्षाकर्मी भी चप्पे-चप्पे पर तैनात रहेंगे। रथयात्रा के मार्ग पर सीसीटीवी कैमरे और ड्रोन से भी नजर रखी जाएगी। इस अवसर पर राज्य मंत्रिमंडल के सदस्य भूपेन्द्रसिंह चूड़ास्मा, दिलीपकुमार ठाकोर, प्रदीपसिंह जाड़ेजा, अहमदाबाद की मेयर बीजल पटेल समेत अहमदाबाद के विधायक और महानगरपालिका के पदाधिकारी भी उपस्थित थे।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.