17 मईः एक क्लिक में पढ़े 10 बड़ी खबरें

Samachar Jagat | Thursday, 17 May 2018 04:23:49 PM
today top ten news

येद्दियुरप्पा: एक लिपिक जिसने सत्ता के गलियारे में बड़ा मुकाम हासिल किया

karnataka-cm-yeddyurappa-oath-taking-ceremony

बेंगलुरु। सरकारी लिपिक के तौर पर साधारण सी पहचान रखने वाले और एक हार्डवेयर की दुकान के मालिक बी एस येद्दियुरप्पा आज तीसरी बार कर्नाटक के मुख्यमंत्री बने हैं। अपने राजनीतिक सफर में येद्दियुरप्पा ने तमाम विपरीत परिस्थितियों में किसी मंजे हुए नेता की तरह चुनौतियों का सामना किया और उन पर जीत हासिल की। 

आरएसएस के निष्ठावान स्वयंसेवक रहे 75 वर्षीय बूकानाकेरे सिद्धलिंगप्पा येद्दियुरप्पा महज 15 साल की उम्र में दक्षिणपंथी हिंदूवादी संगठन में शामिल हुए। जनसंघ से अपनी राजनीतिक पारी की शुरुआत कर वह अपने गृहनगर शिवमोगा जिले के शिकारीपुरा में भाजपा के अगुवा रहे। 1970 के दशक के शुरूआत में वह शिकारीपुरा तालुका से जनसंघ प्रमुख बने। 

वर्तमान में शिवमोगा लोकसभा सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे येद्दियुरप्पा वर्ष 1983 में शिकारीपुरा विधानसभा सीट से पहली बार विधायक चुने गये। फिर इस सीट का उन्होंने पांच बार प्रतिनिधित्व किया। 

लिंगायत समुदाय के इस दिग्गज नेता को किसानों की आवाज उठाने के लिये जाना जाता है। अपने चुनावी भाषणों में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इसका बार - बार जिक्र भी कर चुके हैं। कला संकाय में स्नातक येद्दियुरप्पा आपातकाल के दौरान जेल भी गये। उन्होंने समाज कल्याण विभाग में लिपिक की नौकरी करने के बाद अपने गृहनगर शिकारीपुरा में एक चावल मिल में भी इसी पद पर काम किया। इसके बाद शिवमोगा में उन्होंने हार्डवेयर की दुकान खोली। 

वर्ष 2004 में राज्य में भाजपा के सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरने के बाद येद्दियुरप्पा मुख्यमंत्री बन सकते थे। लेकिन कंाग्रेस और पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा की जद ( एस ) के गठजोड़ से यह संभव नहीं हो सका और तब राज्य की सरकार धरम सिंह के नेतृत्व में बनी। 

अपनी राजनीतिक दूरदर्शिता के लिये पहचाने जाने वाले येद्दियुरप्पा ने कथित खनन घोटाला में लोकायुक्त द्वारा मुख्यमंत्री धरम सिंह पर अभियोग लगाये जाने के बाद वर्ष 2006 में एच डी देवगौड़ा के पुत्र एच डी कुमारस्वामी के साथ हाथ मिलाया और धरम सिंह की सरकार गिरा दी। 

बारी - बारी से मुख्यमंत्री पद की व्यवस्था के तहत कुमारस्वामी मुख्यमंत्री बने और येदियुरप्पा उपमुख्यमंत्री बने। हालांकि 20 महीने बाद ही जद ( एस ) ने सत्ता साझा करने के समझौते को नकार कर दिया, जिसके चलते गठबंधन की यह सरकार भी गिर गयी और आगे के चुनावों का रास्ता साफ हुआ। 
वर्ष 2008 के चुनावों में लिंगायत समुदाय के दिग्गज नेता येद्दियुरप्पा के नेतृत्व में पार्टी ने जीत हासिल की और दक्षिण में पहली बार उनके नेतृत्व में भाजपा की सरकार बनी। 

बहरहाल, येद्दियुरप्पा बेंगलुरु में जमीन आवंटन को लेकर अपने पुत्र के पक्ष में मुख्यमंत्री कार्यालय के कथित दुरुपयोग को लेकर विवादों में घिरे। अवैध खनन घोटाला मामले में लोकायुक्त के उन पर अभियोग लगाया और उन को 31 जुलाई 2011 को इस्तीफा देना पड़ा। 

