सुप्रीम कोर्ट ने मायावती को दिया बड़ा झटका, कहा-जनता के पैसे से बनाई मूर्तियों की रकम करानी होगी अब जमा

Samachar Jagat | Friday, 08 Feb 2019 04:46:25 PM
The Supreme Court has given a big blow to Mayawati, said- the amount of idols made of public money will be deposited now

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने बसपा सुप्रीमो मायावती को मूर्तियों व स्मारक निर्माण मामले में बड़ा झटका दिया है। शुक्रवार को मूर्तियों के निर्माण से जुडी हुई एक याचिका ​की सुनवाई करते समय सुप्रीम कोर्ट ने बताया कि उनकी राय है कि मूर्तियों पर खर्च पैसे को मायावती को सरकारी कोष में जमा करवाना चाहिए। इस मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस रंजन गोगाई कर रहे थे। चीफ जस्टिस ने इस पर सख्त टिप्पणी करते हए कहा है कि प्रथम दृष्टया मूर्तियों, स्मारक और पार्कों पर खर्च हुए जनता के पैसे को मायावती को सरकारी कोष में जमा करना होगा। 

हालांकि अब सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की अगली सुनवाई 2 अप्रैल को होगी। बता दें कि साल 2009 में ​​​रविकांत व अन्य ने स्मारकों और मूर्तियों के निर्माण के खिलाफ याचिका दायर की थी। इस याचिका को खारिज करने के लिए बसपा सुप्रीमो की तरफ से एक याचिका दायर हुई थी।

 

जिस पर सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस रंजन गोगाई ने मायावती से वकील से कहा है कि अपने क्लाइंट को बता दीजिए कि उन्हें हाथियों और मूर्तियों पर खर्च जनता के पैसों को सरकारी खजाने में वापस करना चाहिए। 


गौरतलब है कि मायावती के यूपी में अपने शासन के समय कई पार्कों का निर्माण करवाया था। इसके साथ ही इन पार्कों पर बसपा संस्थापक कांशीराम, मायावती और हाथियों की मूर्तियां लगवाई गई थी। इस मुद्दे पर विपक्षी पार्टीयां चुनावों में उछालकर मायावती पर निशाना साधते आई है। 

दरअसल, मायावती ने अपने शासन में ये पार्क लखनऊ, नोएडा समेत अन्य शहरों में बनवाए गए थे। तो वहीं सपा सरकार में आई एक रिपोर्ट के अनुसार खनऊ, नोएडा और ग्रेटर नोएडा में निर्माण किए गए इन पार्कों पर कुल 5,919 करोड रुपए खर्च किए गए थे। इसके साथ ही इस रिपोर्ट में यह भी बताया गया कि इन पार्कों और मूर्तियों के रखरखाव के लिए 5,634 कर्मचारी बहाल किए गए थे। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.