10 सितंबर: एक क्लिक में पढ़ें दिनभर की 10 बड़ी खबरें

Samachar Jagat | Monday, 10 Sep 2018 04:45:29 PM
today's top ten news

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

विपक्ष का बंद विफल, खीज मिटाने के लिए विपक्ष हिंसा पर उतार: बीजेपी

Opposition fails to get rid of anger: Opposition slams on violence: BJP

नई दिल्ली। बीजेपी ने पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों में लगातार वृद्धि और बढती महंगाई के विरोध में कांग्रेस एवं कुछ विपक्षी दलों द्बारा आहूत बंद को विफल करार देते हुए सोमवार को कहा कि जनता का साथ नहीं मिलने से गुस्से एवं खीज में आकर विपक्ष हिसा पर उतारू हो गया है और देश में खौफ का माहौल बना रहा है।

बीजेपी के वरिष्ठ नेता एवं केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि लोकतंत्र में  विरोध का अधिकार सबके पास होता है लेकिन ये विरोध हिसा से किया जा रहा है। देशभर में पेट्रोल पंप जलाए जा रहे हैं। बसें और कारें तोड़ी जा रही हैं।

बिहार के जहानाबाद में बंद समर्थकों की भीड़ द्बारा एम्बुलेंस रोके जाने के कारण एक मासूम बच्ची की मौत हो गई है। उन्होंने पूछा कि आखिर इस हिसा और उस बच्ची की मौत का कौन जिम्मेदार है। प्रसाद ने कहा कि जनता बंद के साथ नहीं खड़ी है। इससे कांग्रेस और विपक्ष के लोग गुस्से में खीज कर हिसा कर रह हैं।

देश में खौफ का माहौल बनाया जा रहा है। जनता का समर्थन नहीं मिलने पर उग्रता से बंद कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार इस समस्या का समाधान निकालने का प्रयास कर रही है। जनता को पता है कि इस समस्या के लिए सरकार जिम्मेदार नहीं है।

वेनेजुएला में राजनीतिक अस्थिरता, ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंध और अमेरिका में शेल गैस का उत्पादन नहीं होने के अलावा दुनिया में तेल उत्पादन में कमी आना और उससे उपलब्धता की कमी मूलत: इस संकट का कारण है। यह एक ऐसी समस्या है जिसका निराकरण हमारे हाथ में नहीं है।

उन्होंने कहा कि सरकार ने महंगाई पर काबू किया है। 2014 में  मुद्रास्फीति 10.4 प्रतिशत थी जो आज 4.7 प्रतिशत है। सरकार ने आयकर सहित विभिन्न करों में रियायत दी है और ग्रामीण सड़कों, ग्रामीण विद्युतीकरण, मनरेगा, खाद्य सब्सिडी आदि में खूब व्यय किया है। आयुष्मान भारत में दस करोड़ परिवारों को 5 लाख रुपए प्रतिवर्ष का स्वास्थ्य बीमा दिया जाना है।

मोदी सरकार ने 5 करोड़ अति गरीबों का जीवन स्तर सुधारा है। उन्होंने कहा कि इस बारे में सार्थक बहस होनी चाहिए। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रसाद ने उन्हें चुनौती देते हुए कहा कि एक महान अर्थशास्त्री डॉ. सिंह को विनम्र प्रस्ताव देते हैं कि इस बार संसद में वे आर्थिक विषय पर उन जैसे बीजेपी के मामूली कार्यकर्ता से तथ्यों के आधार पर बहस कर लें।

उन्होंने कहा कि हिसा से साबित हो गया है कि बंद विफल रहा है। पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क घटाने, राज्यों में वैट कम करने और पेट्रोलियम पदार्थों को वस्तु एवं सेवा कर में लाने के बारे में सवालों के जवाब में प्रसाद ने कहा कि सरकार ने अक्टूबर 2017 में उत्पाद शुल्क में कटौती की थी। वैट कम करना राज्यों का विवेकाधिकार है तथा जीएसटी परिषद एक स्वतंत्र निकाय है जिसमें सभी राज्य सर्वानुमति से फैसला लेते हैं। 