कथित जमीन घोटाला के संबंध में अपने खिलाफ वारंट जारी होने के बाद उसी साल 15 अक्तूबर को उन्होंने लोकायुक्त अदालत के समक्ष आत्मसमर्पण किया। एक सप्ताह वह जेल में रहे। 

इस घटनाक्रम को लेकर भाजपा से नाराज येद्दियुरप्पा ने पार्टी छोड़ दी और कर्नाटक जनता पक्ष का गठन किया। हालांकि में वह केजेपी को कर्नाटक की राजनीति में पहचान दिलाने में नाकाम रहे लेकिन वर्ष 2013 के चुनावों में उन्होंने छह सीटें और दस फीसदी वोट हासिल कर भाजपा को सत्ता में आने भी नहीं दिया। 

एक तरफ येद्दियुरप्पा अनिश्चित भविष्य के दौर से गुजर रहे थे तो वहीं भाजपा को भी वर्ष 2014 के लोकसभा चुनावों से पहले अपने अभियान को आगे बढ़ाने के लिये एक ताकतवर चेहरे की जरूरत थी । इस तरह दोनों फिर से एक साथ आ गये। 

नौ जनवरी 2014 को येद्दियुरप्पा की केजेपी का भाजपा में विलय हो गया जिसके फलस्वरूप वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने राज्य की 28 में 19 सीटों पर जीत दर्ज की। 

अपने दामन पर भ्रष्टाचार के दाग के बावजूद भाजपा में येद्दियुरप्पा की प्रतिष्ठा और कद बढ़ता गया। 26 अक्तूबर 2016 को उन्हें उस वक्त बड़ी राहत मिली जब सीबीआई की विशेष अदालत ने उन्हें, उनके दोनों बेटों और दामाद को 40 करोड़ रुपये के अवैध खनन मामले में बरी कर दिया। इसी मामले के चलते वर्ष 2011 में उन्हें मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था। 

जनवरी 2016 में कर्नाटक उच्च न्यायालय ने, भ्रष्टाचार रोकथाम अधिनियम के तहत लोकायुक्त पुलिस की ओर से येद्दियुरप्पा के खिलाफ दर्ज सभी 15 प्राथमिकियों को रद्द कर दिया। उसी साल अप्रैल में येद्दियुरप्पा चौथी बार राज्य भाजपा के प्रमुख नियुक्त हुए। 

भ्रष्टाचार के तमाम आरोपों और कांग्रेस के तंज को नजरअंदाज करते हुए भाजपा ने उन्हें अपना मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया। और आज उन्होंने इस पद के लिए शपथ भी ले ली।

लोकतंत्र की हत्या कांग्रेस ने कीः शाह

Congress has killed democracy Shah

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने कर्नाटक में लोकतंत्र की हत्या के कांग्रेस के आरोप पर पलटवार करते हुए आज कहा कि लोकतंत्र की हत्या तब हुई जब निहित स्वार्थ से प्रेरित होकर कांग्रेस ने जनता दल सेकुलर को अवसरवादी प्रस्ताव दिया था।

शाह ने यहां ट्विटर पर कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष को अपनी पार्टी के गौरवशाली इतिहास की याद नहीं है। राहुल गांधी की पार्टी का इतिहास है -भयावह आपातकाल, अनुच्छेद 356 का जम कर दुरुपयोग तथा अदालतों, मीडिया एवं सिविल सोसाइटी का दमन।

उन्होंने कहा कि कर्नाटक में क्या जनादेश आया है। भाजपा को 104 सीटें मिलीं, कांग्रेस की सीटें 78 रह गयीं जबकि उनके मुख्यमंत्री और मंत्री भारी अंतर से पराजित हुए है। जनता दल सेकुलर को केवल 37 सीटें मिलीं हैं और तमाम सीटों पर जमानत तक जब्त हो गयी। लोग बुद्धिमान हैं और सब समझते हैं।

