जदयू और राजद के बीच लेटर वॉर जारी, तेजस्वी यादव ने एक बार फिर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर खुली चिट्ठी के जरिए किया हमला

Samachar Jagat | Thursday, 16 May 2019 01:53:28 PM
Tejashwi Yadav again attacked Chief Minister Nitish Kumar through open letter

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

पटना। बिहार में सत्तारूढ जनता दल यूनाईटेड (जदयू) और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के बीच जारी 'लेटर वॉर’ के सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने एक बार फिर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर खुली चिट्ठी के जरिए हमला किया और कहा कि पार्टी सुप्रीमों लालू प्रसाद यादव की बजाए वह (कुमार) जेल जाने के असली हकदार हैं।

मैंने जो कुछ कहा वह ऐतिहासिक सच है, मैं किसी को झगड़े के लिए नहीं उकसाता : कमल हासन

यादव ने माइक्रो ब्लागिंग साइट ट्विटर पर कुमार के नाम से चिट्ठी लिखी है जिसमें उन पर जमकर हमला किया गया है। उन्होंने कहा, सत्य परेशान हो सकता है पराजित नहीं। देर-सवेर बिहार की जनता को न्याय मिलेगा और उनके हक की आवाज़ उठाने वाला भी जल्द ही उनके बीच होगा और फिर हमारे पिता ही जनता की तरफ से बिहार पर हुए एक-एक अन्याय का हिसाब जनादेश के महाचोरों से लेंगे। झूठ, धोखे और अवसरवाद को उसकी सही जगह यानी अदालत के कठघरे और फिर जेल के सींखचों में पहुचाएंगे क्योंकि जेल जाने के असली हकदार आप हैं वो नहीं।

सीएम ममता बोलीं, मोदी-शाह के निर्देश पर हुआ चुनाव प्रचार का समय कम करने का फैसला

नेता प्रतिपक्ष ने लिखा, लोकतांत्रिक मूल्यों एवं जनादेश का अनादर कर जनता की नज़रों में आप आदर-सम्मान खो चुके हैं। जनता द्बारा जगह-जगह निरंतर आपका विरोध यह दर्शाता है कि आप जनता के लिए कितने अप्रिय हो गए हैं लेकिन मेरे लिए आप अब भी अतिप्रिय हैं। जनआक्रोश की पराकाष्ठा तो यह है कि बक्सर के नंदन गांव में महादलितों ने आप पर हमला तक कर दिया। जिसकी हमने कड़ी निंदा भी की। -एजेंसी

योगी ने राम मंदिर, तीन तलाक के नाम पर पटना के लोगों से रविशंकर के लिये मांगा समर्थन


 

loading...


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
loading...


Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.