जनता से जुड़े मुद्दों पर कुछ नहीं बोलते मोदी: राहुल

Modi does not speak on issues related to public: Rahul

नई  दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला करते हुए सोमवार को कहा कि वह लगातार बोलते रहते हैं और देश उनके भाषणों से तंग आ गया है लेकिन आम नागरिक अपनी पीड़ा से जुड़े जिन मुद्दों पर उनसे सुनना चाहता है उस पर वह खामोश रहते हैं।

गांधी ने पेट्रोल और डीजल की आसमान छूती कीमतों के विरोध में कांग्रेस के‘भारत बंद’के दौरान सोमवार को यहां रामलीला मैदान में आयोजित धरना प्रदर्शन को संबोधित करते हुए कहा कि मोदी शासन में देश को बांटने का काम हो रहा है और जनता से जुड़े सवालों का जवाब देने के लिए कोई तैयार नहीं है। मोदी सरकार में किसान, गरीब, युवा, सब परेशान हैं और सिर्फ 15-20 बड़े उद्योगपति मित्रों को रास्ता दिखाया जा रहा है। परेशान किसान अगर बैंकों से कर्ज मांगता है तो उन्हें कर्ज नहीं दिया जाता लेकिन मोदी के चहेते एक उद्योगपति को आसानी से बैंकों से 45 हजार करोड़ रुपए का कर्ज मिल जाता है। 

उन्होंने कहा कि सरकार में आने से पहले मोदी ने पूरे देश में घूमते थे और कहते थे कि पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ रहे हैं, लेकिन आज बेतहाशा बढ़ रही तेल की कीमतों पर वह एक शब्द नहीं कहते हैं। तब वह रुपये में गिरावट को लेकर सरकार पर तीखा हमला करते थे लेकिन आज डॉलर के मुकाबले रुपया लगातार गिर रहा है और इतना नीचे चला गया है कि 70 साल में इससे पहले यह इतना कमजोर कभी नहीं रहा लेकिन मोदी इस पर एक भी शब्द बोलने के लिए तैयार नहीं हैं। 

गांधी ने कहा कि मोदी किसी भी विषय पर कुछ नहीं बोलते हैं। संसद में जब राफेल विमान सौदे को लेकर सवाल किए जाते हैं, तो प्रधानमंत्री जवाब नहीं देते हैं। महिलाओं के साथ बलात्कार होता है और भारतीय जनता पार्टी विधायक उसमें शामिल होते हैं, तब भी प्रधानमंत्री कुछ नहीं कहते। उन्होंने आरोप लगाया कि जनता से जुड़े सवालों का जवाब देने की बजाय  मोदी और उनकी सरकार देश को जाति,धर्म, क्षेत्र के नाम पर बांटने का काम कर रही है और उसकी इस नीति की वजह से जगह-जगह  हिंसा हो रही है।

नौ अक्टूबर से मुशर्रफ के खिलाफ देशद्रोह के मामले की हर रोज होगी सुनवाई 

Hearing on every day of treason against Musharraf will be held from October 9

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के पूर्व तानाशाह जनरल परवेज मुशर्रफ के खिलाफ देशद्रोह के मामले की सुनवाई कर रही एक विशेष अदालत ने सोमवार को नौ अक्टूबर से मामले की दैनिक सुनवाई का फैसला किया। पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज (पीएमएल-एन) की पूर्ववर्ती सरकार ने नवंबर, 2007 में संविधानेत्तर आपातकाल लागू करने को लेकर पूर्व सैन्य शासक के खिलाफ 2013 में देशद्रोह का मामला दर्ज किया था।

न्यायमूर्ति यावर अली की अगुवाई वाले तीन सदस्यीय न्यायाधिकरण ने सोमवार को मामले की कार्यवाही को स्थगित करते हुए कहा कि दुबई में रह रहे पूर्व राष्ट्रपति के खिलाफ नौ अक्टूबर से प्रतिदिन सुनवाई होगी। न्यायमूर्ति अली ने गृह मंत्रालय से लिखित रूप में यह बताने को कहा है कि मुशर्रफ को किस तरह अदालत में पेश किया जा सकता है।