शाह ने कहा कि लोकतंत्र की हत्या उस क्षण हुई थी जब सत्ता की भूखी कांग्रेस ने जनता दल सेकुलर को अवसरवादी प्रस्ताव किया था और वह प्रस्ताव कर्नाटक के कल्याण के लिए नहीं बल्कि उनके निहित राजनीतिक लाभ के लिए था। यह बहुत शर्मनाक है।

देश में भय का वातावरण, संस्थाओं को डराया जा रहा : राहुल गांधी

Atmosphere of fear in the country: rahul

रायपुर। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि देश में भय का वातावरण है तथा सभी संस्थाओं को डराया जा रहा है। राहुल गुरुवार को यहां सरदार बलबीर सिंह जुनेजा इंडोर स्टेडियम में राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के जन स्वराज सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि देश में संविधान पर ‘जबरदस्त आक्रमण’ हो रहा है। कर्नाटक में विधायक एक तरफ हैं तथा एक तरफ राज्यपाल हैं। आप जानते हैं कि कोशिश क्या है। जनता दल सेक्युलर के नेता ने कहा है कि उनके विधायकों को खरीदने के लिए सौ करोड़ रुपए का ऑफर दिया जा रहा है।

राहुल ने कहा कि यदि भ्रष्टाचार की बात करनी है तो राफेल डील के बारे में बात कीजिए, अमित शाह के बेटे के बारे में बात कीजिए और पीयूष गोयल की कंपनी के बारे में बात कीजिए।

उन्होंने कहा कि 70 साल में पहली बार हुआ कि उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश प्रेस के सामने आते हैं और कहते हैं कि हमें काम नहीं करने दिया जा रहा है। हम दबाव में हैं। यह पहली बार किसी लोकतांत्रिक देश में हुआ है। तानाशाही वाले देशों में जरूर होता होगा। पाकिस्तान में होता हो, अफ्रीका के अलग-अलग देशों में होता हो। कभी कोई जनरल आ जाता है और प्रेस तथा कोर्ट को दबा देता है, लेकिन हिंदुस्तान में 70 साल में यह पहली बार हुआ है।

राहुल ने कहा कि इसी तरह प्रेस को दबाने की भी कोशिश की जा रही है। प्रेस के लोग भी डरे हुए हैं। उन्होंने कहा कि यहां हत्या के आरोपी व्यक्ति राष्ट्रीय पार्टी के अध्यक्ष हैं। यहां की सभी संस्थाएं डरी हुई हैं। जो डर जज में है, वही डर प्रेस में है। वहीं, भारतीय जनता पार्टी के एक सांसद से भी बात हो रही थी। वह भी डरे हुए हैं। पूरे देश में डर फैल रहा है। कौन इस डर को फैला रहा है और कौन सी शक्ति इस डर का फायदा उठा रही है।

राहुल गांधी ने कहा कि देश में किसान कर्ज माफी की बात करता है तो वित्त मंत्री अरुण जेटली कहते हैं कि किसानों की कर्ज माफी हमारी पॉलिसी में नहीं है। वहीं, एक साल के भीतर 15 सबसे अधिक अमीर लोगों का ढाई लाख करोड़ रुपए का कर्ज माफ कर दिया जाता है। उन्होंने आरोप लगाया कि देश की सभी संस्थाओं में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के लोगों को नियुक्त किया जा रहा है। ये संस्थाएं देश की आवाज हैं, लेकिन भारतीय जनता पार्टी नहीं चाहती कि देश की जनता की आवाज आगे पहुंचे।

राहुल ने कहा कि वह चाहते हैं कि महिला केवल खाना पकाए, वह चाहते हैं कि दलित केवल सफाई का काम करे। वह पढ़ाई न करे, वह सपना न देखे।
उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान गरीब देश नहीं है। यहां गरीबी है। यहां देश के लाखों करोड़ रुपए 10—15 लोगों में बांट दिए जा रहे हैं। भाजपा और आरएसएस का लक्ष्य है कि देश की महिलाओं और दलितों की आवाज को दबाया जाए और देश का धन चुने हुए कुछ लोगों को दे दिया जाए।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि जब वह उत्तर प्रदेश में भट्टा पारसौल गांव गए थे और जमीन का मामला उठाया था तब उनके उपर सबसे ज्यादा हमले किए गए। हमने कहा था कि जब भी किसानों की जमीन ली जाएगी, पंचायत की अनुमति के बगैर नहीं ली जाएगी, लेकिन जब भाजपा की सरकार आई तब अध्यादेश के माध्यम से इसे खत्म करने की कोशिश की गई।

