अखबार की सुर्खियों से : पढि़एं, दिनभर की बड़ी खबरें

Samachar Jagat | Tuesday, 21 Mar 2017 07:11:07 AM
अखबार की सुर्खियों से : पढि़एं, दिनभर की बड़ी खबरें

जीएसटी पर चार विधेयकों को मंत्रिमंडल ने दी मंजूरी


नई दिल्ली। देश में 01 जुलाई से वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू करने की ओर बढ़ते हुए सरकार ने इससे जुड़े चार विधेयकों को मंजूरी प्रदान कर दी जिससे अब उसे जारी बजट सत्र में ही संसद में पेश किए जाने का मार्ग प्रशस्त हो गया है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की यहां हुई बैठक में जीएसटी से संबंधित केन्द्रीय वस्तु एवं सेवा कर (सी-जीएसटी) विधेयक, समन्वित वस्तु एवं सेवा कर (आई-जीएसटी) विधेयक 2017, केन्द्र शासित प्रदेश वस्तु एवं सेवाकर (यूटी-जीएसटी) विधेयक 2017 और वस्तु एवं सेवा कर (राज्यों को क्षतिपूर्ति) विधेयक 2017 (मुआवजा विधेयक) को मंजूरी प्रदान की गई। इन चारों विधेयकों को जीएसटी परिषद् पिछले छह महीनों में अपनी विभिन्न बैठकों में अनुमोदित कर चुकी है।

सी-जीएसटी विधेयक में केन्द्र सरकार द्वारा राज्य वस्तु अथवा सेवाओं पर अधिभार एवं कर के संग्रहण के प्रावधान किए गए हैं। आईजीएसटी विधेयक में केन्द्र सरकार द्वारा वस्तु और सेवाओं पर अधिभार एवं कर के संग्रहण के प्रावधान हैं। यूटी-जीएसटी विधेयक में संघ शासित क्षेत्रों में वस्तु एवं सेवाओं पर संग्रहण के अधिभार के प्रावधान किए गए हैं। संविधान के 101वां संशोधन अधिनियम, 2016 के अनुसार, पाँच वर्ष की अवधि के लिए वस्तु एवं सेवाकर के कार्यक्रम के फलस्वरूप राज्यों को होने वाले नुकसान के लिए इस मुआवजा विधेयक में मुआवजे का प्रावधान किया गया है।

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, सरकार वस्तु एवं सेवा कर को जल्द से जल्द लागू करने के लिए वचनबद्ध है। वस्तु एवं सेवा कर परिषद् ने 01 जुलाई से जीएसटी लागू करने का निर्णय लिया है। राज्यों के लिए राज्य वस्तु एवं सेवाकर (एस-जीएसटी) कानून के प्रारूप को भी परिषद् मंजूरी कर चुकी है और अब इस विधेयक को विधानसभाओं से पारित किया जाना है। एस-जीएसटी संघ शासित प्रदेशों में लागू नहीं हो सकता है इसलिए यूटी-जीएसटी विधेयक लाया गया है।

जीएसटी परिषद् में पिछली दो बैठकों में लगी थी मुहर
उल्लेखनीय है कि जीएसटी परिषद् ने अपनी पिछली दो बैठकों में राज्य जीएसटी सहित पांचों विधेयकों के प्रारूप पर अपनी सहमति की मुहर लगा दी थी। राज्य-जीएसटी विधेयक को विभिन्न राज्यों की विधानसभाओं में पारित कराया जाएगा जबकि अन्य चार विधेयक संसद में पारित कराए जाएंगे। सभी विधेयकों के पारित होने पर एक जुलाई से देश में वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) व्यवस्था को लागू किया जा सकेगा। जीएसटी परिषद् ने जीएसटी के तहत चार श्रेणियों में 5, 12, 18 और 28 प्रतिशत की दर तय की हैं।

इस सप्ताह संसद में पेश किए जाएंगे
राज्यों को राजस्व नुकसान की स्थिति में उसकी भरपाई से जुड़े मुआवजा विधेयक, केन्द्र में जीएसटी व्यवस्था को लागू करने के लिए केन्द्रीय जीएसटी (सी-जीएसटी), अंतर राज्यीय व्यापार के लिए एकीकृत जीएसटी (आई-जीएसटी) और केन्द्र शासित प्रदेश के लिए यूटी-जीएसटी विधेयकों को अब संसद में पेश किया जाएगा। सूत्रों के अनुसार इन्हें धन-विधेयक के तौर पर पेश किया जाएगा। सूत्रों ने बताया, ‘जीएसटी से जुड़े पूरक विधेयकों के प्रारूप को मंत्रिमंडल ने मंजूरी दे दी है। इन्हें अब इस सप्ताह संसद में पेश किया जाएगा।’


सीएम बनते ही योगी आदित्यनाथ ने वादों पर काम करना शुरू किया


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के नए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बीजेपी के वादों को पूरा करना शुरू कर दिया है। उनके सीएम बनते ही प्रशासन हरकत में आ गया और रविवार को इलाहाबाद में दो बूचडख़ानों को सील कर दिया।

रविवार रात करेली पुलिस की मौजूदगी में अटाला और नैनी के चकदोंदी मोहल्ले में मानक के विपरीत चल रहे स्लाटर हाउस को ताला लगाकर बंद करने के बाद सील कर दिया। शहर में अटाला के साथ रामबाग और नैनी के बूचडख़ानों को बंद करने का आदेश एनजीटी पहले ही दे चुका है।

250 से ज्यादा अवैध बूचडख़ाने
शहर में करेली स्थित अटाला और कीडगंज के रामबाग में दो तथा नैनी के चकदोंदी मोहल्ले में बूचडख़ाने हैं। मई 2016 में नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) के आदेश पर अवैध रूप से चल रहे बूचडख़ानों के खिलाफ कार्रवाई की गई थी। प्रदेश में 250 से ज्यादा अवैध बूचडख़ाने चिन्हित किए गए हैं जिन्हें नगर निगम और संबंधित विभाग के अफसर कागज पर बंद बता रहे हैं। वास्तविकता यह है कि इन बूचडख़ानों में रोज सैकड़ों जानवर काटे जाते हैं।

यूपी विधानसभा चुनाव के दौरान भारतीय जनता पार्टी ने अवैध रूप से मानक के विपरीत चल रहे बूचडख़ानों को सरकार बनते ही बंद कराने की घोषणा की थी। शपथ लेने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने बूचडख़ानों को बंद कराने की घोषणा को पूरा करने के लिए प्रतिबद्धता जताई। इसके तुरंत बाद नगर निगम प्रशासन रविवार होने के बावजूद हरकत में आ गया और दो बूचडख़ानों को सील कर दिया।

 
पाक में ‘लापता’ हुए मौलवी भारत लौटे


नई दिल्ली। पाकिस्तान में ‘लापता’ हुए हजरत निजामुद्दीन दरगाह के दो मौलवी आसिफ निजामी और नाजिम निजामी सोमवार को सुरक्षित वापस भारत लौट आए। वापस आए मौलवी में से एक नाजिम निजामी ने निर्दोष भारतीयों को दोषी ठहराए जाने के लिए पाकिस्तान की ओर साजिश रचने का इशारा किया है।

उन्होंने खुलासा किया कि पड़ोसी देश पाकिस्तान के एक अखबार ने हमें रॉ एजेंट बताने वाली झूठी खबर छापी थी। निजामी ने बताया, ‘पाकिस्तान में उम्मत नाम के एक अखबार ने हमें टइड का जासूस बताने वाली झूठी खबरें छापी थी। खबर के साथ ही हमारी फोटो भी छापी गई। दोनों मौलवियों ने भारत सरकार द्वारा किए गए प्रयासों के लिए सरकार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, गृह मंत्री राजनाथ सिंह का धन्यवाद किया।