न्यायमूर्ति अली ने अभियोजन पक्ष के वकील नसीर-उद-दीन नैयर से कहा कि वे कोर्ट को बताएं कि क्या मुशर्रफ का बयान वीडियो लिक के जरिए रिकॉर्ड किया जा सकता है या नहीं। मुशर्रफ लौटने का वादा कर 18 मार्च, 2016 को चिकित्सा उपचार के लिए दुबई चले गए थे।

कुछ माह बाद एक विशेष अदालत ने उन्हें भगोड़ा अपराधी घोषित करते हुए उनकी संपत्ति जब्त करने का निर्देश दिया था। मुशर्रफ सुरक्षा कारणों का हवाला देकर तभी से पाकिस्तान लौटने से मना कर रहे हैं। पूर्व राष्ट्रपति के वकील ए शाह ने कहा कि मुशर्रफ सुरक्षा कारणों से अदालत में पेश नहीं हो सकते हैं।

उन्होंने कहा कि मुशर्रफ की तबीयत ठीक नहीं है और दुबई के चिकित्सकों ने उन्हें यात्रा की अनुमति नहीं दी है। शाह ने कहा कि सरकार अगर मुशर्रफ को राष्ट्रपति के स्तर की सुरक्षा उपलब्ध कराएगी तो वे अदालत में पेश हो सकते हैं।

मोदी और हसीना करेंगे रेल परियोजनाओं का शुभांरभ

Modi and Hasina will inaugurate rail projects

ढाका। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बंग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना सोमवार को वीडियो कांफ्रेंभसग के जरिए दो रेल परियोजनाओं का शुभारंभ करेंगे। रविवार को जारी आधिकारिक बयान के अनुसार मोदी और  हसीना कुलौरा-शाहबाजपुर और अखौरा-अगरतला रेल परियोजनाओं का शुभारंभ करेंगे। इन परियोजनाओं में आने वाले खर्च को दोनों देश वहन करेंगे।

कुलौरा-शाहबाजपुर की 53 किलोमीटर लंबी डबल गेज लाइन रेल परियोजना से ट्रांस एशियन रेलवे नेटवर्क के तहत दोनों देश एक दूसरे से रेल के जरिए जुड़ जाएंगे। इस परियोजना पर 678.5 करोड़ टके का अनुमानित खर्च आएगा। इसमें से 556 करोड़ टके का लाइन ऑफ क्रेटिड भारत सरकार वहन करेगी जबकि शेष राशि का वहन बंगलादेश सरकार करेगी।

अखौरा-अगरतला रेल परियोजना 10 किलोमीटर लंबी डबल गेज लाइन रेल परियोजना है। इस योजना में 240.4 करोड़ टके का अनुमानित खर्च आयेगा। इस परियोजना को अकेले भारत सरकार क्रियान्वित करेगी। 

जोकोविच ने तीसरा अमेरिकी ओपन खिताब जीता, सम्प्रास की बराबरी की

Djokovic won the third American Open title

न्यूयार्क। नोवाक जोकोविच ने जुआन मार्तिन देल पोत्रो को हराकर तीसरा अमेरिकी ओपन खिताब जीत लिया और पीट सम्प्रास के 14 ग्रैंडस्लैम खिताब की भी बराबरी कर ली। आठवीं बार अमेरिकी ओपन फाइनल खेलने वाले जोकोविच ने 6.3, 7.65, 6.3 से जीत दर्ज की।

वे 2011 और 2015 में भी यहां खिताब जीत चुके हैं और अब ग्रैंडस्लैम खिताब के मामले में रफ़ेल नडाल से 3 और रोजर फ़ेडरर से 6 खिताब पीछे हैं। सर्बिया के इस खिलाड़ी ने पिछले साल कोहनी की चोट की वजह से यहां नहीं खेला था। 

