13 जूनः एक क्लिक में पढ़ें 10 बड़ी खबरें

Samachar Jagat | Wednesday, 13 Jun 2018 04:31:57 PM
Today's Top ten news

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

पाकिस्तान की गोलीबारी में बीएसएफ के चार जवान शहीद, तीन घायल

In the firing of Pakistan four BSF jawans martyr Three wounded

जम्मू। जम्मू कश्मीर के सांबा जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तानी रेंजर्स की ओर से की गयी गोलीबारी में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के एक सहायक कमांडेंट रैंक के अधिकारी समेत चार कर्मी शहीद हो गए और तीन अन्य घायल हो गए। बीएसएफ (जम्मू फ्रंटियर) के आईजी राम अवतार ने कहा , '' पाकिस्तानी रेंजर्स ने कल रात रामगढ़ सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर गोलीबारी की। हमने एक सहायक कमांडेंट रैंक के अधिकारी समेत चार सुरक्षाकर्मियों को खो दिया है जबकि हमारे तीन अन्य जवान घायल हो गए हैं। 

उन्होंने बताया कि पाकिस्तानी रेंजर्स और बीएसएफ हाल ही में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर संघर्ष विराम के लिए सहमत हुए थे लेकिन पाकिस्तानी बल ने सीमा पार से गोलीबारी कर इसका उल्लंघन किया। जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) एस पी वैद ने ट्वीट कर घटना पर दुख जताया। हालांकि उन्होंने अपने ट्वीट में घायलों की संख्या पांच बताई।

उन्होंने कहा , '' जम्मू के रामगढ़ सेक्टर में सीमा पार से गोलीबारी में एक सहायक कमांडेंट समेत बीएसएफ के चार जवान शहीद हो गए और पांच घायल हो गये। हमारी संवेदनाएं मृतकों के परिजनों के प्रति है। ’’ एक बयान में बीएसएफ ने बताया , '' रात करीब 9 बजकर 40 मिनट पर पाकिस्तानी रेंजर्स ने पोस्ट अशरफ से बीओपी चामलियाल पर बिना उकसावे के गोलीबारी शुरू कर दी।’’ बयान में बताया गया है , '' बिना उकसावे की इस गोलीबारी का जवाब देते हुए सहायक कमांडेंट जितेन्द्र सिंह , एसआई रजनीश , एएसआई रामनिवास और कांस्टेबल हंसराज शहीद हो गये। तीन अन्य जवान घायल हो गये। बीएसएफ के घायल जवानों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। ’’

एक पुलिस अधिकारी ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर बताया कि रामगढ़ सेक्टर के चमलियाल पोस्ट इलाके में सीमापार से गोलीबारी कल रात करीब साढ़े दस बजे शुरू हुई और तड़के साढ़े चार बजे तक जारी रही। अधिकारी ने बताया कि बीएसएफ जवानों ने भी गोलीबारी का जवाब दिया। अंतरराष्ट्रीय सीमा पर इस महीने यह संघर्ष विराम उल्लंघन की दूसरी बड़ी घटना है और 29 मई को दोनों देशों के डीजीएमओ के बीच 2003 के संघर्षविराम समझौते को अक्षरश : लागू करने पर राजी होने के बावजूद यह घटना हुई है।

गत तीन जून को प्रागवाल , कानाचक और खौर सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तानी रेंजर्स की भारी गोलाबारी और गोलीबारी में एक सहायक उप निरीक्षक समेत दो बीएसएफ जवान शहीद हो गए थे और दस लोग घायल हो गए थे। पाकिस्तान द्बारा संघर्ष विराम उल्लंघन की इस ताजा घटना के साथ ही इस साल सीमा पर मृतकों की संख्या 50 पर पहुंच गई है जिनमें 24 जवान शामिल हैं।

पिछले महीने 15 मई और 23 मई के बीच पाकिस्तान की ओर से भारी गोलीबारी के कारण जम्मू , कठुआ और सांबा जिलों में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर रह रहे हजारों लोगों को अपने घरों को छोड़कर जाना पड़ा था। इस दौरान गोलीबारी में दो बीएसएफ जवान और एक शिशु समेत 12 लोग मारे गए थे और कई अन्य घायल हो गए थे। 

