इसरो के लिए आज अति महत्वपूर्ण दिन, विक्रम लैंडर चांद पर उतरने के लिए चंद्रयान-2 से होगा अलग 

Samachar Jagat | Monday, 02 Sep 2019 09:35:13 AM
Today is a very important day for ISRO, Vikram lander will be separated from Chandrayaan-2 to land on the moon.

इंटरनेट डेस्क। 2 सितंबर को विक्रम लैंडर चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर से अलग हो जाएंगा। ऑर्बिटर से अलग होने के बाद भी 20 घंटे तक विक्रम लैंडर ऑर्बिटर के पीछे-पीछे उसी कक्षा में चक्कर लगाता रहेगा। 3 सितंबर को विक्रम लैंडर अपनी नई कक्षा में वापस जाएगा।

चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर से अलग हो जाएगा  भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने बताया कि 2 सितंबर को विक्रम लैंडर, चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर से अलग हो जाएगा। दोपहर 12.45 से 13.45 के बीच इसरो वैज्ञानिक इस काम को अंजाम देंगे। चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर से अलग होने के बाद भी करीब 20 घंटे तक विक्रम लैंडर ऑर्बिटर के पीछे-पीछे उसी कक्षा में चक्कर लगाता रहेगा।

चंद्रयान-2 तीन हिस्सों से मिलकर बना है - पहला- ऑर्बिटर, दूसरा- विक्रम लैंडर और तीसरा- प्रज्ञान रोवर। विक्रम लैंडर के अंदर ही प्रज्ञान रोवर है, जो सॉफ्ट लैंडिंग के बाद बाहर निकलेगा। 3 सितंबर को सुबह 9.00 से 10.00 बजे के बीच विक्रम लैंडर चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर का पीछे छोड़कर नई कक्षा में चला जाएगा।

इस ऑर्बिट में डालने के लिए इसरो वैज्ञानिक करीब 3 सेकंड के लिए उसका इंजन ऑन करेंगे। इसके बाद विक्रम लैंडर 109 किमी की एपोजी और 120 किमी की पेरीजी में चांद के चारों तरफ अंडाकार कक्षा में चक्कर लगाएगा। 
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.