दुनिया के पूर्व तीसरे नंबर के खिलाड़ी देल पोत्रो 9 वर्ष पहले अमेरिकी ओपन जीतने के बाद दूसरी ही बार किसी ग्रैंडस्लैम के फाइनल में पहुंचे थे। अर्जेंटीना के इस प्रतिद्बंद्बी पर जोकोविच की ये 15वीं और ग्रैंडस्लैम में पांचवीं जीत थी। जोकोविच की इस जीत के बाद गत 55 में से 50 ग्रैंडस्लैम 'बिग फोर’ यानी फ़ेडरर , नडाल, जोकोविच या एंडी मरे ने जीते हैं।

भारी बारिश के कारण आर्थर एशे स्टेडियम की छत बंद कर दी गई थी। जोकोविच ने पहले ही सेट में 5.3 से बढत बना ली। उसने 22 शाट की रेली के बाद पहला सेट अपनी झोली में डाला। देल पोत्रो ने दूसरे सेट में वापसी की कोशिश की लेकिन नाकाम रहे। तीसरे सेट में देल पोत्रो काफी थके हुए नजर आए और जोकोविच ने सेट के साथ मैच जीत लिया। 

सिंधू की नजरें जीत पर, साइना और प्रणीत ने नाम वापिस लिया

Sindhu eyes eyes, Saina and Praneeth retract their names

तोक्यो। एशियाई खेलों की रजत पदक विजेता भारतीय बैडमिंटन स्टार पी वी सिंधू  कल से यहंा शुरू हो रहे जापान ओपन में फाइनल हारने का अपना सिलसिला खत्म करने के इरादे से उतरेगी। सिंधू ने इस साल सभी बड़े टूर्नामेंटों में रजत पदक जीता जिनमें राष्ट्रमंडल खेल, विश्व चैम्पियनशिप और एशियाई खेल शामिल है।

ओलंपिक रजत पदक विजेता सिंधू लंबे समय से फाइनल की बाधा पार नहीं कर पा रही है । वह यहंा अपने अभियान का आगाज जापान की सयाका ताकाहाशी के खिलाफ करेगी। यहां क्वार्टर फाइनल में उनका सामना तीन बार की विश्व चैम्पियन कैरोलिना मारिन या जापान की अकाने यामागुची से हो सकता है।

एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीतने वाली साइना नेहवाल ने सात लाख डालर ईनामी राशि के इस बीडब्ल्यूएफ विश्व टूर सुपर 750 टूर्नामेंट से नाम वापिस ले लिया। किदाम्बी श्रीकांत और एच एस प्रणय भी विश्व चैम्पियनशिप और एशियाई खेलों में मिली नाकामी का गम दूर करने के इरादे से उतरेंगे। श्रीकांत का सामना पहले दौर में चीन के हुआंग यूशियांग से होगा जबकि प्रणय इंडोनेशिया के जोनाथन क्रिस्टी से खेलेंगे जिन्होंने एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता। 

समीर वर्मा का सामना कोरिया के ली डोंग कियुन से होगा। बी साई प्रणीत ने टूर्नामेंट से नाम वापिस ले लिया है। पुरूष युगल में राष्ट्रमंडल खेलों के रजत पदक विजेता सात्विक साइराज रांकीरेड्डी और चिराग शेट्टी का सामना जापान के ताकेशी कामुरा और केइगो सोनोडा से होगा। 

मनु अत्री और बी सुमीत रेड्डी की टक्कर मलेशिया के गोह वी शेम और तान वी कियोंग से होगी। महिला युगल में अश्विनी पोनप्पा और एन सिक्की रेड्डी का सामना चांग यि ना और जुंग क्युंग युन से होगा। मिश्रित युगल में प्रणाव जेरी चोपड़ा और सिक्की रेड्डी का सामना इंडोनेशिया के तोंतोवी अहमद और लिलियाना नात्सर से होगा।