18 मार्च को विदेश मंत्री ने ट्वीट करके बताया था कि दोनों मौलवियों का पता चल गया है और दोनों सुरक्षित हैं, उन्हें जल्द ही वापस भारत लाया जाएगा। वहीं, दोनों मौलवियों की सुषमा स्वराज के साथ मुलाकात भी होनी है। मौलवी आसिफ निजामी और नाजिम निजामी (भतीजे) दोनों ही हजरत निजामुद्दीन दरगाह के प्रमुख मौलवी हैं। दोनों ही 8 मार्च को पाकिस्तान गए थे। दोनों को लाहौर की मशहूर दाता दरबार दरगाह जाना था और फिर वहां से उन्हें कराची के लिए सफर तय करना था। इसके अलावा दोनों को अपने पाकिस्तान स्थित रिश्तेदारों से भी मिलना था। खबरों के मुताबिक, ‘नाजिम लाहौर हवाई अड्डे पर लापता हो गए थे और आसिफ कराची हवाई अड्डा पहुंचने के बाद लापता हो गए थे। भारत ने पाकिस्तान सरकार के साथ नई दिल्ली में और भारतीय उच्चायोग के मार्फत इस्लामाबाद में यह मुद्दा उठाया था। साथ ही पाकिस्तान से इस मुद्दे पर तुरंत कार्रवाई करने का आग्रह किया था।

इससे पहले खबरें आईं थी कि पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई ने दोनों को हिरासत में लिया हुआ है। हालांकि इस बारे में स्थिति अभी स्पष्ट नहीं है। वहीं, मौलवी नाजिम के पाकिस्तान स्थित रिश्तेदार वजीर निजामी ने एक्सप्रेस ग्रुप से बातचीत की थी। बातचीत में उन्होंने बताया था कि लाहौर एयरपोर्ट से उन्हें एक फोन कॉल आया था जिसमें उन्हें बताया गया कि उनके कजिन नाजिम के कुछ कागजात ठीक नहीं है जिसकी वजह से उन्हें एयरपोर्ट पर ही डिटेन किया जा रहा है। इसके बाद वजीर ने यह भी बताया था कि जब वह अपने चाचा आसिफ को लेने लाहौर एयरपोर्ट पहुंचे तो उन्हें पता चला कि कुछ लोग पहले ही आसिफ को अपने साथ लेकर चले गए थे।


कृषि क्षेत्र के विकास पर सरकार की नीयत पर संदेह न करे विपक्ष : मेघवाल


नई दिल्ली। सरकार ने कहा कि वह कृषि और ग्रामीण विकास को सर्वोच्च प्राथमिकता दे रही है और विपक्ष को इस बारे में किसी प्रकार का अंदेशा नहीं करना चाहिए। वित्त राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने लोकसभा में 2016-17 की पूरक अनुदान मांगों पर चर्चा का जवाब देते हुए कहा कि कृषि और ग्रामीण क्षेत्र के विकास पर सरकार की नीयत साफ है और इस बारे में विपक्ष को किसी तरह की आशंका नहीं करनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि सरकार ने 2020 तक किसानों की आय दोगुना करने का लक्ष्य रखा है और उसने कृषि और ग्रामीण क्षेत्र के विकास के लिए बजट राशि में बढ़ोतरी की है। किसानों के लिए दस लाख करोड़ रुपए का कर्ज उपलब्ध कराया गया है और प्रधानमंत्री मुद्रा योजना में गरीबों के लिए कर्ज का प्रावधान किया है।

उनके जवाब के बाद सदन ने चालू वित्त वर्ष की पूरक अनुदान मांगों को ध्वनिमत से मंजूरी दे दी। मेघवाल ने कहा कि विपक्ष प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जिन योजनाओं को नारे बता रहा है, वे मात्र नारे नहीं है। इन योजनाओं से देश बदल रहा है और आगे बढ़ रहा है। मेघवाल ने संविधान निर्माता बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर को उद्धृत करते हुए कहा कि उन्होंने कहा था कि मुद्रा का जमाखोरी के रूप में इस्तेमाल करने से समाज में भ्रष्टाचार जैसी समस्याएं पैदा होती हैं। उन्होंने यह भी कहा था कि देश को राजनीतिक समानता तो मिल गई है लेकिन यदि उसे सामाजिक और आर्थिक समानता नहीं मिलती है तो राजनीतिक समानता भी व्यर्थ हो जाएगी।

 उन्होंने कहा कि वास्तव में समस्या कहीं थी और समाधान कहीं करने की कोशिश की गई। इस संदर्भ में उन्होंने उर्दू के महान शायर गालिब के शेर को उद्धृत किया--’जिंदगी भर इस भूल में जीते रहे गालिब, धूल चेहरे पे थी, आईना‘पोंछते रहे। उन्होंने कहा कि विपक्ष भी यही काम करता रहा और भ्रष्टाचार बढ़ता गया।


यूपी में कर्ज माफी से बैंकों को लगेगी 27420 करोड़ की चपत


मुंबई। यदि उत्तर प्रदेश की नई सरकार चुनाव प्रचार में किए गए वादे के अनुसार किसानों की कर्ज माफी किए जाने से बैंकों को 27,420 करोड़ रुपए तक का नुकसान हो सकता है। इसके अलावा सरकार के राजकोषीय घाटे का गणित भी गड़बड़ा सकता है।

देश के सबसे बड़े सार्वजनिक बैंक एसबीआई की रिपोर्ट में यह बात कही है। बीजेपी ने यूपी चुनाव से पहले अपने मेनिफेस्टो में सत्ता में आने पर किसानों के कर्ज माफ किए जाने का ऐलान किया था। बीजेपी और उसके सहयोगी दलों ने 403 सदस्यों वाली विधानसभा में से 325 सीटें जीत ली हैं, इसके बाद से ही किसानों की कर्ज माफी को लेकर बातें उठने लगी हैं। सोमवार को जारी की गई एसबीआई की रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार कॉमर्शियल बैंकों के 86,241.20 करोड़ रुपए किसानों पर बकाया हैं।

औसतन प्रति कर्जधारक किसान पर बैंकों का 1.34 लाख रुपए तक बकाया है। रिपोर्ट के मुताबिक इनमें से ज्यादातर लोग छोटे और सीमांत किसान हैं। इन्हीं किसानों के कर्ज को माफ किए जाने की बात की जा रही है।

2012 के रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के डेटा के मुताबिक 31 प्रतिशत कृषि लोन सीमांत और छोटे किसानों को (2.5 एकड़ तक की जमीन के मालिक) दिए गए हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि यदि सीमांत और छोटे किसानों के लोन माफ किए गए तो बैंकों को 27,419.70 करोड़ रुपए का नुकसान उठाना होगा।

2011 की सामाजिक-आॢथक और जातिगत जनगणना के अनुसार उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में करीब 40 फीसदी परिवार सीधे तौर पर खेती से जुड़े हुए हैं। इनमें से लगभग 92 फीसदी किसान छोटे और सीमांत किसान हैं। रिपोर्ट के अनुसार 2016-17 में यूपी सरकार का कुल रेवेन्यू 3,40,255.24 करोड़ रुपए रहने का अनुमान है। इस तरह यदि सरकार 27,419.70 करोड़ रुपए का कृषि लोन माफ करती है तो उसे अपने रेवेन्यू में 8 पर्सेंट तक का नुकसान उठाना पड़ेगा।