तिलमिलायी भाजपा कर रही है मुझे बदनाम करने की साजिश: अखिलेश

Tilmilai BJP is plotting to defame me: Akhilesh

लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने हाल में अपने सरकारी बंगले में कथित तोड़फोड़ को लेकर किए जा रहे प्रचार को उन्हें बदनाम करने की सरकारी साजिश करार देते हुए आज कहा कि हाल के उपचुनावों में मिली हार और विपक्षी दलों के गठबंधन से परेशान भाजपा ने यह ओछी हरकत की है। बंगले में तोड़फोड़ का मामला तूल पकड़ने के बाद सपा अध्यक्ष ने प्रेस कांफ्रेंस में सफाई दी और भाजपा पर जमकर बरसे।

अखिलेश ने कहा कि इन दिनों सोशल मीडिया पर चर्चा है कि हम अपने सरकारी बंगले को खाली करने के दौरान टोटियां खोल ले गये और फर्श का पत्थर तोड़ डाला। यह सरासर गलत और मुझे बदनाम करने के लिये ही किया गया है। इसमें कुछ अधिकारी भी शामिल हैं।पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिकारी नम्बर बढ़ाने की होड़ कर रहे हैं।

सरकार मुझे बताये कि मैं कौन सी सरकारी चीज अपने साथ ले गया। मैंने जो चीजें अपने पैसे से लगवायी थीं, वह मैं ले गया। हम चाहते हैं कि सरकार बताये कि इंवेंट्री क्या है। सरकार का कितना पैसा खर्च हुआ है। अखिलेश ने कहा कि भाजपा यह इसलिये कर रही है क्योंकि वह गोरखपुर और फूलपुर की हार स्वीकार नहीं कर पा रही है। यह समझ लें कि इस अपमान के लिये जनता उसे सबक सिखाएगी।

उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सचिव मृत्युंजय कुमार नारायण का नाम लेते हुए कहा कि मीडिया यह बताये कि आखिर उसके पहुंचने से पहले बंगले में कौन अधिकारी पहुंचे थे। किसने वहां पर वीडियो बनायी और किसने चीजों को मीडिया में अपने मुताबिक फैलाया। जिस स्विमिग पूल की तस्वीरें वायरल हो रही हैं, वह तो बंगले में मौजूद ही नहीं है। अधिकारियों को याद रखना चाहिये कि सरकारें बदलती रहती हैं।

अखिलेश ने बंगले में कथित तोड़फोड़ के मामले में कार्रवाई के लिये राज्यपाल द्बारा कल मुख्यमंत्री को पत्र लिखे जाने पर सख्त टिप्पणी करते हुए आरोप लगाया ''गवर्नर साहब संविधान से नहीं चल रहे हैं। उनके अंदर आरएसएस की आत्मा है। राज्यपाल बहुत अच्छे इंसान हैं। उन्हें संविधान के हिसाब से बोलना चाहिये मगर संघ की आत्मा आ जाती है तो हम क्या करें।''

उन्होंने मुख्यमंत्री योगी पर निशाना साधते हुए कहा, ''मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव रिश्वत मांग रहे थे। पुलिस ने कमाल कर दिया। इल्जाम लगाने वाले को एक ही दिन में पागल करार दे दिया। आप मुझ पर इल्जाम लगा रहे हो। कितने छोटे दिल के इंसान हो आप। मेट्रो के उद्घाटन में गये मगर पिछली सरकार का धन्यवाद नहीं दिया। आलमबाग बस अड्डे के लिये भी धन्यवाद नहीं दिया।’’

मालूम हो कि सोशल मीडिया पर इन दिनों कई तस्वीरें पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश द्बारा खाली किये गये बंगले की बताकर वायरल की जा रही हैं। उनमें चीजों को अस्त-व्यस्त दिखाया गया है। फर्श उखड़ा हुआ है और टोटियां तथा बिजली के स्विच निकले हुए हैं। इसे लेकर सोशल मीडिया पर अखिलेश की खूब आलोचना भी हो रही है।

अमेरिका ने भारत को ये खास हेलीकॉप्टर बेचने को दी मंजूदी, ये है खास खूबिया

America Approves India To Sell Apache Attack Helicopter

वाशिंगटन। अमेरिका ने भारत को 93 करोड़ डॉलर में छह एएच -64 ई अपाचे अटैक हेलीकॉप्टर बेचने के सौदे को मंजूरी दे दी है। अमेरिकी रक्षा मुख्यालय पेंटागन ने बुधवार को कहा कि इससे अंदरूनी एवं क्षेत्रीय खतरों से मुकाबले की भारत की क्षमता को मजबूती मिलेगी। अपाचे अटैक हेलीकॉप्टर अपने आगे लगे सेंसर की मदद से रात में उड़ान भर सकता है।