शेयर बाजार धड़ाम, सेंसेक्स में 468 तो निफ्टी में 151 अंकों की गिरावट

Sensex closes 468 points  and Nifty plunges 151 points

मुम्बई। विदेशी बाजारों से मिले मिश्रित संकेतों के बीच डॉलर के मुकाबले भारतीय मुद्रा की रिकॉर्ड गिरावट, कच्चे तेल की कीमतों में उबाल और घरेलू स्तर पर इससे मचे सियासी घमासान के दबाव में हुई चौतरफा बिकवाली से सोमवार को घरेलू शेयर बाजार में एक फीसदी से अधिक की गिरावट दर्ज की गई। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 467.65 अंक की भारी गिरावट के साथ 38,000 अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर से लुढक़ता हुआ 37,922.17 अंक पर और एनएसई का निफ्टी 151 अंक टूटकर 11,438.10 अंक पर बंद हुआ।

शेयर बाजार पर शुरूआत से ही बिकवाली का दबाव रहा। डॉलर के मुकाबले भारतीय मुद्रा के 72.67 रुपए प्रति डॉलर के निचले स्तर पर आने से निवेशकों का उत्साह ठंड़ा रहा। इसके अलावा पेट्रोल और डीजल की लगातार बढ़ती कीमतों के मद्देनजर भारत बंद के आह्वान का भी असर शेयर बाजार पर रहा। अमेरिका और चीन के बीच तनातनी बढऩे की चिंता भी निवेशकों को रही, जिससे सेंसेक्स गिरावट में 38348.39 अंक पर खुला।

कारोबार के दौरान यह 38,354.52 अंक के दिवस के उच्चतम और 37,882.83 अंक के दिवस के निचले स्तर से होता हुआ गत दिवस की तुलना में 1.22 प्रतिशत फिसलकर 37,922.17 अंक पर बंद हुआ। यह 17 अगस्त के बाद का सेंसेक्स का निचला बंद स्तर है। सेंसेक्स की मात्र चार कंपनियों में तेजी रही। निफ्टी की शुरूआत भी गिरावट के साथ 11,570.25 अंक से हुई। यह कारोबार के दौरान 11,573.00 अंक के दिवस के उच्चतम और 11,427.30 अंक के दिवस के निचले स्तर से होता हुआ गत दिवस की तुलना में 1.30 प्रतिशत कमजोर होकर 11,438.10 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 42 कंपनियां गिरावट में और आठ तेजी में रहीं।

दिग्गज कंपनियों की अपेक्षा मंझोली कंपनियों में अधिक बिकवाली हुई। बीएसई का मिडकैप 1.68 प्रतिशत यानी 180.01 अंक की गिरावट में 16,227.84 अंक पर और स्मॉलकैप 1.07 प्रतिशत यानी 180.01 अंक की गिरावट में 16,716.94 अंक पर बंद हुआ। बीएसई के 20 समूहों में से मात्र एक समूह आईटी के सूचकांक में तेजी रही जबकि शेष 19 समूहों में गिरावट दर्ज की गई। बीएसई में कुल 2,927 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें 1,684 में गिरावट, 1049 में तेजी और 194 के शेयरों के भाव अपरिवर्तित बंद हुए।

पेट्रोल, डीजल के दाम रिकार्ड स्तर पर

Petrol, diesel at record level

नई दिल्ली। पेट्रोल और डीजल की कीमत में तेजी सोमवार को भी बनी रही और रुपए की विनिमय दर में गिरावट की वजह से आयात महंगा होने से यह नई ऊंचाई पर पहुंच गई। सार्वजनिक क्षेत्र की खुदरा ईंधन कंपनियों द्बारा अधिसूचना नयी दरों के मुताबिक पेट्रोल का भाव सोमवार को 23 पैसे लीटर और डीजल 22 पैसे लीटर बढ़ गया है।

इससे दिल्ली में पेट्रोल 80.73 रुपए लीटर की रिकार्ड ऊंचाई पर पहुंच गया है जबकि डीजल 72.83 रुपए प्रति लीटर के भाव पर पहुंच गया है। दिल्ली में कर की दरें कम होने से ईंधन की कीमत सभी महानगरों तथा राज्यों की राजधानी में सबसे कम है।