राज्यसभा में सवाल पूछने और जवाब देने वाले नदारद


नई दिल्ली। राज्यसभा में यूं तो सवाल-जवाब सत्र के दौरान तीखी बहस देखने को मिलती है, लेकिन सोमवार को नजारा कुछ और ही था। ऊपरी सदन में प्रश्नकाल की समाप्ति से कुछ मिनट पहले न तो सवाल पूछने वाले सांसद मौजूद थे और न ही जवाब देने के लिए मंत्री। इस पर जब कांग्रेस की तरफ से सरकार पर तंज कसा गया तो चेयरमैन हामिद अंसारी ने नाखुशी जाहिर की।

हाउस में सोमवार को और दिनों के मुकाबले काफी कम सांसद थे। प्रश्नकाल शुरू होने पर सांसदों की संख्या और कम हो गई। प्रश्नकाल खत्म होने के 3-4 मिनट पहले आलम यह था कि जिन सांसदों के सवाल लिस्टेड थे वे तो गायब थे ही जवाब देने वाले मंत्री तक हाउस में नहीं थे। प्रश्न संख्या 187 तक सवाल- जवाब का सिलसिला चला रहा। फिर जब चेयरमैन ने सोमवार के लिए लिस्टेड सवालों में से प्रश्न संख्या 188 के लिए सांसद के नाम की आवाज लगाई तो सवाल पूछने वाले सांसद सदन में मौजूद ही नहीं थे। इस पर चेयरमैन ने कहा कि क्या जिस मंत्रालय का सवाल है उसके मिनिस्टर मौजूद हैं, जवाब कांग्रेस सांसद जयराम रमेश की तरफ से आया कि मिनिस्टर भी नहीं है। इस पर चेयरमैन ने टिप्पणी की कि यह असाधारण स्थिति है।

इसमें बाद प्रश्न संख्या 189 के लिए सांसद को आवाज लगाई गई और फिर 190 के लिए। इन दोनों सवालों के लिए भी सांसद और मंत्री मौजूद नहीं थे। पूर्व मंत्री जयराम रमेश ने कहा, सर कोई कैबिनेट मिनिस्टर मौजूद नहीं है। चेयरमैन ने कहा कि यह अच्छी बात नहीं है, न सवाल पूछने वाले हैं न जवाब देने वाले। इसके बाद विपक्ष की तरफ से प्रतिक्रिया आनी शुरू हो गई। टीएमसी सांसद सुखेंदु शेखर राय ने कहा कि सरकार के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पास होना चाहिए। नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद ने टिप्पणी की- यह ‘मैक्सिमम मिनिस्टर्स मिनिमम गवर्नेंस’ है।


पाकिस्तान में हिंदू मैरिज एक्ट हुआ पास


इस्लामाबाद। पाकिस्तान में अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय से जुड़े बहुप्रतीक्षित विवाह कानून को राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने मंजूरी दे दी है। इसके बाद यह विधेयक अब कानून बन गया है। इसके बाद अब वहां रहने वाले अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय को विवाह के बाद कानूनी मान्यता मिल सकेगी।

राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद पीएमओ से जारी एक बयान में इसकी पुष्टि करते हुए कहा गया है कि पीएम की सलाह पर पाकिस्तान के राष्ट्रपति ने हिंदू विवाह विधेयक 2017 को मंजूरी दे दी है। इससे पहले 9 मार्च को इसे संसद से मंजूरी मिली थी। कानून को पारित होने से पहले लंबी प्रक्रिया से गुजरना पड़ा है। नेशनल असेंबली में दूसरी बार यह विधेयक पारित हुआ था। इससे पहले पिछले साल सितंबर में संसद ने इस कानून को पारित कर दिया था। लेकिन बाद में सीनेट ने इसमें कुछ बदलाव कर दिए थे।

नियमानुसार, कोई भी विधेयक तभी राष्ट्रपति के पास मंजूरी के लिए भेजा जाता है, जब दोनों सदनों से समान प्रति को ही पारित किया गया हो। दोनों सदनों से विधेयक के अंतिम स्वरूप को मंजूरी मिल गई जिसके बाद इसे राष्ट्रपति के पास भेजा गया। कानून बनने के बाद यह तीन प्रांतों पंजाब, बलूचिस्तान और खैबर पख्तूनख्वा में लागू होगा।

सिंध प्रांत पहले ही अपने यहां हिंदू विवाह अधिनियम लागू कर चुका है। इस कानून को पाकिस्तान में रह रहे अल्पसंख्यक हिदुओं के लिए बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है। अधिनियम के अंतर्गत हिंदुओं को मुस्लिमों के निकाहनामे की तरह शादी के प्रमाण के तौर पर शादीपरत दिया जाएगा। विधवाओं को सरकार से मिलने वाली सुविधाओं का लाभ लेने में शादी का पंजीकरण काम आएगा। शादी के लिए हिंदू जोड़े की न्यूनतम उम्र 18 साल रखी गई है।

कानून के मुताबिक, अलग होने के लिए हिंदू दंपती अदालत से तलाक का अनुरोध भी कर सकेंगे। तलाक ले चुके व्यक्ति को इस कानून के तहत फिर से विवाह का अधिकार दिया गया है। इसके अलावा हिंदू विधवा को पति की मृत्यु के छह महीने बाद फिर से शादी का अधिकार होगा। पाकिस्तान में हिंदुओं की आबादी वहां की जनसंख्या का करीब 1.6 फीसदी है।

भारतीय कानून से कैसे है अलग
पाकिस्तान में हिंदू विवाह अधिनियम वहां के हिंदू समुदाय पर लागू होता है, जबकि भारत में हिंदू मैरिज एक्ट हिंदुओं के अलावा जैन, बौद्ध और सिख समुदाय पर भी लागू होता है। पाकिस्तानी कानून के मुताबिक शादी के 15 दिनों के भीतर इसका रजिस्ट्रेशन कराना होगा। भारतीय कानून में ऐसा प्रावधान नहीं है। इस बारे में राज्य सरकारें कानून बना सकती हैं। पाकिस्तान में शादी के लिए हिंदू जोड़े की न्यूनतम उम्र 18 साल रखी गई है।

 भारत में लडक़े की न्यूनतम उम्र 21 साल और लडक़ी की 18 साल निर्धारित है। पाकिस्तानी कानून के मुताबिक, अगर पति-पत्नी एक साल या उससे अधिक समय से अलग रह रहे हैं और साथ नहीं रहना चाहते, तो शादी को रद्द कर सकते हैं। भारतीय कानून में कम से कम दो साल अलग रहने की शर्त है। पाकिस्तान में हिंदू विधवा को पति की मृत्यु के छह महीने बाद फिर से शादी का अधिकार होगा। भारत में विधवा पुनर्विवाह के लिए कोई समय सीमा तय नहीं है।


हाफिज सईद की याचिका पर सुनवाई टली


लाहौर। नजरबंद किए जाने के खिलाफ आतंकी संगठन जमात-उद-दावा के प्रमुख हाफिज सईद की याचिका पर लाहौर हाईकोर्ट में सोमवार को सुनवाई टाल दी गई। सरकारी वकील ने अदालत में दलील दी कि उन्हें मामले में अपना पक्ष तैयार करने के लिए और समय चाहिए। अब मामले की सुनवाई मंगलवार को होगी।

2008 में हुए मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद और चार अन्य ने खुद को नजरबंद किए जाने के पाकिस्तान सरकार के फैसले के खिलाफ हाई कोर्ट में याचिका दायर की है। न्यायधीश सैयद काजिम रजा शम्सी की अध्यक्षता वाली पीठ ने सरकारी वकील की दलील सुनने के बाद सुनवाई को एक दिन के लिए टाल दिया।

उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान सरकार ने 30 जनवरी को आतंकी हाफिज सईद, मलिक जाफर इकबाल, अब्दुर रहमान आबिद, काजी काशिफ हुसैन और अब्दुल्ला उबैद को आतंकरोधी कानून के तहत नजरबंद करने का आदेश दिया था।

पाकिस्तान ने हाल ही में हाफिज सईद और उसके संगठनों जमात उद दावा व फलह-ए-इंसानियत के 37 आतंकियों का नाम यात्रा प्रतिबंध सूची में भी जोड़ा है। इनको देश से बाहर जाने की अनुमति नहीं होगी।


योगी जिस संप्रदाय से आते हैं, वहां साधु अंत में रमाते हैं धूनी


नई दिल्ली। जिस नाथ सम्प्रदाय से यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ हैं, ऐसी मान्यता है कि उसकी स्थापना आदिनाथ भगवान शिव ने की थी। यह कथा प्रचलित है कि भगवान से ही मत्स्येन्द्रनाथ ने ज्ञान प्राप्त किया था और फिर मत्स्येन्द्रनाथ के शिष्य गोरखनाथ हुए। गोरखनाथ के कारण नाथ संप्रदाय बहुत लोकप्रिय हो गया। उन्होंने बारह पंथी मार्ग बताया जो नाथ संप्रदाय कहलाया। कहा जाता है कि उसी के बाद से इस संप्रदाय को मानने वाले लोग अपने नाम के पीछे नाथ लगाने लगे। मान्यताओं के अनुसार नाथ संपद्राय से जुड़े लोग कान छिदवाते हैं। चूंकि ये गोरखनाथ के अनुनायी होते हैं इसलिए इन्हें गोरखनाथी भी कहा जाता है।

क्या करते हैं नाथ साधु
ऐसी मान्यता है कि नाथ संप्रदाय के साधु-संत, दुनिया भर में भ्रमण के बाद, उम्र के अंतिम चरण में, किसी एक स्थान पर रुकते हैं और वहां अखंड धूनी रमाते हैं। अगर वे ये ना करना चाहें तो हिमालय में खो जाते हैं. बताया गया है कि एक नाथ साधु के हाथ में चिमटा और कमंडल, कान में कुंडल, कमर में कमरबंध, जटाधारी धूनी रमाकर ध्यान करते हैं।  ये योगी अपने गले में काली ऊन का एक जनेऊ भी रखते हैं जिसे सिले कहा जाता है।

गले में एक सींग की नादी रखते हैं, इन दोनों को सींगी सेली कहते हैं। महंत अवैद्यनाथ ने गढ़वाल के विज्ञान स्नातक अजय सिंह बिष्ट को 15 फरवरी 1994 को उत्तराधिकारी बनाया और इस तरह से देश की राजनीति में एक युवा हिंदू नेता योगी आदित्यनाथ का उदय हुआ। चार वर्ष बाद 1998 में योगी आदित्यनाथ नाथ गोरखपुर से चुनाव लड़े और 26 वर्ष की आयु में सांसद बन गए।


कंगारुओं ने तीसरा टेस्ट बचाया


रांची। ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों के जुझारूपन के आगे भारतीय गेंदबाज कोई कमाल नहीं कर सके और स्टीव स्मिथ की टीम ने यहां तीसरा क्रिकेट टेस्ट ड्रा कराके श्रृंखला में दिलचस्पी बरकरार रखी है।

भारत के नौ विकेट पर 603 रन के जवाब में ऑस्ट्रेलिया ने दो विकेट पर 23 रन से आगे खेलना शुरू किया। दूसरी पारी में उसने छह विकेट पर 204 रन बना लिए थे जब दोनों कप्तान ड्रा पर राजी हो गए। ऑस्ट्रेलिया के लिए पीटर हैंडस्कांब और शॉन मार्श ने निर्णायक भूमिका निभाई।

हैंडस्कांब 72 रन खेलकर नाबाद रहे जबकि मार्श ने 53 रन बनाए। दोनों ने पांचवें विकेट के लिए 124 रन जोडक़र ऑस्ट्रेलिया को हार के खतरे से बचाया। इससे पहले कप्तान स्टीव स्मिथ 21 और मैट रेनशॉ 15 सस्ते में आउट हो गए थे। भारत के लिए एक बार फिर रविंद्र जडेजा ने बेहतरीन गेंदबाजी करते हुए 54 रन देकर चार विकेट लिए।

दूसरी ओर ऑस्ट्रेलिया के लिए मोर्चा संभालने वाले हैंडस्कांब ने 200 गेंद खेलकर अपना विकेट नहीं गंवाया। लंच से पहले भारतीय तेज गेंदबाज ईशांत शर्मा खतरनाक दिख रहे थे लेकिन ऑस्ट्रेलिया ने आखिरी दो सत्र में धैर्य के साथ खेलकर हालात संभाल लिए। अब श्रृंखला 1-1 से बराबरी पर है और चौथा टेस्ट 25 मार्च से धर्मशाला में खेला जाएगा जो पहली बार किसी टेस्ट की मेजबानी करेगा। दोनों टीमों के बीच मैदानी तनाव का नजारा यहां भी देखने को मिला। रेनशॉ और ईशांत के बीच तीखी बहस हो गई जिसके बाद ईशांत ने सलामी बल्लेबाज को पगबाधा आउट किया।


चेतेश्वर पुजारा और रिधिमान साहा की मैराथन साझेदारी के दम पर कल भारत बढत लेता नजर आ रहा था लेकिन हैंडस्कांब और मार्श ने आज दबाव का बखूबी सामना करते हुए उम्दा पारियां खेली।

अच्छी खासी तादाद में मैच देखने के लिए जमा दर्शकों में पूर्व कप्तान और रांची के लाड़ले महेंद्र सिंह धोनी भी शामिल थे। स्टार ऑफ स्पिनर आर अश्विन का खराब फार्म भारत के लिए चिंता का सबब है जिन्हें दोनों पारियों में एक एक विकेट ही मिला। जडेजा ने पहली पारी में पांच और दूसरी में चार विकेट चटकाए। इससे पहले भारत ने सुबह रेनशॉ और पहली पारी के शतकवीर स्मिथ के विकेट चार गेंद के भीतर ले लिए। पहले सत्र में ऑस्ट्रेलिया का स्कोर चार विकेट पर 63 रन था। इसके बाद ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों ने विकेट पर अंगद की तरह पैर जमा लिए और शतकीय साझेदारी की। इस बीच दूसरे सत्र के दौरान धोनी मैदान पर पहुंचे जो दिल्ली में विजय हजारे टॉफी सेमीफाइनल खेलने के बाद यहां आए थे।

उन्होंने दर्शकों का अभिवादन स्वीकार किया। स्मिथ ने अपने शीर्ष चार गेंदबाजों से अधिकतम ओवर कराए ताकि भारतीय ज्यादा तेजी से रन ना बना सके। भारतीयों ने 200 से अधिक ओवर खेलकर सिर्फ 150 रन की बढत हासिल की। ऑस्ट्रेलिया ने दूसरे सत्र में एक भी विकेट नहीं गंवाया जबकि सुबह के सत्र में दो विकेट गिरे। मार्श और हैंडस्कांब ने संभलकर खेलते हुए भारत की जीत की उम्मीदों पर लगभग पानी फेर दिया। लंच से पहले ऑस्ट्रेलिया ने दो विकेट जल्दी गंवा दिए जब वह भारत के पहली पारी के स्कोर से 69 रन पीछे था। रविं जडेजा ने स्टीव स्मिथ का कीमती विकेट लिया।