पेंटागन की डिफेंस सिक्योरिटी कोऑपरेशन एजेंसी ने इस संबंध में विदेश मंत्रालय के फैसले को लेकर कांग्रेस को सूचित किया। अगर कोई सांसद इसका विरोध नहीं करता है तो बिक्री की प्रक्रिया आगे बढऩे की उम्मीद है। अटैक हेलीकॉप्टर के अतिरिक्त इस अनुबंध में अग्नि नियंत्रण रडार  ‘हेलफायर लॉन्गबो मिसाइल’, स्टिंगर ब्लॉक क्र-92क्च मिसाइल, रात में नजर रखने में सक्षम नाइट विजन सेंसर एवं जड़त्वीय नौवहन प्रणाली (इनर्शियल नेविगेशन सिस्टम्स) की बिक्री भी शामिल है।

कांग्रेस को भेजी गई अपनी अधिसूचना में पेंटागन ने कहा, ‘ इससे अंदरूनी एवं क्षेत्रीय खतरों से मुकाबले की भारत की क्षमता को मजबूती मिलेगी।’ पेंटागन ने कहा, ‘ एएच -64 ई के सहयोग से जमीनी बख्तरबंद खतरों से मुकाबले भारत की रक्षा क्षमता बढ़ेगी और इसका सैन्य बल आधुनिक होगा।’ इसके अनुसार, ‘उपकरणों की प्रस्तावित बिक्री एवं सहयोग से क्षेत्र में मूलभूत सैन्य संतुलन नहीं बिगड़ेगा।’ भारत एवं अमेरिका के बीच द्विपक्षीय रक्षा कारोबार वर्ष 2008 से करीब शून्य से 15 अरब डॉलर तक बढ़ा है।

अमेरिकी विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने एक समाचार एजेंसी को बताया कि, ‘ अगले दशक तक सैन्य आधुनिकीकरण पर भारत के अरबों खर्च करने की संभावना है और हम अमेरिकी उद्योग जगत के लिए यह मौका हासिल करने को इच्छुक हैं। ऐसी बिक्रियों से ना सिर्फ हमारे रक्षा सहयोग को समर्थन मिलेगा बल्कि इनसे देश के अंदर नौकरियां भी पैदा होंगी।’ हाल के वर्षों में अमेरिका ने सरकारी स्तर पर भारत को सी-17 परिवहन विमान , 155 मिमी लाइट-वेट टोड होवित्जर , यूजीएम -84 एल हारपून मिसाइल , सपोर्ट फॉर सी -130जे सुपर हरक्युलिस विमान और रासायनिक, जैविक, रेडियोलॉजिकल एवं परमाणु (सीबीआरएन) सहयोग उपकरण बेचे हैं।

लाभ नहीं होने पर परमाणु समझौते में बने रहना असंभव: ईरान

Non-profit is not possible in the nuclear agreement: Iran

लंदन। ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने कहा है कि यदि अंतरराष्ट्रीय परमाणु समझौते से तेहरान को लाभ नहीं हो सकता तो उसका इस समझौते में बने रहना असंभव है। बता दें ईरान चाहता है कि अंतरराष्ट्रीय परमाणु समझौते से तेहरान को लाभ मिले। अगर अंतरराष्ट्रीय परमाणु समझौते में तेहरान को लाभ नहीं मिला तो ईरान अपना हाथ हठा लिया। रूहानी ने मंगलवार को फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन से फोन पर बातचीत के दौरान यह बात कही। उन्होंने मैक्रॉन से इस समझौते को बचाए रखने का आग्रह किया है।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्बारा ईरान के साथ हुए ऐतिहासिक अंतरराष्ट्रीय परमाणु समझौते से अमेरिका के अलग होने की घोषणा करने के बाद यूरोपीय देशों की ओर से इस समझौते को बचाने के भरपूर प्रयास किए जा रहे हैं। ईरान की सरकारी समाचार एजेंसी आईआरएनए के मुताबिक राष्ट्रपति रूहानी ने कहा, यदि ईरान को अंतरराष्ट्रीय परमाणु समझौते से लाभ नहीं हो सकता तो उसका इस समझौते में बने रहना असंभव है।

