26वीं बरसी: अयोध्या में सुरक्षा के कड़े बन्दोबस्त, जिले में धारा 144 लागू

Samachar Jagat | Thursday, 06 Dec 2018 09:49:31 AM
Stronger security in Ayodhya

अयोध्या। उत्तर प्रदेश के अयोध्या में विवादित ढांचा ध्वस्त होने की 26वीं बरसी के मौके पर सुरक्षा के कड़े बन्दोबस्त किए गए है तथा जिलें में धारा 144 लगा दी गई है। विवादित ढांचा गिराने जाने बरसी के दिन 6 दिसम्बर को हिन्दू संगठनों ने शौर्य दिवस और मुस्लिम संगठनों यौमे गम दिवस मनाने की घोषणा के बाद अयोध्या में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है।

जगह जगह चेकिंग अभियान चलाया जा रहा है। जिलें में धारा 144 लागू कर दिया गया है। पुलिस अधीक्षक नगर अनिल कुमार सिसौदिया ने बुधवार को यहां 'यूनीवार्ताृ को बताया कि छह दिसम्बर 1992 को विवादित ढांचा ध्वस्त होने की 26 वीं बरसी पर विभिन्न संगठनों ने कई कार्यक्रम आयोजित करने की घोषणा की है।

उन्होंने कहा कि इस के मद्देनजर अयोध्या में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। उन्होंने बताया कि सुरक्षा के लिए स्थानीय पुलिस बल के अलावा 12 अपर पुलिस अधीक्षक, 15 पुलिस उपाधीक्षक , 40 उपनिरीक्षक, 50 थानाध्यक्ष, 80 सब इंस्पेक्टर, एक सौ कांस्टेबिल समेत दस कम्पनी पीएसी, एआरएफ की तैनाती की गई है।

विवादित श्रीरामजन्मभूमि परिसर के आसपास लगे सुरक्षा बलों को सतर्कता बरतने के लिये निर्देश दिए गए हैं। सिसौदिया ने बताया कि अयोध्या में आने वाले व्यक्तियों की कड़ी निगरानी की जा रही है। असामाजिक तत्वों पर कड़ी नजर रखने के निर्देश दिए गए है। अयोध्या के होटल, गेस्ट हाउस, रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन एवं सराय पर भी आने-जाने वालों और ठहरने वालों की निगरानी के आदेश दिए गए हैं।

उन्होंने बताया कि इस सिलसिले में जिलाधिकारी डां. अनिल कुमार पाठक और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जोगेन्द्र कुमार, अपर जिलाधिकारी नगर विध्यवासिनी राय की अध्यक्षता में एक बैठक आयोजित की गयी जिसमें सुरक्षा व्यवस्था का गहन समीक्षा की गई। पूरे जिले निषेधाज्ञा लागू है।

सिसौदिया ने बताया कि 6 दिसम्बर को आयोजित सभी कार्यक्रमों की वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी कराने के साथ-साथ सादी वर्दी में फोर्स तैनात की गई है। सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए इसे 4 जोन और नौ सेक्टरों में बांटा गया है। चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा कर्मी तैनात किए गए है।

अयोध्या के चारों तरफ लगे बैरियर लगाकर सघन चेकिग की जा रही है। जगह-जगह सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। ड्रोन कैमरे से भी निगरानी की जा रही है। विवादित ढांचा ध्वस्त होने की बरसी पर धर्मसेना ने भी सरयू के किनारे राम की पैड़ी पर उपवास दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है।

बाबरी विध्वंस के आरोपी और धर्मसेना के अध्यक्ष संतोष दूबे ने भी अयोध्या में स्थित विवादित रामजन्मभूमि पर विराजमान रामलला के मंदिर के निर्माण के लिए छह दिसम्बर को सैकड़ों की संख्या में धर्मसेना सरयू के किनारे राम की पैड़ी पर पांच घंटे का उपवास करेगी।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.