तेज गेंदबाजों को नाकाम होते देख विराट कोहली ने लंच के बाद 11वें ओवर में जडेजा को फिर गेंद सौंपी। भारत ने 50वें से 53वें ओवर के बीच लगातार मैडन डाले लेकिन ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज इससे बेपरवाह दिखे चंूकि उनका लक्ष्य विकेट बचाना था। भारत ने 47वें ओवर में हैंडस्कांब के खिलाफ रिव्यू का इस्तेमाल किया जब ऐसा लगा कि करूण नायर ने शार्ट लेग पर उनका कैच लपक लिया है हालांकि अंपायर ने बल्लेबाज के पक्ष में फैसला दिया। सुबह डेढ घंटे तक स्मिथ और सलामी बल्लेबाज मेट रेनशॉ ने धीमा खेला। भारत ने इसके बाद दो लगातार झटके दिए।

जडेजा ने स्मिथ 21 को पवेलियन भेजा और ईशांत शर्मा ने 29वें ओवर में सफलता दिलाई। पहली पारी में नाबाद 178 रन बनाने वाले स्मिथ ने ऑस्ट्रेलिया को 451 रन के स्कोर पर पहुंचाया था। वह जडेजा की गेंद को भांप नहीं सके और अपना विकेट गंवा बैठे। वहीं शर्मा ने रेनशॉ को पिछले ओवर में पवेलियन लौटाया। साइट स्क्रीन के इर्द गिर्द कुछ गतिविधियां देख रेनशॉ ने बल्लेबाजी क्रीज छोड़ दी जिससे खफा ईशांत ने फालो थ्रू में गेंद उनकी ओर फेंक दी।

गेंद उनसे दूर गिरी लेकिन इसके बाद दोनों के बीच छींटाकशी देखी गई। स्टीव स्मिथ भी बीच में कूद पड़े जिसे देखकर अंपायर ने भारतीय कप्तान विराट कोहली से हालात को काबू करने की जिम्मेदारी सौंपी। शर्मा ने इसके बाद रेनशॉ को बाउंसर डाले जिससे वह दबाव में दिखे। उन्होंने फुल लैंग्थ गेंद पर बल्लेबाज को पगबाधा आउट किया।


 पुजारा व साहा की साझेदारी बेहतरीन : कोहली
भारतीय कप्तान विराट कोहली ने आज चेतेश्वर पुजारा और रिधिमान साहा के बीच रिकॉर्ड 199 रन की साझेदारी की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने कभी ऐसी साझेदारी नहीं देखी। पुजारा 202 और साहा 117 ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे क्रिकेट टेस्ट में भारत को नौ विकेट पर 603 रन तक ले गए। मैच आज ड्रा पर समाप्त हुआ।

कोहली ने मैच के बाद पुरस्कार वितरण समारोह में कहा कि  केएल राहुल 67 और मुरली विजय 82 ने उम्दा बल्लेबाजी की लेकिन पुजारा और साहा की साझेदारी बेहतरीन रही। उन्होंने कहा कि  हमें लगा नहीं था कि हम 150 रन की बढत बना लेंगे। कल दो विकेट गिरे और हमें लगा कि जीत सकते हैं लेकिन ऑस्ट्रेलियाई बल्लेेबाजों पीटर हैंडस्कांब और शान मार्श को श्रेय देना होगा जिन्होंने 124 रन की साझेदारी की। कोहली ने कहा कि उनकी टीम जीत की स्थिति में पहुंच गई थी।

तीखी बहस के बाद इशांत ने रेनशा को पवेलियन भेजा
भारत और ऑस्ट्रेलिया की चिर प्रतिद्वंद्वी टीमों के बीच आज यहां फिर तनातनी देखने को मिली जब तेज गेंदबाज इशांत शर्मा और युवा सलामी बल्लेबाज मैट रेनशा के बीच यहां तीसरे टेस्ट के पांचवें दिन तीखी बहस हुई। इशांत ने इस बहस के बाद बेहतरीन गेंदबाजी करते हुए दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाज को पगबाधा आउट किया।

इशांत जब ओवर की पहली गेंद फेंकने के करीब थे तो साइटस्क्रीन के पास कुछ गतिविधि देेखकर रेनशा क्रीज से हट गए। लगातार चार ओवर फेंक चुके इशांत ने गेंद रेनशा से कुछ दूरी पर विकेटकीपर के पास फेंकी दी। इसके बाद रेनशा और इशांत के बीच कुछ बहस हुई और अंपायर ने तुरंत कोहली को बुलाया। कुछ मिनट के विलंब के बाद इशांत गेंदबाजी के लिए तैयार हुए और रेनशा को शार्ट गेंद फेंकी जो उनके थाई पैड पर लगने के बाद हेलमेट ग्रिल से टकराई।
अगली गेंद भी बाउंसर थी जिससे रेनशा दबाव में आ गए। इशांत ने इसके बाद फुल लेंथ की गेंद फेंकी जो विकेटों के ठीक सामने बाएं हाथ के इस बल्लेबाज के पैड से टकराई और अंपायर ने उन्होंने पगबाधा आउट करार दिया।

टास हारना कठिन रहा। मैं चोट के कारण फील्डिंग नहीं कर सका जो मेरे लिए आसान नहीं था। इसके बाद हालांकि हमने अच्छी बल्लेबाजी की।उन्होंने पुजारा और साहा की तारीफ करते हुए कहा कि  जब आप सिर्फ एक प्रारूप खेलते हैं तो अपनी उपयोगिता साबित करने के लिए अतिरिक्त प्रयास करते हैं।

पुजारा का टेस्ट बल्लेबाजी में कोई जवाब नहीं। यह उसकी सर्वश्रेष्ठ पारी रही।उन्होंने कहा कि  साहा ने वेस्टइंडीज और कोलकाता के बाद यहां दबाव में उम्दा पारी खेली। वह बेहतरीन खिलाड़ी है और सभी की खुशी में खुश होता है।कोहली ने रविंद्र जडेजा की तारीफ करते हुए कहा कि  उसने अद्भुत गेंदबाजी की। मैने इतने लंबे समय तक किसी को इतनी किफायती गेंदबाजी करते नहीं देखा।

उसे अपनी सीमाएं पता है और उसने इसे ध्यान में रखकर खेला।ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ ने मार्श और हैंडस्कांब की प्रशंसा करते हुए कहा कि यह अच्छा टेस्ट था। मैं अपने खिलाडिय़ों के प्रदर्शन से बहुत खुश हूं। उन्होंने जबर्दस्त धैर्य और जुझारूपन दिखाया। पहली पारी में बड़ा स्कोर बनाना जरूरी था हालांकि हम कुछ रन पीछे रह गए। 450 रन इस मैच को जीतने के लिए नाकाफी थे। उन्होंने टेस्ट टीम में वापसी करने वाले ग्लेन मैक्सवेल और पैट कमिंस के बारे में कहा कि मैक्सवेल का प्रदर्शन जबर्दस्त था। हम उससे ऐसी ही अपेक्षा कर रहे थे। कमिंस ने लंबे समय बाद टेस्ट क्रिकेट खेली और अच्छी गेंदबाजी की।


मुझे अपने खिलाडिय़ों पर गर्व : स्मिथ


ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ ने भारत के खिलाफ तीसरा टेस्ट सोमवार को ड्रा होने के बाद कहा कि लय अब उनकी टीम के साथ है और उन्हें अपने खिलाडिय़ों पर गर्व है।