उल्लेखनीय है कि पट्रोल और डीजल के दाम में तेजी को लेकर कांग्रेस के आह्वान पर विपक्षी दलों ने सोमवार को 'भारत बंद’’ का आयोजन किया। विपक्ष ईंधन को सस्ता करने के लिए कर घटाने की मांग कर रहा है। 
सोमवार को अमेरिकी डालर के मुकाबले रुपया कारोबार के दौरान करीब 94 पैसा टूटकर 72.67 रुपए के न्यूनतम स्तर पर चला गया।

अगस्त के मध्य से पेट्रोल की कीमत 3.65 रुपए लीटर जबकि डीजल 4.06 रुपए लीटर महंगा हुआ है। इसका प्रमुख कारण अमेरिकी डालर के मुकाबले रुपए के रिकार्ड न्यूनतम स्तर पर पहुंचना है। खुदरा ईंधन की कीमत में करीब आधा हिस्सा केंद्रीय तथा राज्यों के कर का है।

तेल कंपनियों के अनुसार रिफाइनरी में पेट्रोल की लागत करीब 40.50 रुपए लीटर है जबकि डीजल 43 रुपए लीटर बैठता है। केंद्र फिलहाल पेट्रोल पर 19.48 रुपए लीटर जबकि डीजल पर 15.33 रुपए प्रति लीटर उत्पाद शुल्क वसूलती है।

इसके ऊपर राज्य सरकारें मूल्य वद्धिर्त कर (वैट) लगाती हैं। सबसे कम वैट अंडमान निकोबार द्बीपसमूह में है। वहां दोनों ईंधन पर छह प्रतिशत कर वसूला जाता है। वहीं मुंबई में पेट्रोल पर वैट सर्वाधिक 39.12 प्रतिशत जबकि तेलंगाना में डीजल पर सर्वाधिक 26 प्रतिशत वैट है। दिल्ली में पेट्रोल और डीजल पर वैट क्रमश: 27 प्रतिशत और 17.24 प्रतिशत है।

इरफान के साथ अभी काम नहीं करेंगी दीपिका

Deepika will not work with Irfan Khan

मुंबई। बॉलीवुड की डिंपल गर्ल दीपिका पादुकोण अभी इरफान खान के साथ काम नही करेगी। दीपिका की इस वर्ष फिल्म 'पद्मावत’ प्रदर्शित हुई है। इस फिल्म के बाद दीपिका इरफान खान के साथ फिल्म सपना दीदी में काम करने वाली थी। फिल्म को विशाल भारद्बाज बनाने वाले थे। फिल्म को लंबे वक्त के लिए टाल दिया गया है। कहा जा रहा है कि फिल्म के लिए जो साइनिंग अमाउंट दीपिका को दिया था वो दीपिका ने वापस कर दिया है।

दीपिका के साइनिंग अमाउंट लौटाने की वजह इरफान खान और पर्सनल कमिटमेंट हैं। इरफान इन दिनों अपनी बीमारी का लंदन में इलाज कर रहे हैं और उन्हें पूरी तरह से ठीक होने लंबा समय लगेगा, वहीं नवंबर में दीपिका की शादी होने की खबरें जोरों पर हैं। ऐसे में दीपिका के लिए फिल्म को टाइम दे पाना मुश्किल होगा। दीपिका ने विशाल से कहते हुए साइनिंग अमाउंट वापस किया है, जब इरफान वापस आएंगे वो तब साथ काम करेंगी। फिल्म की जब तक कोई डेट सामने नहीं आती तब तक साइनिंग अमाउंट रखना दीपिका को ठीक नहीं लगा।