राहुल ने पंचायती राज संस्थाओं के चुने हुए प्रतिनिधियों से कहा कि हिंदुस्तान के पंचायत संगठन में बहुत ज्यादा शक्ति है। इसे कभी भी कमजोर नहीं होने देंगे। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि यह दो विचारधारा की लड़ाई है। एक तरफ कांग्रेस की विचारधारा है तथा दूसरी तरफ आरएसएस की विचारधारा है। हमको मिलकर खड़े होना है। हमें संविधान की रक्षा करनी है।

राहुल ने पंचायत प्रतिनिधियों से चर्चा के दौरान कहा कि जब केंद्र में कांग्रेस की सरकार आएगी तो उनकी प्राथमिकता शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार होगी जिसमें मोदी सरकार लगातार विफल रही है। किसानों की बेहतरी के लिए काम किया जाएगा। उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार किसानों को बोझ समझती है, लेकिन कांग्रेस उन्हें शक्ति मानती है। इस देश में कोई भी भूखा नहीं रहता, यह किसानों की ही देन है। राहुल छत्तीसगढ़ के दो दिवसीय दौरे पर हैं। अपने पहले दिन के दौरे में उन्होंने कांग्रेस से जुड़े पंचायत प्रतिनिधियों के सम्मेलन को संबोधित किया। 

ट्रंप ने दिया आपत्तिजनक बयान, कुछ प्रवासियों को बताया जानवर

Trump's offensive statement Migrants are described animals

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कुछ अवैध प्रवासियों की तुलना आज‘ जानवर’ से की। उन्होंने अमेरिका के प्रवासी कानूनों को बेकार बताते हुए उनकी आलोचना की और कहा कि केवल योग्यता के आधार पर लोगों को अमेरिका में शरण देनी चाहिए। 

मैक्सिको और कैलिफोर्निया के अधिकारियों पर नाराजगी जाहिर करते हुए ट्रंप ने अमेरिका के  कमजोर प्रवासी कानूनों को मजबूत करने का आह्वान किया। ट्रंप ने व्हाइट हाउस में कैलिफोर्निया सैंक्चुरी स्टेट राउंडटेबल के दौरान कहा, हमारे देश में लोग आ रहे हैं या आने की कोशिश कर रहे हैं। हम उनमें से बहुतों को रोक रहे हैं। आप यकीन नहीं करेंगे कि ये लोग कितने बुरे हैं, ये आदमी नहीं बल्कि जानवर हैं।

उन्होंने कहा, हम उन लोगों को एक स्तर तक देश से बाहर ले जा रहे हैं और इतनी संख्या में बाहर ले जा रहे हैं जो पहले कभी नहीं हुआ। इन कमजोर कानूनों के कारण वे तेजी से देश के अंदर आ रहे हैं, हम उन्हें छोड़ रहे हैं और वे दोबारा आ रहे हैं। यह बेवकूफाना है। 

ट्रंप ने देश में बड़ी संख्या में अवैध प्रवासियों के आने के लिए देश के बेकार कानूनों को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने हाल के महीनों में कंाग्रेस से बार - बार अपील की है कि वह मैक्सिको सीमा पार करके अमेरिका आने वाले प्रवासियों की संख्या रोकने के लिए कड़े कानून लागू करें।

भारत को रक्षा साझेदार घोषित करने से सहयोग बढ़ाने के दरवाजे खुलते हैं : अमेरिका

India opens door to increase cooperation by declaring India as a defense partner: US

वाशिंगटन। पेंटागन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि भारत को ‘‘ बड़ा रक्षा साझेदार ’’ घोषित करने से परस्पर सहयोग के रास्ते खुलते हैं क्योंकि भारत और अमेरिका के नौवहन सुरक्षा , डोमेन संबंधी जागरूकता और आतंकवाद से निपटने जैसे कई मुद्दों पर साझा हित हैं। 

