व्हाट्सएप स्थानीय कंपनी स्थापित करे, संदेश का स्रोत पकड़ने का समाधान पेश करे: सरकार

Samachar Jagat | Tuesday, 21 Aug 2018 04:16:38 PM
Whatsapp Local Company to Set Up, Provide Solution to Hold Message Source: Government

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। सरकार ने व्हाट्सएप को मंगलवार को सख्ती से कहा कि उसे यदि भारत में काम करना है तो इसके लिए स्थानीय कंपनी बनानी होगी तथा इस एप पर किसी फर्जी संदेश के स्रोत का पता लगाने का तकनीकी समाधान तलाशना होगा।

सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने व्हाट्सएप एव प्रमुख क्रिस डेनियल्स के साथ बैठक के बाद कहा कि फ़ेसबुक के स्वामित्व वाले इस संदेश आदान-प्रदान एप ने इंडिया की डिजिटल अर्थव्यवस्था की कहानी में उल्लेखनीय योगदान किया है।

लेकिन उसे भीड़ के हमले और प्रतिशोध के लिए अश्लील फोटोज प्रेषित करने जैसे दुष्क्रित्यों से निपटने के समाधान तलाशने होंगे। गौरतलब है कि हाल में देश में कुछ स्थानों पर व्हाट्सएप पर अफवाह से जुटी भीड़ ने कुछ लोगों की पीट पीट कर हत्या कर दी।

तब से सरकार ऐसे संदेशों के स्रोत का पता लगाने का समाधान चाहती है। मंत्री ने कहा कि मेरी व्हाट्सएप के सीईओ क्रिस डेनियल्स के साथ सार्थक बैठक हुई है। व्हाट्सएप ने पूरे देश में जागरूकता फैलाने में जो काम किया है, उसके लिए मैं उनकी सराहना करता हूं।

लेकिन भीड़ द्बारा पीट-पीटकर हत्या और बदले की कार्रवाई के तहत अश्लील तस्वीरें बिना साथी के मर्जी के डालने जैसी अहितकर गतिविधियों का समाधान आपको तलाशना होगा जो पूरी तरह आपराधिक और भारतीय कानून का उल्लंघन है।

प्रसाद ने कहा कि उन्होंने व्हाट्सएप से इंडिया में कॉरपोरेट इकाई स्थापित करने, शिकायत निपटान अधिकारी नियुक्त करने और फर्जी संदेश की उत्पत्ति का पता लगाने के लिए तकनीकी समाधान तलाशने को कहा है।

उन्होंने कहा कि मैंने पहले भी इस मामले को उठाया था और कहा था कि सैकड़ों और हजारों की संख्या में प्रसारित होने वाले संदेश के बारे में पता लगाने में कोई 'राकेट साइंस’ नहीं है...आपके पास समाधान के लिए व्यवस्था होनी चाहिए। प्रसाद के मुताबिक फ़ेसबुक की अगुवाई वाली कंपनी ने आश्वस्त किया कि वे इन बिदुओं के अनुपालन की दिशा में काम कर रही है।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.