स्मिथ ने संवाददाता सम्मेलन में कहा आज जब खेल शुरू हुआ तो भारत को उम्मीद थी कि वह ऑस्ट्रेलिया को ऑल आउट कर देगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ। मुझे अपने खिलाडिय़ों पर गर्व है कि उन्होंने विपरीत परिस्थितियां होने के बावजूद संघर्षपूर्ण बल्लेबाजी कर मैच को ड्रॉ करा दिया। अब धर्मशाला में होने वाला आखिरी टेस्ट बहुत ही रोमांचक होगा।

उन्होंने कहा पीटर हैंड्सकोंब और शॉन मार्श ने बहुत ही उम्दा बल्लेबाजी की। दोनों एक निश्चित योजना के साथ खेले और शानदार डिफेंस दिखाया। हमने टीम मीटिंग में तय किया था कि विकेट एक साथ नहीं गंवाने हैं और हैंंड्सकोंब तथा मार्श ने उसी रणनीति के तहत बल्लेबाजी की। कप्तान ने कहा कि उन्हें यह अपेक्षा नहीं थी कि टेस्ट मैच पांच दिनों तक रांची में चलेगा ।


और इस अच्छे विकेट के लिए श्रेय ग्राउंडसमैन को जाता है। जब भी भारत और ऑस्ट्रेलिया खेलते हैं तो दोनों टीमों के बीच थोड़ा बहुत तनाव रहता है पर यह टेस्ट सही भावना से खेला गया। स्मिथ ने कहा कि उनकी टीम के लिए यह अच्छा संकेत है कि टीम के सभी बल्लेबाज अपना योगदान दे रहे हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि इस टेस्ट में उनकी टीम ने 100 रन कम बनाए। अगर ऑस्ट्रेलिया 550 रन बना लिया होता तो नतीजा कुछ और होता।


रोजर फेडरर पांचवीं बार बने चैंपियन


इंडियन वेल्स। अपनी पुरानी सुनहरी फॉर्म में दिखाई दे रहे स्विटजरलैंड के रोजर फेडरर ने एक बार फिर हमवतन स्टेनिसलास वावरिंका पर अपनी श्रेष्ठता साबित करते हुए यहां इंडियन वेल्स टेनिस टूर्नामेंट में अपना रिकॉर्ड संयुक्त पांचवां खिताब हासिल कर लिया है।

 35 वर्षीय फेडरर ने वावरिंका को लगातार सेटों में 6-4 7-5 से हराया और पांचवीं बार यहां खिताब जीता। वह इसी के साथ इंडियन वेल्स का खिताब पाने वाले सबसे उम्रदराज खिलाड़ी भी बन गए हैं। छह महीने की चोट के बाद वापसी करने और फिर जनवरी में ऑस्ट्रेलियन ओपन के जरिए अपना 18वां ग्रैंड स्लेम जीतने वाले फेडरर ने इंडियन वेल्स में कमाल का प्रदर्शन किया और बिना एक भी सेट गंवाए फाइनल तक पहुंचे।

 वावरिंका से भिड़े थे जहां उन्होंने जीत दर्ज की थी और इस बार भी वावरिंका कोई अपवाद साबित नहीं हो पाए।  इस हाईवोल्टेज मुकाबले में दोनों करीबी दोस्त ओपनिंग सेट में 5-4 के स्कोर पर फिर 10वें गेम तक सर्विस करते रहे जहां फेडरर ने 21 शॉट की रैली के बाद वावरिंका को हराया।

 इंडियन वेल्स के फाइनल में पहली बार पहुंचे 31 वर्षीय खिलाड़ी ने दूसरे सेट में बेहतर खेल दिखाया और सर्विस बचाकर 2-0 की शुरुआती बढ़त ली। लेकिन फेडरर ने अगले तीनों गेम जीते और वावरिंका की 12वें गेम में सर्विस ब्रेक कर 80 मिनट में मैच निपटा दिया। फेडरर अब सर्बिया के नोवाक जोकोविच के बराबर पहुंच गए हैं जिन्होंने पांच बार यहां खिताब जीता है। लेकिन साथ ही फेडरर इंडियन वेल्स को जीतने वाले सबसे उम्रदराज खिलाड़ी बन गए हैं।

उन्होंने इस मामले में जिमी कोनोर को पीछे छोड़ दिया है जिन्होंने 1984 में 31 साल की उम्र में यहां ट्राफी जीती थी। वावरिंका अपने पहले खिताब से चूकने पर कुछ दुखी दिखाई दिए लेकिन दर्शकों ने उनका अभिवादन किया। फेडरर ने जीत के बाद कहा जब गत वर्ष मैं यहां नहीं आ सका था तो दुखी था लेकिन इस बार यहां आकर और जीतकर बहुत खुश हूं। मेरे लिए यह सप्ताह बेहतरीन रहा है।

मैं अभी खेल में फिर से वापसी की कोशिश कर रहा हूं और उम्मीद है कि मैं ऐसा खेल जारी रख सकूं। उन्होंने कहा मैं यहां 17 वर्ष पहले पहली बार आया था तो ऐसे में यहां वापिस आकर और खिताब जीतकर अच्छा लग रहा है। मैं शब्दों में नहीं कह सकता कि यह जीत मेरे लिए कितने मायने रखती है।


मैसी के डबल से जीता बार्सिलोना


बार्सिलोना। अर्जेंटीना के स्टार फुटबालर लियोनल मैसी के धमाकेदार दोहरे गोलों की मदद से बार्सिलोना ने ला लीगा फुटबाल चैंपियनशिप मुकाबले में वेलेंशिया को 4-2 से पराजित कर दिया है।

दो बार की ला लीगा चैंपियन बार्सिलोना ने यहां कैंप न्यू में खेले गए रोमांचक मैच में 10 खिलाडिय़ों वाली वैलेंशिया को दो गोल के अंतर से पराजित किया और अब वह शीर्ष पर चल रही रियाल मैड्रिड से मात्र दो अंक पीछे है। वहीं इससे पहले एक अन्य मैच में एंटोनी ग्रिजमैन ने बेहतरीन फ्री किक से एटलेटिको मैड्रिड को सेविला के खिलाफ विसेंटे काल्डेरोन में हुए मुकाबले में 3-1 से मात दी।

बार्सिलोना और वेलेंशिया के बीच मुकाबला बेहद रोमांचक रहा जिसमें दोनों टीमों ने छह गोल दागे। वहीं वेलेंशिया के लिए अहम भूमिका निभा रहे एलियाक्वीम मंगाला को लुईस सुआरेज के गोल में बाधा डालने और मैच में उनकी दूसरी बुङ्क्षकग के चलते बाहर भेज दिया गया।  मैसी ने मैच के 45वें मिनट में गोल कर बार्सिलोना को बराबरी दिलाई लेकिन कैटालांस से लोन पर आए मुनीर अल हद्दादी ने पहले हाफ के इंजरी टाइम में गोल कर बराबरी दिला दी।

 स्पेनिश क्लब ने दूसरे हाफ में अपना दबदबा बनाया और मैसी ने दूसरे गोल से बढ़त ले ली। पूर्व वेलेंशिया मिडफील्डर आंद्रे गोमेज ने फिर बार्सिलोना के लिए अपना पहला गोल दागा। बार्सिलोना अभी 63 अंकों के साथ तालिका में दूसरे स्थान पर है और रियाल मैड्रिड से दो अंक पीछे है।


बंगाल को हरा कर तमिलनाडु बना चैंपियन


नई दिल्ली। विकेटकीपर दिनेश कार्तिक (112) के शानदार शतक के बाद गेंदबाजों के सधे प्रदर्शन की बदौलत तमिलनाडु ने बंगाल को यहां फिरोजशाह कोटला मैदान में सोमवार को 37 रन से पराजित कर विजय हजारे ट्राफी एकदिवसीय क्रिकेट टूर्नामेंट का खिताब जीत लिया।