अमेरिका ने वर्ष 2016 में भारत को ‘‘ बड़े रक्षा साझीदार ’’ के रूप में मान्यता दी थी। यह दर्जा मिलने के बाद भारत , अमेरिका से अत्याधुनिक और संवेदनशील प्रौद्योगिकियां खरीद सकता है। रक्षा , एशिया और प्रशांत सुरक्षा मामलों के सहायक मंत्री रैंडल श्राइवर ने सीनेट की विदेश संबंधों की समिति की एक उपसमिति के समक्ष कहा कि भारत और अमेरिका राजनीतिक , आर्थिक और सुरक्षा मामलों में सहज साझेदार हैं। 

उन्होंने कहा , ‘‘ अमेरिका ने वर्ष 2016 में भारत को ‘ बड़ा रक्षा साझेदार ’ घोषित किया था जो रक्षा मामलों खासतौर से रक्षा व्यापार और तकनीक पर सहयोग बढ़ाने के रास्ते खोलता है। ’’ 

उन्होंने कहा कि वैश्विक स्थिरता और नियम आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था के लिए समर्थन की साझा इच्छा के साथ भारत और अमेरिका के नौवहन सुरक्षा , डोमेन संबंधी जागरूकता , आतंकवाद विरोध , मानवीय सहायता और प्राकृतिक आपदाओं तथा अंतराष्ट्रीय खतरों की समन्वित प्रतिक्रिया देने पर साझा हित हैं। 

भारत की विजयी हैट्रिक, मलेशिया को हराया

India's winning hat-trick

डोंगाए सिटी। भारतीय महिला हॉकी टीम ने गुरुवार को अपने पूल मैच में मलेशिया को 3-2 से शिकस्त देकर पांचवें एशियन चैंपियंस ट्रॉफी में विजयी हैट्रिक पूरी कर ली। इस जीत के साथ ही भारत ने फाइनल में भी प्रवेश कर लिया है। 

भारतीय टीम ने जापान के खिलाफ पहला मैच 4-1 और दूसरा मैच चीन से 3-1 से जीता था। भारतीय टीम ने सनराइज स्टेडियम में मलेशिया के खिलाफ तीसरा पूल मैच जीतने के साथ जीत की हैट्रिक लगाई और सर्वाधिक नौ अंकों के साथ तालिका में शीर्ष पर रहते हुए फाइनल के लिए भी क्वालीफाई कर लिया।

भारत के लिए कड़े मुकाबले में गुरजीत कौर ने 17वें, वंदना कटारिया ने 33वें और लालरेमसियामी ने 40वें मिनट में टीम के लिए गोल दागे। मलेशिया के लिए नुरानी राशिद ने 36वें और हानिस ओन ने 48वें मिनट में गोल करते किए, लेकिन भारतीय टीम ने आखिरी तक अपनी बढ़त को बनाए रखा और जीत दर्ज की।

मैच के पहले क्वार्टर में दोनों टीमों ने पेनल्टी कॉर्नर हासिल किए, लेकिन भारत ने शुरूआती मौके को भुनाया और ड्रैग फ्लिकर गुरजीत ने टीम का पहला गोल कर 1-0 की बढ़त दिलाई। टूर्नामेंट की शुरूआत में अभ्यास मैच में मलेशिया को 6-0 से हरा चुकी भारतीय टीम के सामने हालांकि विपक्षी टीम ने कड़ी चुनौती पेश की और भारत के सर्किल में घुसकर उस पर दबाव बनाया। हालांकि भारतीय गोलकीपर ने कई जबरदस्त बचाव किए।

चेन्नई की नजरें शीर्ष पायदान पर

Friday will be match between Chennai Super Kings and Delhi Daredevils

नई दिल्ली। आईपीएल-11 के प्लेऑफ में जगह पक्की करने के बाद महेंद्र सिंह धोनी की चेन्नई सुपरकिंग्स अपने तीसरे खिताब की तरफ देख रही है लेकिन इससे पहले उसकी नजरें तालिका में दूसरे से पहले पायदान पर पहुंचने की हैं जिसके लिये वह शुक्रवार को मेजबान दिल्ली डेयरडेविल्स के खिलाफ उतरेगी।