आपको बता दें कि इसस पहले दीपिका ने महिलाओं को कुछ सलाह भी दी है। अभिनेत्री दीपिका पदुकोण का मानना है कि महिलाओं को कभी-कभी अपनी जिम्मेदारियों से छुट्टी लेनी चाहिए और इसके लिए खुद को दोषी नहीं मानना चाहिए। 32 वर्षीय स्टार का कहना है कि 'परफ़ेक्ट’ बनने के प्रयास में महिलाएं अपने ही बारे में सोचना बंद कर देती है। उनका कहना है, ''मुझे लगता है कि अलग-अलग भूमिकाएं निभाने के दौरान महिलाओं में खुद को दोषी मानने का चलन बहुत ज्यादा है। वह हमेशा 'परफ़ेक्ट’ बनने की कोशिश करती हैं।

मुझे लगता है कि अपने लिए समय निकालना बहुत जरूरी है और वह भी खुद को दोषी माने बगैर।’’ दीपिका का कहना है, ''महिलाएं हमेशा किसी ना किसी के लिए कुछ ना कुछ करने को लेकर चिंता में रहती हैं। अपने लिए समय निकालना एकदम सामान्य है।’’ फिक्की लेडिज ऑर्गेनाइजेशन (एफएलओ) की ओर से शनिवार को 'फाइंडिंग ब्यूटी इन इम्परफ़ेक्शन’ शीर्षक पर आयोजित चर्चा के दौरान अभिनेत्री ने यह बात कही। करीब चार साल पहले अपने अवसाद के बारे में खुलकर बात करने वाली अभिनेत्री का कहना है कि लोगों को अपनी बातें साझा करने से शर्माना नहीं चाहिए क्योंकि उनकी बातें सुनकर समस्या से ग्रस्त अन्य लोगों को प्रेरणा मिलती है।

खुद को असफल हीरो नहीं मानते हैं गोविंदा, वरूण शर्मा को मानते प्रतिभाशाली इंसान

Govinda does not consider himself a failed hero

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता गोविंदा खुद को असफल हीरो नहीं मानते हैं। गोविंदा को फिल्म इंडस्ट्री में आए हुए तीन दशक से अधिक समय हो गया है। काफी समय से गोविंदा की फिल्में बॉक्स ऑफिस पर सफलत नही रही है। गोविंदा की फिल्म 'फ्राइडे’ जल्द ही प्रदर्शित होने वाली है। गोविंदा ने कहा वह खुद को कभी भी असफल हीरो नहीं मानते, भले उनका समय कैसा भी रहा हो, लेकिन उन्होंने काम लगातार किया है।

गोविंदा ने कहा , मेरा यह सोचना है कि कोई एक्टर तब तक फ्लॉप नहीं है या फिर वह तब तक खत्म नहीं है, जब तक वह स्वयं न मान ले कि हां अब मैं खत्म हो गया हूं। मैं तो न कभी हारा हूं, न डरा हूं और न ही कभी पीछे मुड़कर देखा हूं। समय चाहे जैसा रहा हो, हम तो भैया काम किए जा रहे हैं। मेरी इस सफलता की वजह है, भगवान शिव की कृपा और मेरी मां का आशीर्वाद। वहीं दूसरी तरफ बॉलीवुड के जाने माने अभिनेता गोविंदा वरूण शर्मा को प्रतिभाशाली इंसान मानते हैं और उनका कहना है उन्हें उनके साथ काम करने में मजा आता है।

गोविंदा ने वरुण शर्मा के साथ आने वाली फिल्म 'फ्राइडे’ में काम किया है। गोविंदा ने कहा, वरुण के साथ फिल्म में काम कर मुझे काफी मजा आया है। वह प्रतिभाशाली और अनुशासित इंसान हैं। उन्होंने कहा कि आज के समय में रणवीर सिंह भी बेहतरीन कलाकार हैं। गोविंदा ने कहा, रणवीर के साथ मैंने फिल्म किलदिल में काम किया था। रणवीर बेहद मेहनती कलाकार हैं। वे बेहद जूनूनी और स्वाभाविक अभिनेता हैं जुनून ही प्रतिभाशाली व्यक्ति को सफलता के मार्ग पर ले जाता है। बता दें कि 'फ्राइडे’ 12 अक्टूबर को रिलीज होगी।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 


Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.