किसानों के आक्रोश को समझो: शिव सेना

Samachar Jagat | Friday, 14 Dec 2018 06:54:44 PM
Shiv Sena said understand the Anger of the farmers

मुंबई। देश भर के राजनीतिक दल हाल ही में हुए पांच राज्यों में संपन्न चुनावों का मंथन और विश्लेषण करने में लगे हुए हैं और मीडिया के लोग इसे प्राथमिकता से दिखा रहे हैं लेकिन राजनीति के इस कोलाहल में मराठवाडा के 855 किसानों की आत्महत्या पर भी सरकार में बैठे लोगों को विचार-मंथन करने की जरूरत है।

महिलाओं के खिलाफ भेदभाव में सामाजिक मानक जिम्मेदार: यूनीसेफ

शिव सेना पार्टी के मुखपत्र सामना के शुक्रवार  के संपादकीय में लिखा है कि जनवरी 2018 से नवंबर 2018 तक मराठवाडा में 855 किसानों ने आत्महत्या की है। कर्ज का बोझ, फसलों की बर्बादी, लगातार बारिश कमी, कर्जमाफी के उलझाने वाले नियम, कृषि उत्पादन का लागत दाम नहीं मिलने जैसी अनेक चिंताएं हैं जो किसानों को जीवन लीला समाप्त करने के लिए मजबूर कर देती हैं।

राफेल विमान सौदा:जेपीसी से दोबारा जांच कराने की कांग्रेस की मांग

सरकार की ओर से किसानों पर ध्यान नहीं देने से किसानों को लगता है कि यह सरकार उनकी नहीं है। किसानों को लगता है कि कोई भी सरकार आये, उनकी हालत में कोई बदलाव नहीं होगा, ऐसी भावना किसानों के मन में बैठ गई है। इन्हीं कारणों से मराठवाडा, विदर्भ और महाराष्ट्र के अन्य क्षेत्रों में किसानों की आत्महत्या का सिलसिला थम नहीं रहा है।

राफेल सौदे में सभी याचिकाएं खारिज, मोदी सरकार को मिली सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत

उन्होंने कहा कि किसानों के मामले में राजनीति नहीं होनी चाहिए। पांच राज्यों के चुनाव परिणाम को देखते हुए सरकार को कम से कम अब तो जागना होगा। अभी भी समय है किसानों के हित के लिए शीघ्र कदम उठाए जाएं अन्यथा हाल के चुनाव नतीजे दोहराएं जा सकते हैं।
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.