चेन्नई ने पिछले मैच में शीर्ष पर चल रही सनराइजर्स हैदराबाद को आठ विकेट से हराकर प्लेऑफ में जगह पक्की की थी। दो बार की चैंपियन टीम 12 मैचों में 16 अंकों के साथ दूसरे नंबर पर है और उम्मीद कर रही है कि शेष मैचों में जीत के साथ तालिका में हैदराबाद को अपदस्थ करते हुये शीर्ष पर पहुंच जाए। 

माही की टीम अब सुरक्षित स्थिति और बेहतरीन लय में है, हालांकि उसके सामने शुक्रवार को दिल्ली की टीम होगी जो प्लेऑफ से बाहर हो चुकी है और उसके पास खोने के लिये कुछ नहीं है। अपने घरेलू कोटला मैदान पर दिल्ली घरेलू दर्शकों के सामने निश्चित ही जीत दर्ज करना चाहेगी। दिल्ली ने 12 मैचों में केवल तीन ही जीते हैं और वह छह अंकों के साथ आखिरी पायदान पर है।

दिल्ली ने रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू के खिलाफ अपना पिछला मैच घरेलू कोटला मैदान पर पांच विकेट से हारा था। टीम इस मैच में 181 रन के स्कोर का भी बचाव नहीं कर सकी थी। टीम का प्रदर्शन टूर्नामेंट में बहुत निराशाजनक रहा है लेकिन चेन्नई को उससे सावधान रहना होगा क्योंकि वह उसकी उम्मीदों पर पानी फेर सकती है।

रक्षा सेवाओं के स्पेक्ट्रम के लिए नेटवर्क परियोजना का बजट बढ़ा

Increase budget of network project for spectrum of defense services

नई दिल्ली। सरकार ने रक्षा क्षेत्र के लिए स्पेक्ट्रम के बदले नेटवर्क स्थापित करने की (एनएफएस ) परियोजना का बजट 11,330 करोड़ रुपये बढ़ाने को मंजूरी दे दी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति ने इस आशय के प्रस्ताव को मंजूरी दी। 

सरकारी बयान के अनुसार रक्षा सेवाओं से खास बैंड का स्पेक्ट्रम मुक्त कराने के बदले उनके लिए एक वैकल्पिक दूरसंचार नेटवर्क बिछाने के उद्देश्य से एनएफएस परियोजना का बजट 11,330 करोड़ रुपये बढ़ाने को मंजूरी दी गई है। 

इसके अनुसार बुनियादी ढांचे पर मंत्रिमंडल समिति ने इस परियोजना के लिए जुलाई 2012 में 13,334 करोड़ रुपये से अधिक की मंजूरी दी थी। सार्वजनिक कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) द्वारा कार्यान्वित की जाने वाली परियोजना 24 महीने में पूरी होनी है। बयान के अनुसार एनएफएस परियोजना से रक्षा सेवाओं की संचार क्षमता में व्यापक वृद्धि होगी।

पंजाब एंड सिंध बैंक को चौथी तिमाही में 525 करोड़ रुपये का घाटा

Punjab and Sind Bank loses Rs 525 crore in fourth quarter

नई दिल्ली। सार्वजनिक क्षेत्र के पंजाब एंड सिंध बैंक को बीते वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में 524.62 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ है। डूबे कर्ज के लिए प्रावधान बढ़ने की वजह से बैंक को घाटा हुआ है।

तिमाही के दौरान बैंक की आय 2,122.05 करोड़ रुपये पर लगभग स्थिर रही। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में यह 2,110.11 करोड़ रुपये रही थी। शेयर बाजारों को भेजी सूचना में बैंक ने कहा कि तिमाही के दौरान बैंक का डूबे कर्ज के लिए प्रावधान बढ़कर 738.36 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में यह 464.51 करोड़ रुपये रहा था। 

पूरे वित्त वर्ष 2017-18 में बैंक को 743.80 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है, जबकि इससे पिछले वित्त वर्ष 2016-17 में बैंक ने 201.08 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था। बैंक को बीते वित्त वर्ष की दिसंबर तिमाही में भी 258.25 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था।

रेस 3 के हिट होने पर डांस आधारित फिल्म में काम करेंगे सलमान!