रूहानी ने परमाणु समझौते के मुद्दे पर यूरोपीय देशों के रवैया विशेष रूप से फ्रांस की ओर से इस समझौते को बचाए रखने के लिए किए जा रहे प्रयासोंं को लेकर संतुष्टि जाहिर की है।

गौरतलब है कि वर्ष 2015 में ईरान ने अमेरिका, चीन, रूस, जर्मनी, फ्रांस और ब्रिटेन के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। इस समझौते के तहत ईरान ने आर्थिक प्रतिबंधों को हटाने के बदले अपने परमाणु कार्यक्रम को सीमित करने पर सहमति जताई थी।

अफगानिस्तान उतरेगा इतिहास लिखने, तो भारत बनेगा इसका गवाह!

India to be part of Afghanistan's history

खेल डेस्क। जिस देश में हर तरफ आतंकवाद का साया हो जहां हर रोज हमले होते रहते हैं जिनमें ना जाने कितने मासूम लोग बिना मतलब मौत के घाट उतार दिए जाते है। उस देश के खिलाडिय़ों ने दुनिया के सामने अपने खेल के दम पर एक अलग ही पहचान बनाई है। इन घटनाओं के बाद भी अपनी प्रतिभा के दम पर वो न सिर्फ आगे आए बल्कि विश्व क्रिकेट में एक अलग मुकाम भी बनाया है। इस बात का उदाहरण और कोई नहीं बल्कि अफगानिस्तान की क्रिकेट टीम है।

इन जख्मों को सहने के बाद अफगानिस्तान एक और इतिहास रचने जा रही है और अफगान के इस इतिहास का गवाह कोई और नहीं बल्कि भारत बनेगा। जानकारी के अनुसार अफगानिस्तान गुरुवार से भारत के खिलाफ टेस्ट पर्दापण कर नया इतिहास रचने जा रही है जिसमें भारतीय क्रिकेट टीम उसका हिस्सा बनेगी।

अफगानिस्तान की टीम गुरूवार से भारत के खिलाफ बेंगलुरू के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में एकमात्र टेस्ट खेलने उतरेगी जो उसका पदार्पण टेस्ट होगा और इसी के साथ वह टेस्ट प्रारूप में आधिकारिक रूप से प्रवेश कर लेगी। अफगान टीम के लिए यह भी यादगार होगा कि वह दुनिया की नंबर एक टेस्ट टीम भारत के खिलाफ अपना पहला टेस्ट खेलेगी। अफगान टीम असगर स्तानिकजई की कप्तानी में अपना पहला टेस्ट मैच खेलने उतरेगी जबकि भारतीय टीम अजिंक्या रहाणे के नेतृत्व में इस मैच में खेलेगी।

भारतीय टीम जहां टेस्ट प्रारूप की शीर्ष टीम है तो वहीं अफगानिस्तान ने हाल ही में देहरादून में हुई तीन वनडे मैचों की सीरीज में बंगलादेश के खिलाफ 3-0 की एकतरफा ऐतिहासिक जीत दर्ज की थी और उसके भी हौंसले काफी बुलंद है। वर्ष 2001 में ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) से अफगान टीम को मान्यता प्राप्त हुई थी और दो दशक से भी कम समय में उसके खिलाड़यिों ने अपने प्रदर्शन की बदौलत टेस्ट तक का सफर तय कर लिया है जबकि वर्ष 2009 में ही उसे वनडे का दर्जा प्राप्त हुआ है। स्तानिकजई ने टेस्ट पदार्पण से पूर्व कहा हमारे लिए टेस्ट प्रारूप की शुरूआत करना गर्व का पल है।

"मैं कहूंगा कि अनुभव आसानी से खरीदा नहीं जा सकता है" :कार्तिक

खेल डेस्क। भारत और अफगानिस्तान के बीच ऐतिहासिक टेस्ट मैच कल बंगलौर के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेला जायेगा। जबकि यह श्रृंखला दोनों देशों के बीच बेंगलोरे के एम चिन्नास्वामी क्रिकेट ग्राउंड में खेला जायेगा, असगर स्टेनिकज़ई ने थोड़े दिन पहले पहले यह उल्लेख किया था कि उनके स्पिनर भारतीय स्पिनरों से बेहतर है। लेकिन उनके इस बयान का भारतीय खिलाडी दिनेश कार्तिक ने जमकर जवाब दिया है। अफगानिस्तान के खिलाफ यह एकमात्र टेस्ट बेहद  रोमांचक होने को है। 