 तमिलनाडु ने हालांकि 47.2 ओवर में 217 रन का मामूली स्कोर बनाया लेकिन फिर उसने बंगाल को 45.5 ओवर में 180 रन पर निपटा दिया। वर्ष 2012 के बाद अपना पहला विजय हजारे फाइनल खेल रहे बंगाल के पास खिताब जीतने का अच्छा मौका था। लेकिन उसके बल्लेबाज निर्णायक मौकों पर गलतियां करते चले गए।

तमिलनाडु की पारी में 120 गेंदों में 14 चौकों की मदद से 112 रन की लाजवाब पारी खेलने वाले कार्तिक को मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार मिला। कार्तिक का लिस्ट ए में यह 10वां शतक था और इस शतक ने उनकी टीम को चैंपियन बना दिया। कार्तिक ने तमिलनाडु को चार विकेट पर 49 रन की नाजुक स्थिति से उबारते हुए अकेले अपने दम पर लडऩे लायक स्कोर तक पहुंचाया। चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे कार्तिक 10वें बल्लेबाज के रूप में 48वें ओवर में आउट हुए और इसी के साथ तमिलनाडु की पारी 217 के स्कोर पर समाप्त हुई। कार्तिक मोहम्मद शमी की गेंद पर हिट विकेट के रूप में आउट हुए।

 गंगाश्रीधर राजू चार, कौशिक गांधी 15, बाबा अपराजित पांच और कप्तान विजय शंकर दो रन बनाकर पवेलियन लौट गए। तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने अपनी फिटनेस साबित करते हुए शुरुआत में अपराजित को आउट किया जबकि तेज गेंदबाज अशोक भडडा ने गांधी और राजू के विकेट निकाल दिए।कार्तिक ने बाबा इंद्रजीत (32) के साथ पांचवें विकेट के लिए 85 और फिर वाशिंगटन सुंदर(22) के साथ छठे विकेट के लिए 38 रन की साझेदारी की। इंद्रजीत और सुंदर दोनों ही रन आउट हुए। अश्विन क्रिस्ट ने 10 रन बनाए।

शमी ने निचले क्रम में एम मोहम्मद और आर साई किशोर के विकेट निकाले। उन्होंने कार्तिक को हिट विकेट कराकर मैच में अपना चौथा विकेट लिया। शमी ने 8.2 ओवर में 26 रन पर चार विकेट और डिंडा ने नौ ओवर में 36 रन पर तीन विकेट लिए। कनिष्क सेठ को 59 रन पर एक विकेट मिला। लेफ्ट आर्म स्पिनर प्रज्ञान ओझा 49 रन पर कोई विकेट नहीं निकाल पाए।

लक्ष्य का पीछा करते हुए बंगाल की शुरुआत भी खराब रही। सेमीफाइनल में शतक बनाने वाले अभिमन्यु ईश्वरन इस बार एक और श्रीवत्स गोस्वामी 23 रन बनाकर पवेलियन लौट गए। अग्निव पान का खाता भी नहीं खुल सका। कप्तान मनोज तिवारी 46 गेंदों में तीन चौकों और एक छक्के की मदद से 32 रन बनाने के बाद चौथे विकेट के रूप में 68 के स्कोर पर आउट हुए।

सुदीप चटर्जी (58) और अनुस्तुप मजूमदार(24) ने पांचवें विकेट के लिए 65 रन की साझेदारी की। इस साझेदारी के टूटने पर बंगाल की टीम दबाव में आ गई और उसने इसके बाद जल्दी जल्दी अपने विकेट गंवा दिए। आमिर गनी ने 24 रन बनाए। बंगाल के आखिरी छह विकेट मात्र 47 रन जोडक़र गिर गए। अश्विन क्रिस्ट ने 23 रन पर दो विकेट, एम मोहम्मद ने 30 रन पर दो विकेट और राहिल शाह ने 38 रन पर दो विकेट लेकर बंगाल का पुलिंदा बांध दिया। विजय शंकर , बाबा अपराजित और साई किशोर को एक एक विकेट मिला।
संक्षिप्त स्कोर- तमिलनाडु- 47.2 ओवर में 217
बंगाल-45.5 ओवर में 180 रन


वोडाफोन व आइडिया का होगा विलय


मुंबई। आइडिया सेल्युलर ने सोमवार को वोडाफोन इंडिया और वोडाफोन मोबाइल सॢवसेज के साथ मिलकर देश की सबसे बड़ी दूरसंचार सेवा कंपनी बनाने को मंजूरी दे दी। दोनों के मिलने से जो नई कंपनी बनेगी उसके ग्राहकों की संख्या 39.40 करोड़ तक होगी।

विलय के बाद बनने वाली कंपनी के चेयरमैन कुमार मंगलम बिड़ला होंगे जबकि वोडाफोन इसमें सीएफओ नियुक्त करेगी। आइडिया सेल्युलर निदेशक मंडल की बैठक में इस बारे में निर्णय लिया गया।

आइडिया ने नियामकीय जानकारी में कहा है कि कंपनी ने वोडफोन इंडिया लिमिटेड (वीआईएल) और इसकी पूर्ण स्वामित्व वाली अनुषंगी वोडाफोन मोबाइल सॢवसेज लिमिटेड (वीएमएसएल) के साथ एकीकरण को मंजूरी दे दी है। प्रस्तावित विलय संबंधित प्राधिकरणों से जरूरी मंजूरी मिलने के बाद आगे बढ़ेगा। इसके लिए सेबी, दूरसंचार विभाग और रिजर्व बैंक से मंजूरी लेनी होगी। नियामक को भेजी गई जानकारी के मुताबिक कंपनियों के एकीकरण के बाद वाआईएल के इंडस टावर्स लिमिटेड में किए गए निवेश को छोडक़र वीआईएल और वीएमएसएल का पूरा कारोबार, इसकी अंतरराष्ट्रीय नेटवर्क संपत्ति और सूचना प्रौद्योगिकी प्लेटफॉर्म सभी नई कंपनी के तहत आ जाएगी। वोडाफोन इंडिया का कुल कारोबार 5,025 करोड़ रुपए और वीएमएसएल का 40,378 करोड़ रुपए है।

आइडिया सेल्यूलर का कारोबार 36,000 करोड़ रुपए है। जबकि वीआईएल की नेटवर्थ 12,855 करोड़ रुपए, वीएमएसएल की 3,737 करोड़ रुपए और आइडिया सेल्युलर की 24,296 करोड़ रुपए है।

वोडाफोन-आइडिया विलय साहसी कदम : सीओएआई
सेल्यूलर कंपनियों के संगठन सीओएआई ने आइडिया सेल्यूलर व वोडाफोन इंडिया के विलय को आज ‘साहसी’ कदम करार दिया और कहा है कि एकीकृत मजबूत इकाई सरकार व उपभोक्ता दोनों के लिए फायदेमंद होगी। इसके साथ ही सीओएआई ने उम्मीद जताई है कि इस सौदे को त्वरित मंजूरी मिलेगी। संगठन ने कहा है कि यह विलय न केवल संगठनात्मक परिदृश्य से बल्कि उपभोक्ताओं व सरकार के लिहाज से भी अच्छा होगा। सीओएआई के महानिदेशक राजन मैथ्यूज ने कहा कि यह दोनों कंपनियों की ओर से साहसी कदम है।

 

 ... यह भारत में दीर्घकाल तक बने रहने की उनकी मंशा को दिखाता है। सरकार की दृष्टि से इससे भुगतान के मामले में स्थिरता आएगी क्योंकि एक अधिक मजबूत कंपनी सामने आने वाली है।’