Salman will work in a dance-based movie when Race 3 hits

मुंबई। बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान का कहना है कि रेस 3 के हिट होने पर वह रेमो डिसूजा की डांस पर आधारित फिल्म में काम करेंगे।

रेमो डिसूजा, सलमान खान के साथ मिलकर एक डांस फिल्म करने वाले थे लेकिन फिर वह प्रोजेक्ट बंद हो गया और रेस 3 की खबरें सामने आ गईं। रेस का निर्देशन रेमो डिसूजा कर रहे हैं जिसमें सलमान की मुख्य भूमिका है। सलमान ने बताया कि मैंने रेमो से कहा कि यदि रेस हिट हो जाती है तो हम वह डांस फिल्म भी कर लेंगे। उस फिल्म में भी सलमान- जैकलीन की जोड़ी होगी। 

रेमो ने एक शो में कहा था कि वह सलमान के साथ एक डांस- ड्रामा करना चाहते हैं.. क्योंकि सलमान ने आज तक कुछ ऐसा किया नहीं है। फिल्म का नाम डांसिंग डैडी बताया जा रहा था। फिल्म की कहानी कुछ ऐसी थी कि- सलमान एक विधुर हैं.. और 9 साल की बच्ची के पिता का किरदार निभा रहे हैं। वह अपनी मरती हुई पत्नी से वादा करता है कि अपनी बेटी की हर इच्छा पूरी करेगा। 

अब उनकी बेटी चाहती है कि वो एक डांस कंपटिशन में हिस्सा लें.. और दोनों का नाम भी शामिल करवा देती है। अब कंपटिशन में हिस्सा लेने के लिए उसे डांस सीखना है.. और डांस की ट्रेनिंग उसे देती है जैकलीन फर्नांडीज।

सेंसेक्स 239 अंक लुढ़का, निफ्टी 58 अंक फिसला

मुंबई। अधिकतर विदेशी बाजारों में रही गिरावट के बीच कर्नाटक के चुनाव परिणाम से बढी राजनीतिक गतिविधियों से आशंकित निवेशकों की बिकवाली से बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 238.76 अंक लुढककर 35,149.12 अंक पर और एनएसई का निफ्टी 58.40 अंक फिसलकर 10,682.70 अंक पर बंद हुआ। 

सेंसेक्स की शुरूआत मजबूत रही लेकिन यह पूरे दिन लाल निशान में गोता लगाता रहा। सेंसेक्स बढत के साथ 35,483.62 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान यह 35,510.01 अंक के दिवस के उच्चतम स्तर तक गया लेकिन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में आये उछाल से चालू खाता घाटा बढ़ने की आशंकायें तेज होने और अमेरिकी बांड यील्ड के वर्ष 2011 के उच्चतम स्तर पर पहुंचने से बिकवाली का दौर शुरू हो गया।

निवेशकों के बिकवाल बनने से सेंसेक्स 35,087.82 अंक के दिवस के निचले स्तर से होता हुआ गत दिवस की तुलना में 0.67 प्रतिशत की गिरावट में 35,149.12 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स की सात कंपनियां तेजी में और 22 गिरावट में रहीं जबकि एक कंपनी के शेयरों के भाव अपरिवर्तित रहे।

निफ्टी की शुरूआत भी बढत में रही और यह 10,775.60 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान 10,777.25 अंक के दिवस के उच्चतम स्तर और 10,664.50 अंक के दिवस के निचले स्तर से होता हुआ यह गत दिवस की तुलना में 0.54 प्रतिशत की गिरावट के साथ 10,682.70 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 36 कंपनियां गिरावट में, 13 तेजी में रहीं जबकि एक कंपनी के शेयरों में टिकाव रहा।

बीएसई में छोटी और मंझोली कंपनियों का प्रदर्शन सकरात्मक रहा। निवेशकों का रुझान छोटी और मंझोली कंपनियों में रहा जिससे बीएसई का मिडकैप 0.67 फीसदी यानी 108.14 अंक की तेजी में 16133.00 अंक पर और स्मॉलकैप 0.43 प्रतिशत यानी 75.88 अंक की तेजी में 17,611.89 अंक पर बंद हुआ। बीएसई में कुल 2,754 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें 1,392 में तेजी,1,232 में गिरावट और 130 कंपनियों के शेयरों में स्थिरता रही। 

 



 
loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.