आश्रय गृह मामला: न्यायालय ने यौन शोषण की पीड़िताओं की तस्वीरों को प्रसारित करने पर रोक लगाई

Samachar Jagat | Thursday, 02 Aug 2018 05:43:39 PM
Shelter Home Case: Court bans broadcasting photographs of victims of sexual abuse

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में राज्य वित्त पोषित एक एनजीओ द्बारा संचालित एक आश्रय गृह में बलात्कार और यौन शोषण की कथित पीड़िताओं की तस्वीरों को इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर प्रसारित करने पर गुरुवार को रोक लगा दी और कहा कि उन्हें (पीड़िताओं) बार-बार अपने अपमान को दोहराने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता।

कारगिल में लडऩे वाले लांस नायक सत्यवीर को उचित मदद दी गयी : सीतारमण

शीर्ष अदालत ने इस प्रतिबंध में मीडिया से भी कहा कि पीड़िताओं का साक्षात्कार नहीं ले। सरकार से सहायता प्राप्त गैर सरकारी संगठन द्बारा संचालित आश्रय गृह में कथित यौन शोषण के खिलाफ बिहार में वामदलों ने राज्य-व्यापी बंद न्यायालय ने यह आदेश दिया।

न्यायमूर्ति मदन बी लोकुर और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ ने पटना से रणविजय कुमार नामक एक व्यक्ति का एक पत्र मिलने के बाद इस मामले पर स्वत: संज्ञान लिया और आश्रय गृह में कथित यौन शोषण की शिकार लड़कियों का मीडिया द्बारा बार-बार साक्षात्कार लिये जाने पर चिता जताई।

पीठ ने बिहार सरकार और केन्द्र सरकार को नोटिस जारी किये और कथित पीड़िताओं की तस्वीरों का रूप बदलकर भी इन्हें इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर प्रसारित करने पर रोक लगाई। न्यायालय ने मीडिया को कथित यौन शोषित पीड़िताओं का साक्षात्कार नहीं करने का निर्देश दिया और कहा कि उन्हें बार-बार अपने अपमान को दोहराने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता।

शीर्ष अदालत ने कहा कि जांच एजेंसी पीड़िताओं से पूछताछ के दौरान पेशेवर काउंसिलर और योग्य बाल मनोचिकित्सकों की मदद लेगी। सीबीआई को आश्रय गृह में फॉरेंसिक जांच करने के निर्देश दिए गए हैं। मामले की अगली सुनवाई सात अगस्त को होगी। राज्य वित्त पोषित एनजीओ के प्रमुख ब्रजेश ठाकुर द्बारा चलाये जाने वाले एक केन्द्र पर 3० से अधिक लड़कियों के साथ कथित रूप से बलात्कार किया गया।

योगी ने दिए सिद्धार्थ विश्वविद्यालय में बौद्ध संस्कृति संकाय की स्थापना का निर्देश

टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस (टीआईएसएस), मुम्बई द्बारा अप्रैल में राज्य के समाज कल्याण विभाग को सौंपी गई एक ऑडिट रिपोर्ट में लड़कियों के कथित यौन शोषण के बारे में बताया गया था। गत 31 मई को ठाकुर समेत 11 लोगों के खिलाफ एक प्राथमिकी दर्ज की गई थी। अब इस मामले की जांच सीबीआई कर रही है।

चिकित्सा परीक्षण में 42 में से 34 लड़कियों के यौन शोषण की पुष्टि हुई है जबकि दो अन्य की स्थिति अब तक ठीक नहीं है और उनकी चिकित्सा जांच होनी है। टीआईएसएस की ऑडिट रिपोर्ट में कहा गया है कि आश्रय गृह में कई लड़कियों ने यौन शोषण की शिकायत की थी। इन शिकायतों की जांच के लिए एक विशेष जांच दल का गठन किया गया था।

मुजफ्फरपुर में एनजीओ द्बारा संचालित आश्रय गृह को काली सूची में डाला गया है और लड़कियों को पटना और  मधुबनी के आश्रय गृहों में स्थानांतरित किया गया है। आश्रय गृह की महिला स्टॉफ सदस्य और ठाकुर उन लोगों में शामिल थे जिन्हें मामले में स्थानीय पुलिस ने गिरफ्तार किया है। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.