उल्लेखनीय है कि ब्रिटेन की कंपनी वोडाफोन और देश के आदित्य बिड़ला समूह की आइडिया सेल्यूलर ने आज अपने कारोबार के विलय की घोषणा की। उनके विलय से दूरसंचार क्षेत्र में ग्राहक संख्या और राजस्व के लिहाज से सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी अस्तित्व में आएगी।


जीएसटी में ई-कॉमर्स कंपनियां देंगी एक फीसदी तक टीसीएस


नई दिल्ली। स्नैपडील और अमेजन जैसी ई-कॉमर्स कंपनियों को जीएसटी व्यवस्था में अपने आपूॢतकर्ताओं को भुगतान करते हुए अनिवार्य रूप से एक फीसद टीसीएस (स्रोत पर कर संग्रहण) काटना होगा। वस्तु एवं सेवा कर यानी जीएसटी के एक जुलाई से लागू होने की संभावना है।

जीएसटी काउंसिल ने जिस आदर्श जीएसटी कानून को अंतिम रूप दिया है, उसमें ई-कॉमर्स ऑपरेटरों की ओर से एक फीसद टीसीएस कटौती का प्रावधान है। यानी इन ऑनलाइन ऑपरेटरों पर इस बात की जिम्मेदारी होगी कि वे विक्रेताओं के भुगतान में से टैक्स काटकर सरकारी खजाने में जमा कराएं।  उद्योग ने चिंता जताई है कि स्रोत पर कर संग्रहण के प्रावधान से कंपनियों की वॄकग कैपिटल पर प्रतिकूल असर पड़ेगा और वे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए बिक्री से किनारा करेंगी।

विशेषज्ञों ने भी आशंका जताई है कि ऐसा होने पर राज्यों के बीच वस्तुओं की आवाजाही पर भी इतना ही शुल्क लगेगा। इस तरह कुल टीसीएस दो फीसदी हो जाएगी। हालांकि, एक अधिकारी ने कहा किहमने अंतिम आदर्श जीएसटी कानून में तक शब्द का इस्तेमाल किया है। इसका मतबल है कि स्रोत पर कर संग्रहण यानी टीसीएस बिक्री राशि का एक फीसद से ज्यादा नहीं होगी।


मल्टी ब्रांड रिटेल में  मिल सकती है 51 प्रतिशत एफडीआई की छूट


 नई दिल्ली। मल्टी ब्रांड रिटेल में विदेश निवेश की छूट जल्द मिल सकती है। एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक अगर रिटेलर्स घरेलू प्रोडक्ट्स की बिक्री ज्यादा करने की गारंटी दें तो उन्हें एफडीआई लाने की छूट दी जा सकती है।

सूत्रों का कहना है कि मल्टी ब्रांड रिटेल में 51 फीसदी एफडीआई की छूट दी जा सकती है और जल्द ही इस पर फैसला संभव है। मल्टी ब्रांड रिटेल में 51 फीसदी एफडीआई की छूट के लिए रिटेलर्स को 100 फीसदी प्रोडक्ट देश में बनाने की शर्त हो सकती है। मल्टी ब्रांड रिटेल में बैकएंड इंफ्रा में निवेश संबंधी दूसरी शर्तों में ढील दी जा सकती है।

 मल्टी ब्रांड रिटेल में 51 फीसदी एफडीआई की छूट के लिए पिछले हफ्ते पीएमओ में बैठक हुई थी। इस बैठक में नीति आयोग, उद्योग मंत्रालय और वित्त मंत्रालय के अधिकारी भी शामिल थे। बता दें कि यूपीए सरकार ने मल्टी ब्रांड रिटेल में 51 फीसदी एफडीआई का फैसला लिया था, लेकिन मौजूदा सरकार ने फैसले पर अनौपचारिक तौर पर रोक लगा रखी है। सूत्रों का ये भी कहना है कि सरकार की ओर से फूड रिटेल में विदेशी निवेश की शर्तों में भी ढील दी जा सकती है। एफडीआई वाले फूड रिटेल में 25 फीसदी तक नॉन-फूड आइटम रखने की छूट दी जा सकती है। फिलहाल फूड रिटेल में 100 फीसदी एफडीआई की छूट है।


राजस्थान में हवाई सेवाए बढ़ाने के लिए सरकार से समझौता


जयपुर। देश में क्षेत्रीय मार्गों पर हवाई संपर्क (आर.सी.एस.) बढ़ाने की भारत सरकार की महत्वाकांक्षी योजना ‘उड़ान’ के अंतर्गत केन्द्र सरकार और राजस्थान सरकार के बीच एक समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किए गए जिससे जयपुर-जैसलमेर ,बीकानेर-दिल्ली तथा जयपुर-आगरा मार्गों पर हवाई यात्राएं प्रारंभ की जा सकेंगी।

केन्द्रीय नागर विमानन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा की उपस्थिति में रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम के अंतर्गत नई दिल्ली में समझौता पत्र पर राजस्थान के नागरिक उड्डयन विभाग के प्रमुख सचिव पवन कुमार गोयल एवं निदेशक केशरी सिंह तथा केन्द्रीय नागरिक उड्डयन सचिव आर.एन.चौबे, चेयरमैन ए.ए.आई गुरुप्रसाद महापात्र के बीच हस्ताक्षर हुए।

इस बैठक में राजस्थान के अन्य शहरों को जोडऩे वाली विमान सेवाओं को भी जल्द शुरु करने पर चर्चा की गई। बैठक में जयपुर में स्टेट हेंगर के पास वीआईपी टर्मिनल बनाने के लिए भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण की ओर से जमीन आवंटित किए जाने के संबंध में तय हुआ कि इसके लिए भारतीय विमान प्राधिकरण एवं राजस्थान सरकार की टीम संयुक्त रूप से दौरा कर इसका फेैसला करेंगी।

हवाई अड्डों के पास सटे क्षेत्रों में ऊंची इमारतों के निर्माण के संबंध में चर्चा के दौरान श्री सिन्हा ने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा सभी राज्य सरकारों से मानक संचालन प्रक्रिया (एस.ओ.पी.) के अंतर्गत सुझाव लेकर इस संबंध में निर्णय लिया जाएगा।


सूचना प्रौद्योगिकी का अधिक से अधिक इस्तेमाल करें : राजे


जयपुर। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने सूचना एवं प्रौद्योगिकी दिवस 21 मार्च के अवसर पर प्रदेशवासियों को बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए आह्वान किया है कि वे डिजिटल राजस्थान तथा डिजिटल इंडिया को साकार करने के लिए सूचना प्रौद्योगिकी का अधिक से अधिक इस्तेमाल करें।

मुख्यमंत्री ने अपने संदेश में कहा कि राज्य सरकार अपने सभी विभागों को सूचना प्रौद्योगिकी से जोडक़र उनकी कार्यप्रणाली में जवाबदेही, कुशलता एवं पारदर्शिता लाने के लिए प्रतिबद्ध है और इस दिशा में हमारे प्रयासों को राष्ट्रीय एवं अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर सराहा गया है।

उन्होंने कहा कि डिजिटल इंडिया अवार्ड, दी सीएसआई निहिलेंट अवार्ड और दी एक्सपे्रस आईटी अवार्ड जैसे सम्मान राज्य को मिल चुके हैं। हमारे निरन्तर प्रयासों से आज राजस्थान आईटी के क्षेत्र में देश का अग्रणी राज्य बन गया है। राजे ने कहा कि आमजन को कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पारदर्शिता के साथ देना सुनिश्चित करने के लिए इन योजनाओं को भामाशाह प्लेटफॉर्म से जोड़ा गया है।

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2016 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.