इस ऐतिहासिक मैच के लिए कुछ भारतीय खिलाड़ियों के साथ टिप्पणियां अच्छी नहीं हुईं। करुण नायर, जिन्होंने एक साल बाद टेस्ट टीम में वापसी की, अफगान कप्तान के लिए उनकी अपमानजनक टिप्पणियों के लिए तैयार की गयी। विकेटकीपर-बल्लेबाज दिनेश कार्तिक ने भी पीछा किया। उन्होंने अफगानों की तुलना में भारतीय स्पिनरों का अनुभव प्रस्तुत किया। कार्तिक ने कहा की "मुझे नहीं पता कि उस व्यक्ति ने क्या कहा था, लेकिन आपको यह समझना होगा कि हमें न केवल टेस्ट मैच क्रिकेट में बल्कि बहुत से अनुभव मिले हैं। उनके सभी स्पिनरों ने एक साथ होंगे, उन्होंने अभी तक टेस्ट मैच नहीं खेला है।"

कार्तिक ने आगे कहा "हालांकि, उन्होंने सीमित ओवरों के क्रिकेट में गेंदबाजी की है उनकी शानदार प्रदर्शन के लिए मैं उनकी सराहना करता हूँ  "आईपीएल में सीएसके के साथ देखा गया," दिन के अंत में अनुभव बहुत काम आया मुझे पूरा यकीन है कि अगले टेस्ट मैच की शुरुआत से बेहतर गेंदबाज होंगे जो अब वे हैं। व्हाइट बॉल क्रिकेट में उन्होंने जो सुधार दिखाया है वह असाधारण रहा है"कार्तिक ने साथ ही यह भी टिप्पणी की कि अफगान सफेद कपड़ों के क्रिकेट में भी चमक सकते हैं। "ऐसा कोई कारण नहीं है कि वे लाल गेंद के क्रिकेट में ऐसा क्यों नहीं कर सकते हैं। लेकिन मैं कहूंगा कि हमारे स्पिनरों के पास बहुत अनुभव है और मैं कहूंगा कि अनुभव आसानी से खरीदा नहीं जा सकता है"।

सेंसेक्स 47 अंक मजबूत, निफ्टी भी 14 अंकों की बढ़ोतरी के साथ हुआ बंद

Sensex up 47 points and nifty closes 14 points up

मुंबई। बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स बुधवार को 47 अंक की बढ़त के साथ 35,739.16 अंक पर बंद हुआ। सॉफ्टवेयर निर्यातक तथा स्वास्थ्य सेवा से जुड़ी कंपनियों के शेयरों की अगुवाई में यह तेजी आई। विनिर्माण तथा खनन क्षेत्रों में अच्छे प्रदर्शन से इस साल अप्रैल में औद्योगिक उत्पादन में 4.9 प्रतिशत की वृद्धि की खबर से लिवाली गतिविधियां देखी गई।

हालांकि खाद्य वस्तुओं के दाम बढऩे से मई में खुदरा मुद्रास्फीति बढक़र 4.87 प्रतिशत होने से चिंता बढ़ी है। तीस शेयरों वाला सूचकांक मजबूती के साथ खुला और घरेलू संस्थागत निवेशकों की सतत लिवाली से एक समय 35,877.41 अंक के उच्च स्तर पर पहुंच गया।

हालांकि बाद में बिकवाली से इसमें कुछ गिरावट आई और अंत में 46.64 अंक या 0.13 प्रतिशत की तेजी के साथ 35,739.16 पर बंद हुआ। इससे पहले, पिछले दो दिनों में सेंसेक्स 248.85 अंक मजबूत हुआ। इसी प्रकार, 50 शेयरों वाला एनएसई निफ्टी 13.85 अंक या 0.13 प्रतिशत की बढ़त के साथ 10,856.70 अंक पर बंद हुआ।

