शिवसेना और विपक्षी दलों ने प्रधानमंत्री को निशाना बनाने की माओवादी साजिश को हास्यास्पद बताया

Samachar Jagat | Tuesday, 12 Jun 2018 08:24:28 AM
Shiv Sena and opposition parties ridiculed Maoist plot to target Prime Minister

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की हत्या की माओवादियों की साजिश के बारे में महाराष्ट्र सरकार के दावे पर आज कांग्रेस और राकांपा ने सवाल खड़ा किया वहीं, शिवसेना ने इसे हास्यास्पद और किसी 'डरावनी’ फिल्म की कहानी बताया। इस बीच, प्रधानमंत्री की सुरक्षा मजबूत करने पर फैसला करने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिह की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय बैठक हुई। बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, केंद्रीय गृह सचिव राजीव गॉबा और खुफिया ब्यूरो (आईबी) के निदेशक राजीव जैन ने शिरकत की भगवा पार्टी ने पलटवार करते हुए कहा कि यह संवेदनहीनता और राजनीति का निम्नतम स्तर है।

वहीं, राकांपा प्रमुख शरद पवार ने आरोप लगाया कि भाजपा सहानुभूति पाने के लिए 'खतरे का कार्ड’ खेल रही है। गौरतलब है कि महाराष्ट्र पुलिस ने दावा किया था कि माओवादी प्रधानमंत्री मोदी और राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडनवीस की हत्या की साजिश रच रहे हैं। इसी के मद्देनजर आज की टिप्पणी आई है।

पुलिस ने माओवादियों से कथित संपर्क रखने वाले पांच लोगों को पिछले हफ्ते गिरफ्तार कर कहा था कि उन्होंने उनमें से एक के घर एक पत्र बरामद किया। पत्र में राजीव गांधी की हत्या की शैली में मोदी की हत्या करने के बारे में गया है। शिवसेना ने प्रधानमंत्री मोदी को निशाना बनाने के माओवादियों के षड्यंत्र को आज ''हास्यास्पद’’ करार दिया और कहा कि यह साजिश तर्कसंगत प्रतीत नहीं होता और किसी 'डरावनी फिल्म’ की कहानी लगता है।

पार्टी ने तंज कसते हुए कहा कि हाई प्रोफाइल नेताओं को व्यापक सुरक्षा कवर मुहैया कराई जानी चाहिए, भले ही लाखों लोग नक्सली हमले में क्यों नहीं मारे जा रहे हों। शिवसेना के मुखपत्र 'सामना’ में कहा गया है, ''उन्हें सुरक्षा दी जानी चाहिए। यह ठीक है कि लाखों लोग मर जाएं (नक्सली हमले में) लेकिन उन्हें जिदा रहना चाहिए।’’

शिवसेना ने दावा किया कि मोदी की सुरक्षा मोसाद (इस्राइल की खुफिसा एजेंसी) जैसी मजबूत है और किसी के लिए भी इसे भेदना लगभग असंभव है। इसने आरोप लगाए कि इसी तरह फडणवीस ने राज्य सचिवालय को ''किले’’ में तब्दील कर दिया है जहां आम आदमी की आवाजाही कठिन हो गई है।

माओवादियों के कथित पत्र को उद्धृत करते हुए शिवसेना ने कहा, ''मोदी 15 राज्यों में सरकार बनाने में सफल रहे हैं। अगर यह जारी रहता है तो संगठन को खतरा पैदा हो जाएगा। इसलिए, मोदी को खत्म कर देना चाहिए। इन सब का खुलासा पुलिस ने किया है जो हास्यास्पद है।’’

पवार की टिप्पणी की आलोचना करते हुए फडणवीस ने कहा कि राज्यसभा सदस्य से ''इतना नीचे गिरने’’ की उम्मीद नहीं थी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने कहा कि उन्हें लगता कि यह पत्र असत्यापित है। यह सरकार का कर्तव्य है कि वह प्रधानमंत्री को फूलप्रूफ सुरक्षा मुहैया करे केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि हर किसी को इस तरह की कोशिश की निदा करनी चाहिए। उन्होंने कहा , ''लोग अब भी संवेदनशील नहीं हैं।’ ऐजेंसी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.