कारोबार के दौरान यह 10,893.25 से 10,842.65 अंक के दायरे में रहा। अस्थायी आंकड़ों के अनुसार घरेलू संस्थागत निवेशकों (डीआईआई) ने कल 1,327.45 करोड़ रुपए मूल्य के शेयर खरीदे जबकि विदेशी संस्थागत निवेशकों ने 1,168.88 करोड़ रुपए मूल्य के शेयर बेचे। वैश्विक स्तर पर एशिया के बाजारों में मिला-जुला रुख रहा जबकि शुरूआती कारोबार में यूरोप के प्रमुख बाजारों में तेजी देखी गई। निवेशकों को अमेरिकी फेडरल रिजर्व के नीति निर्णय की प्रतीक्षा है।

अब व्यापार मुद्दों को इस तरह से सुलझाएंगे भारत और अमेरिका, दोनों देश हुए राजी

India, United States agreed to a comprehensive dialogue to resolve trade issues

वॉशिंगटन। भारत और अमेरिका व्यापार व आर्थिक मोर्चे पर विभिन्न मुद्दों के समाधान के लिए आधिकारिक स्तर की विस्तृत बातचीत करने पर राजी हो गए हैं।  यह फैसला अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के उस बयान के बाद आया है जिसमें उन्होंने भारत पर कुछ अमेरिकी उत्पादों पर 100 प्रतिशत शुल्क लगाने का आरोप लगाया था। भारत के वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु की अमेरिका के वाणिज्य मंत्री विल्बर रॉस और अमेरिका के व्यापार प्रतिनिधि रॉबर्ट लाइटहाइजर के साथ कई बैठकों के दौरान इस संबंध में निर्णय किया गया है।

कल अपनी दो दिवसीय अमेरिका यात्रा की समाप्ति पर प्रभु ने यहां भारतीय पत्रकारों से कहा कि अब हम द्विपक्षीय व्यापार को आगे बढ़ाने के लिए एकसाथ मिलकर काम करेंगे। प्रभु ने कहा कि दोनों देशों के बीच आर्थिक और व्यापार संबंधों से जुड़े मुद्दों को सुलझाने के लिए व्यापक चर्चा शुरू करने और संबंधित विवरणों पर काम करने के लिए भारत एक आधिकारिक टीम भेजेगा।

यह टीम अगले कुछ सप्ताह में आएगी। उन्होंने माना कि दोनों पक्षों के बीच व्यापार और शुल्क से जुड़ी कुछ समस्याए हैं और अधिकारी उन सब मुद्दों पर बातचीत करेंगे। जी-7 शिखर सम्मेलन में शामिल होने गए अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने कनाडा के क्यूबेक सिटी में भारत समेत दुनिया भर की शीर्ष अर्थव्यवस्थाओं पर निशाना साधा था और भारत पर कुछ अमेरिकी उत्पादों पर 100 प्रतिशत का शुल्क लगाने का आरोप लगाया था। अमेरिका में भारत के राजूदत नवतेज सिंह सरना ने कहा कि भारत ने इस्पात और एल्युमीनियम शुल्क पर अमेरिका को चिट्ठी लिखी है। प्रभु ने रॉस और लाइटहाइजर के अलावा कृषि मंत्री सोनी पर्डयू के साथ भी वार्ता की।

उन्होंने दो शक्तिशाली सांसदों जॉन कॉर्नन और मार्क वॉर्नर से भी मुलाकात की। भारतीय दूतावास ने बैठकों के बारे में कहा कि  बैठकें दोस्ताना और सौहार्द्रपूर्ण माहौल में हुई। साथ ही इसमें एक-दूसरे के विचारों को सराहा गया। वार्ता दोनों देशों के बीच वाणिज्यिक और द्विपक्षीय संबंधों पर केंद्रित थी। इसमें दोनों पक्षों की चिंताओं को दूर करने के लिए तरीके खोजने पर ध्यान केंद्रित किया गया। इसमें कहा गया है कि इस संदर्भ में, दोनों देशों के वरिष्ठ अधिकारी शीघ्र ही मुलाकात करेंगे। इसमें दोनों पक्षों के हितों से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की जाएगी और विचार-विमर्श का सकारात्मक और रचनात्मक परिणाम निकलेगा। अपने दौरे में सुरेश प्रभु ने भारत-अमेरिका व्यापार परिषद (यूएसआईबीसी) और भारत-अमेरिका सामरिक भागीदारी मंच (यूएसआईएसपीएफ) द्वारा आयोजित बैठकों में व्यापार और उद्योग जगत के प्रमुख व्यक्तियों को संबोधित किया और अन्य भागीदारों के साथ भी बैठक की। 

प्रियंका और दीपिका के बाद अब यह एक्ट्रेस करना चाहती हैं हॉलीवुड में एंट्री

Kajol wants to work in Hollywood

मुंबई। बॉलीवुड में अपने संजीदा अभिनय के लिए मशहूर एक्ट्रेस काजोल हॉलीवुड फिल्मों में काम करना चाहती है। बता दें बॉलीवुड एक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा और दीपिका पादुकोण ने हॉलीवुड फिल्मों में काम किया है। काजोल भी अब हॉलीवुड फिल्मों में काम करना चाहती है।

डिज्नी पिक्सर के 'इनक्रेडिबल्स 2’ के हिन्दी वर्जन की डबिंग के बाद काजोल ने हॉलीवुड फिल्मों में काम करने की इच्छा जाहिर की है। काजोल ने कहा है कि वह पश्चिम की दुनिया को एक्सप्लोर करने और हॉलीवुड की फिल्मों में काम करने के लिए तैयार हैं। अभी हाल में ही सिगापुर के मैडम टुसॉड्स म्यूजियम में काजोल का मोम का पुतला लगाया गया है। इसकी लॉन्चिंग खुद काजोल ने की थी। काजोल ने कहा, मैं हॉलीवुड फिल्मों में काम करना पसंद करुंगी।

वैसे मेरे दिमाग में कोई विशेष शैली नहीं, यह डिपेंड करता है कि फिल्म की स्क्रिप्ट मुझे अपील करती है या नहीं। मैं वही सवाल यहां भी करुंगी जो मैं बॉलीवुड का कोई भी प्रॉजेक्ट करने से पहले हिन्दी फिल्मों के लिए करती हूं।

वैसे बता दें एक्ट्रेस काजोल ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत महज़ 16 साल की उम्र में ही कर दी थी। उनकी पहली बॉलीवुड डेब्यू फिल्म बेखुदी थी। काजोल बॉलीवुड की बैक टू बैक कई हिट फिल्मों में काम किया है। लोगों ने फिल्‍मों में शाहरुख़-काजोल की जोड़ी बेहद पसंद किया गया। शाहरुख़-काजोल एक साथ कई हिट फिल्मों में काम कर चुके है।

पीएनबी घोटाला : अदालत ने चार आरोपियों की जमानत याचिका की खारिज

PNB scam: Court rejects bail plea of four accused

​​​​​​​मुंबई। सीबीआई की विशेष अदालत ने पंजाब नेशनल बैंक घोटाला मामले के चार आरोपियों की जमानत याचिका मंगलवार को खारिज कर दी। इसी मामले में हीरा व्यापारी नीरव मोदी भी आरोपी है। अदालत ने जिन चार आरोपियों की जमानत खारिज की है, वे हैं नीरव मोदी समूह का अधिकृत हस्ताक्षरी हेमंत भट्ट, अर्जुन पाटिल, फायरस्टार इंटरनेशनल (नीरव मोदी की कंपनी) का वरिष्ठ कार्यकारी, फर्म का पूर्व वित्त प्रबंधक मितेन पांड्या और फायरस्टार इंटरनेशनल में तत्कालीन सहायक महाप्रबंधक (ऑपरेशनंस) मनीष बोसमिया।

सीबीआई ने पीएनबी घोटाला मामले में इन चारों को मार्च में गिरफ्तार किया था। चारों आरोपियों ने जमानत याचिका में कहा कि उनके खिलाफ आरोपपत्र दाखिल हो चुका है, ऐसे में उन्हें हिरासत में रखने की आवश्यकता नहीं है। लेकिन सीबीआई के विशेष जज जे . सी . जगदले ने जमानत याचिका खारिज कर दी।

बता दें कुछ महिनों पहले मुंबई में स्थित पंजाब नेशनल बैंक की ब्रांच से 11 हजार करोड़ रुपए का घोटाला सामने आया था। जिसके बाद शेयर बाजार और बैंकिंग सेक्टर में हड़कंप मची गई थी। इस मामले में पीएनबी ने सीबीआई से अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी, उनकी पत्नी, भाई और उनके एक बिजनेस पार्टनर के खिलाफ शिकायत दर्ज चुकी है। अापको बता दे की नीरव मोदी अब तक फरार है। बताया गया की घोटाले में पीएनबी के करीबन दो कर्मचारियों का हाथ बताया जा रहा है।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 
loading...

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.